comScore

कुकरेजा इंफ्रा पर जीएसटी इंटेलिजेंस की कार्रवाई, दस घंटे रिकॉर्ड खंगालती रही टीम

कुकरेजा इंफ्रा पर जीएसटी इंटेलिजेंस की कार्रवाई, दस घंटे रिकॉर्ड खंगालती रही टीम

डिजिटल डेस्क, नागपुर। जीएसटी इंटेलिजेंस द्वारा शुक्रवार-शनिवार को कुकरेजा इंफ्रा पर की गई सर्च कार्यवाही में 10 करोड़ से अधिक की जीएसटी चोरी होने की जानकारी सूत्रों से मिली है। विभाग ने जरूरी दस्तावेज कब्जे में लेने के अलावा पंचनामा भी तैयार किया है। विभाग लंबे समय से नजर बनाए हुआ था और वरिष्ठ स्तर पर अप्रूवल मिलने के बाद ही सर्च कार्यवाही काे अंजाम दिया गया। इधर, कुकरेजा इंफ्रा के विक्की कुकरेजा ने दावा किया कि यह केवल सर्वे है और जीएसटी (कर) चोरी की काेई बात नहीं है। 

एक महीने में रिपोर्ट

जीएसटी इंटेलिजेंस ने शुक्रवार-शनिवार को कुकरेज इंफ्रा के जरीपटका स्थित कार्यालय पर सर्च कार्यवाही कर अहम दस्तावेज कब्जे में लिए। विभाग को शिकायत मिली थी कि बड़े पैमाने पर जीएसटी (कर) चोरी हो रही है। विभाग कई महीनों से जानकारी जुटा रहा था। पुख्ता जानकारी हाथ लगने के बाद विभाग ने सर्च कार्यवाही का निर्णय लिया। जिस तरह से जीएसटी चोरी की शिकायतें मिल रही थीं, सर्च में लगभग वह बातें सामने आने की खबर है। सूत्रों की मानें अब तक की सर्च कार्रवाई में करोड़ों की जीएसटी चोरी का पता चला है। विभाग ने जरूरी दस्तावेज कब्जे में लेने के साथ ही पंचनामा तैयार किया। विभाग एक महीने में अपनी रिपोर्ट तैयार जीएसटी चोरी के लिए जिम्मेदार लोगाें के स्टेटमेंट लेगा। 

100 फीसदी पेनाल्टी का भी नियम

2 करोड़ से ज्यादा की जीएसटी चोरी में डिप्टी कमिश्नर (जीएसटी) सुनवाई करते हैं। 10 करोड़ तक की जीएसटी चोरी की सुनवाई सह आयुक्त और इससे ऊपर की जीएसटी चोरी की सुनवाई कमिश्नर के पास होती हैं। स्टेटमेंट के दौरान अगर कर चोरी स्वीकार की तो पेनाल्टी नहीं लगती। अगर कर चोरी स्वीकार नहीं की तो शो कॉज जारी होकर सुनवाई होती है। दोषी पाए जाने पर कर चोरी की राशि के अलावा 100 फीसदी पेनाल्टी देनी होती है। अब तक की जांच में 10 करोड़ से ज्यादा की जीएसटी (कर) चोरी का मामला होने की खबर है। 

केवल सर्वे हैै, कोई कर चोरी नहीं की 

जीएसटी ने केवल सर्वे किया है, यह रेड नहीं है। जाे दस्तावेज मांगे, वह दिए गए हैं और जीएसटी (कर) चोरी जैसी कोई बात नहीं है। उन्होंने दावा किया कि एक रुपए की भी जीएसटी चोरी नहीं की गई है। विभाग 30 दिन में रिपोर्ट तैयार कर स्पष्टीकरण मांगेगा और हम अपना स्पष्टीकरण दे देंगे। हम नियमित रूप से रिटर्न भरते हैं। पिछले महीने जो ट्रांजेक्शन हुए, उसका 13 लाख 80 हजार का जीएसटी भरना है आैर उसके लिए 20 सितंबर तक का समय है। - विक्की कुकरेजा, कुकरेजा इंफ्रा

कमेंट करें
ZB46T