comScore

शावर का यूज करने से पहले आप भी जान लें ये बातें 

January 12th, 2019 18:40 IST
शावर का यूज करने से पहले आप भी जान लें ये बातें 

डिजिटल डेस्क। हर व्यक्ति के दिन की शुरुआत का महत्वपूर्ण हिस्सा होता है नहाना। बचपन से आपने अपने घर के बड़े बुजुर्गों से नहा कर दिन की शुरूआत करने के बारें में कई बार सुना होगा। इस बात को साइंस भी मानती है, क्योंकि जब भी हम दिन की शुरूआत नहा कर करते हैं, तो पूरे दिन फ्रेशनेस और एनर्जी महसूस करते हैं, लेकिन फ्रेश फील करने के लिए लोग शावर का यूज करते हैं, मगर कई बार आप शॉवर का इस्तेमाल गलर तरीके से कर रहे होते हैं। इससे आपके शरीर पर बुरा असर पड़ता है और इसके बारे में आपको पता भी नहीं होता है। दरअसल, शावर लेने यानि नहाने से त्वचा से गंदगी आसानी से हटाने में मदद मिलती है। इसके साथ ही शावर से शरीर से पसीने की आने वाली बदबू और त्वचा पर जमे बैक्टीरिया को खत्म किया जा सकता है। इसलिए आज हम आपको शावर लेने का सही तरीका बताएगें, जिससे आप वक्त रहते अपनी आदतों में बदलाव कर खुद को हेल्दी रख सकते हैं।

वर्कआउट के बाद अगर आप स्किपिंग शावर लेते हैं तो इससे आपके शरीर में दाने निकल सकते हैं। वर्कआउट करने पर पसीना आता है जिससे बैक्टिरिया पैदा होते हैं। ऐसे में अगर आप शावर लेते हैं तो आपकी बॉडी में दाने आने की संभावना रहती है। इसके आलावा अगर आप हमेशा गुनगुने पानी या गर्म पानी का शावर लेना पसंद करते हैं। तो ये आपकी हेल्थ पर बेहद ही बुरा असर डालती है। 

 
अगर आप रोजाना शावर लेते वक्त सिर्फ 30 सेकेंड कॉन्ट्रास्ट शावर यानि ठंडे पानी के शावर का इस्तेमाल करते हैं। तो इससे आपको ताजगी मिलने के साथ ही तनाव से छुटकारा मिलता है। साथ ही ये आपकी इम्यून सिस्टम को मजबूत बनाता है। 

नहाते समय व्यक्ति को रोजाना बाल नहीं धोना चाहिए क्योंकि इससे कई स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं होने लगती हैं। पतले या कमजोर बाल वाले लोगों को हर रोज बाल धोने से बचना चाहिए। ऐसे लोगों को बस हफ्ते में दो बार बाल धोना चाहिए।

अक्सर हम गीले बालों में तौलिया लपेट लेते हैं जिससे बाल कमजोर होते हैं। ऐसे में और भी आसानी से बाल गिरने की शिकायत होने लगती है। इससे बचने के लिए शावर के बाद कभी भी गीले बालों में तौलिए का यूज न करें।

शावर लेते समय पहले हमेशा उसे साफ करें, अगर आप शावर को साफ किए बिना ही नहाते हैं, तो इससे आपके फेफड़ों पर असर पड़ सकता है। शावर में जमे जीवाणु पानी के जरिए आपके शरीर में अंदर जाने का डर होता है। जिससे आपके फेफड़े संक्रमित हो सकते हैं।

Loading...
कमेंट करें
huFrt
Loading...
loading...