comScore

इमरान खान ने किया पीएम मोदी को फोन, साथ मिलकर काम करने की जताई इच्छा


हाईलाइट

  • पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने पीएम मोदी को फोन पर जीत की बधाई दी
  • इमरान ने दोनों देशों के लोगों की भलाई के लिए साथ मिलकर काम करने की इच्छा व्यक्त की
  • पीएम मोदी ने संयुक्त रूप से गरीबी से लड़ने के लिए अपने पहले के सुझाव का जिक्र किया

डिजिटल डेस्क नई दिल्ली। पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने रविवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को फोन किया और लोकसभा चुनावों में भाजपा की शानदार जीत की बधाई दी। इस दौरान इमरान ने दोनों देशों के लोगों की भलाई के लिए साथ मिलकर काम करने की इच्छा व्यक्त की। उन्होंने एशिया में शांति, प्रगति और समृद्धि के लिए मिलकर काम करने की बात को एक बार फिर से दोहराया। इसके अलावा मालदीव के पूर्व राष्ट्रपति मोहम्मद नशीद और नेपाल के पूर्व पीएम माधव नेपाल ने भी पीएम मोदी से फोन पर बात कर उन्हें जीत की बधाई दी है।

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने इमरान खान के भारतीय पीएम को फोन करने की जानकारी देते हुए कहा, पाकिस्तानी पीएम ने प्रधानमंत्री मोदी को फोन कर लोकसभा चुनावों में जीत पर बधाई दी। पीएम मोदी ने अपनी सरकार की ‘पड़ोसी पहले’ की नीति पर भी बात की और पाक पीएम को संयुक्त रूप से गरीबी से लड़ने के लिए अपने पहले के सुझाव का जिक्र किया। पीएम मोदी ने इमरान खान के साथ अपनी टेलीफोनिक बातचीत में जोर देकर कहा कि क्षेत्र में शांति, प्रगति और समृद्धि के लिए सहयोग को बढ़ावा देने के लिए आतंकवाद और हिंसा से मुक्त वातावरण बनाना जरूरी है।' 


पाकिस्तान के विदेश कार्यालय के प्रवक्ता मोहम्मद फैजल ने भी ट्वीट कर इमरान खान के पीएम मोदी से फोन पर बात करने की जानकारी दी।

इससे पहले जिस दिन पीएम मोदी चुनाव जीते थे, उस दिन इमरान खान ने ट्वीट कर भारतीय पीएम को बधाई दी थी। इमरान खान ने ट्वीट कर कहा था, 'मैं भाजपा और सहयोगियों की चुनावी जीत के लिए प्रधानमंत्री मोदी को बधाई देता हूं। दक्षिण एशिया में शांति, प्रगति और समृद्धि के लिए हम उनके साथ काम करना चाहते हैं।'

पीएम मोदी ने उसी दिन अपने समकक्ष को जवाब दिया था और कहा कि उन्होंने हमेशा क्षेत्रीय शांति और विकास को प्राथमिकता दी है। पीएम ने ट्वीट किया, 'शुक्रिया पीएम इमरान खान। मैं आपकी शुभकामनाओं के लिए हार्दिक आभार व्यक्त करता हूं। मैंने हमेशा क्षेत्र में शांति और विकास को प्राथमिकता दी है।'

बता दें कि 14 फरवरी को पुलवामा में पाकिस्तान स्थित आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के आत्मघाती हमले के बाद भारत और पाकिस्तान के बीच तनाव बढ़ गया था। जैश के हमले के बाद भारत ने जवाबी कार्रवाई करते हुए पाकिस्तान के बालाकोट में घुसकर जैश के ट्रेनिंग कैंपों को तबाह कर दिया था। इसके बाद पाकिस्तान ने नियंत्रण रेखा (एलओसी) पर भारतीय सैन्य सुविधाओं को निशाना बनाने की कोशिश की थी हालांकि भारत ने पाकिस्तान की इस कोशिश को नाकाम कर दिया था और पाकिस्तान के एक F-16 विमान को गिरा दिया था।

इस दौरान एक भारतीय मिग-21 विमान भी पाकिस्तानी सीमा में क्रैश हो गया था और मिग-21 के पायलट अभिनंदन वर्थमान को पाकिस्तानी सेना ने हिरासत में ले लिया था। हालांकि बाद में उन्हें रिहा कर दिया गया था।

कमेंट करें
0dM9B