comScore

बीफ के शक में भीड़ ने पीट-पीटकर मार डाला, 12 नामजद

July 27th, 2017 16:11 IST
बीफ के शक में भीड़ ने पीट-पीटकर मार डाला, 12 नामजद

डिजिटल डेस्क, रामगढ़. झारखंड में एक शख्स को बीफ ले जाने के शक में भीड़ ने पीट-पीटकर मार डाला। मृतक का नाम अलीमुद्दीन है। मामला राज्य के रामगढ़ जिले का है। जहां लोगों को अलीमुद्दीन के पास बीफ होने के शक हुआ। शक के बिनाह पर लोगों ने उसे बेरहमी से पीटा और वैन को आग के हवाले कर दिया गया। 

घटना के बाद राज्य के रामगढ़ जिले में तनाव को देखते हुए धारा 144 लगा दी गई है। वहीं 12 लोगों के ख़िलाफ़ नामजद FIR दर्ज की गई है। एसपी किशोर कौशल का कहना है कि कुछ नामज़द लोगों की गिरफ्तारियां भी हुई हैं। हत्या के बाद इलाके में कड़े सुरक्षा इंतज़ाम किए गए हैं।

गुरूवार को ही देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपने गुजरात दौरे में गोरक्षा के नाम पर हिंसा करने वालों को चेतावनी दी थी। घटना के सामने आने के बाद पूरे देश में आक्रोश है। हर तरफ से देश की कानून व्यवस्था और गोरक्षकों पर सवाल उठाए जा रहे हैं।

कानून व्यवस्था पर उठे सवाल

कांग्रेस नेता पी. चिदंबरम ने इस घटना पर कहा जिस दिन पीएम मोदी गोरक्षों को चेतावनी देते है, उसी दिन झारखंड में भीड़ अलीमुद्दीन को मौत दे देती है। इस बात से साफ हो गया है कि ऐसे लोगों को पीएम मोदी का भी डर नहीं है। अच्छी बात है लेकिन इन्हें ये भी बताना होगा कि वो अपनी बात को कैसे लागू करवाते है।

लेखक चेतन भगत ने गोरक्षकों के नाम कानून को हाथ में लेने वालों पर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि क्या बीफ के नाम पर किसी की भी जान ले लेने वाले खुद की भी जान लेंगे, क्योंकि वो भी तो गाय के चमड़े के बने जूते पहनते हैं। या ऐसा नहीं करेंगे, क्योंकि गाय की खाल उधेड़ना ठीक है, लेकिन मांस खाना गलत।

गुजरात में आईपीएस रहे संजीव भट्ट ने कहा कि आप बलात्कारियों से ऐसा ना करने की अपील नहीं करते हैं, चोंरो से, डकैतों से, कातिलों से भी ऐसे भावनात्मक अपील नहीं की जा सकती है कि आप ऐसा ना करें। उन्हें तुरंत पकड़कर सलाखों के पीछे डाला जाता है, तो फिर आप बीफ के नाम पर हत्या करने वालों से ऐसी उम्मीद क्यों कर रहे हैं।

वहीं पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने भी घटना को दुखद बताया। उन्होंने कहा कि देश में धर्म के नाम पर पैदा होने वाले हिंसक मामले चिंताजनक हैं। वहीं इस मामले पर शहरी विकास मंत्री वैंकया नायडू ने सरकार का पक्ष लेते हए कहा कि घटना को धर्म से जोड़कर ना देखा जाए। पीम मोदी खुद इस तरह कि घटनाओं पर चेतावनी देते आए हैं। इस तरह की घटनाएं देश के अलग-अलग हिस्सों में होती रहीं है और इनका ताल्लुक किसी धर्म से नहीं होता है।

कमेंट करें
UiQt3