comScore
Dainik Bhaskar Hindi

महाराष्ट्र में शराब की खपत बढ़ने से राजस्व में 16.19 प्रतिशत की बढ़ोतरी

BhaskarHindi.com | Last Modified - January 12th, 2019 00:28 IST

1.6k
0
0
महाराष्ट्र में शराब की खपत बढ़ने से राजस्व में 16.19 प्रतिशत की बढ़ोतरी

डिजिटल डेस्क, मुंबई। राज्य में शराब कि बिक्री में तेजी आई है। 1 अप्रैल 2018 से 31 दिसंबर 2018 के दौरान राज्य सरकार को शराब की बिक्री से 10445.15 करोड़ का राजस्व मिला है। जबकि 2017 में इस दौरान 9076.36 करोड़ रुपए राजस्व मिला था। शराब से मिलने वाले राजस्व में 16.19 प्रतिशत की बढ़ोतरी हुई है। आबकारी विभाग से मिली जानकारी के अनुसार वित्तवर्ष 2018-19 के लिए वित्त विभाग ने आबकारी विभाग को शराब की बिक्री से 13340 करोड़ रुपए का राजस्व हासिल करने का लक्ष्य दिया था। जबकि आबकारी विभाग ने 15343.08 करोड़ का अपना लक्ष्य निर्धारित किया है। चालू वित्त वर्ष के नौ महीने में ही 10546.15 करोड़ रुपए का राजस्व हासिल कर लिए गए हैं। यह राशि 2017 की अपेक्षा 16.19 फीसदी ज्यादा है। 

औरंगाबाद सबसे आगे, नागपुर में आई कमी
शराब से राजस्व हासिल करने के मामले में औरंगाबाद विभाग सबसे आगे हैं। जबकि उपराजधानी नागपुर में शराब की बिक्री से मिलने वाले राजस्व में कमी आई है। औरंगाबाद विभाग से दिसंबर 2018 तक 3537.64 करोड़ का राजस्व मिला है। यह आकड़ा गत वर्ष की अपेक्षा 19.59 प्रतिशत ज्यादा है। नागपुर में शराब से मिलने वाले राजस्व में कमी आई है। दिसंबर 2018 तक नागपुर विभाग में 367.10 करोड़ रुपए का राजस्व मिला है। जबकि पिछले साल (2017) में यह आकड़ा 522.01 करोड़ का था। यानि नागपुर विभाग में शराब कि बिक्री से होने वाले राजस्व में 29.67 की गिरावट आई है। जबकि नागपुर विभाग के भंडारा जिले में शराब से राजस्व हासिल करने के मामले में 22.29 प्रतिशत और अकोला में 57.22 प्रतिशत की बढ़ोतरी हुई है।चालू वित्त वर्ष के नौ महीनों के दौरान अकोला में 24.66 करोड़ का राजस्व मिला है। जबकि 2017 में यह आकड़ा 15.69 करोड़ का था।  

आकड़ों के मुताबिक दिसंबर माह में शराब की बिक्री से सबसे ज्यादा राजस्व (1425.81 करोड़) मिला, जबकि सबसे कम अप्रैल (959.58 करोड़) में राजस्व हासिल हुआ। आबकारी विभाग के एक अधिकारी ने बताया कि औरंगाबाद में शराब, बीयर व वाईन फैक्टियां ज्यादा होने के कारण वहां से अधिक राजस्व आता है। 

विभाग        लक्ष्य                  राजस्व हासिल             अंतर
(2018-19)          (दिसंबर 2018 तक)     (दिसंबर 2017)

नागपुर      882.91 करोड़        367.10                     - 29.67 %
औरंगाबाद 48824  करोड़       3537.64                    +19.59 %
नाशिक     2208.26 करोड़     1883.80                    +37.94 %
ठाणे         2699.33 करोड़     1632.80                    +15.27%


 

समाचार पर अपनी प्रतिक्रिया यहाँ दें l

ये भी देखें
Survey

app-download