comScore
Dainik Bhaskar Hindi

आर्मी में शामिल होंगे 6 अमेरिकन APACHE हेलीकॉप्टर , रात में भी उड़ सकेंगे

BhaskarHindi.com | Last Modified - June 13th, 2018 17:51 IST

1.9k
0
0
आर्मी में शामिल होंगे 6 अमेरिकन APACHE हेलीकॉप्टर , रात में भी उड़ सकेंगे

News Highlights

  • अमेरिका ने भारत को 93 करोड़ डॉलर में 6 AH-64 E अपाचे अटैक हेलीकॉप्टर बेचने के सौदे को मंजूरी दी।
  • AH-64 E हेलीकॉप्टर के सहयोग से भारत की रक्षा क्षमता बढ़ेगी।
  • भारत और अमेरिका के बीच द्विपक्षीय रक्षा कारोबार साल 2008 से करीब शून्य से 15 अरब डॉलर तक बढ़ा है।
  • अपाचे हेलीकॉप्टर ब्रिटेन, अमेरिका सहित 19 देशों के पास है।


डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। इंडियन आर्मी के बेड़े में जल्द ही 6 अमेरिकन अपाचे अटैक हेलीकॉप्टर शामिल होने वाले हैं। अमेरिका ने भारत को 93 करोड़ डॉलर में 6 AH-64 E अपाचे अटैक हेलीकॉप्टर बेचने के सौदे को मंजूरी दे दी है। अमेरिकी रक्षा मुख्यालय पेंटागन ने कहा कि इससे अंदरूनी और क्षेत्रीय खतरों से मुकाबले के लिए भारत को मजबूती मिलेगी। इन हेलीकॉप्टरों की खासियत है कि वह अपने आगे लगे सेंसर की मदद से रात में भी उड़ान भर सकते हैं। 


बता दें कि जल्द ही खरीदने की प्रक्रिया आगे बढ़ने की उम्मीद है। अपाचे हेलीकॉप्टर के अलावा इस डील में अग्नि नियंत्रण रडार, हेलफायर लॉन्गबो मिसाइल, स्टिंगर ब्लॉक I-92H मिसाइल, नाइट विजन सेंसर और इनर्शियल नेविगेशन सिस्टम्स की बिक्री भी शामिल है। पेंटागन की डिफेंस सिक्योरिटी कोऑपरेशन एजेंसी ने इस संबंध में विदेश मंत्रालय के फैसले को लेकर कांग्रेस को सूचित किया है। 
 

आधुनिक होगा सैन्य बल

पेंटागन की ओर से कहा गया कि AH-64 E के सहयोग से भारत की रक्षा क्षमता बढ़ेगी और सैन्य बल आधुनिक होगा। उपकरणों की प्रस्तावित बिक्री और सहयोग से क्षेत्र में मूलभूत सैन्य संतुलन नहीं बिगड़ेगा। बता दें कि भारत और अमेरिका के बीच द्विपक्षीय रक्षा कारोबार साल 2008 से करीब शून्य से 15 अरब डॉलर तक बढ़ा है। अगले दशक तक सैन्य आधुनिकीकरण पर भारत सरकार अरबों खर्च कर सकती है। अमेरिका की तरफ से कहा गया कि ऐसी बिक्रियों से ना सिर्फ हमारे रक्षा सहयोग को समर्थन मिलेगा, बल्कि इनसे देश के अंदर नौकरियां भी पैदा होंगी।  


बीते सालों में अमेरिका ने सरकारी स्तर पर भारत को सी -17 परिवहन विमान, यूजीएम -84 एल हारपून मिसाइल, सपोर्ट फॉर सी -130जे सुपर हरक्युलिस विमान, 155 मिमी लाइट- वेट टोड होवित्जर और रासायनिक, जैविक, रेडियोलॉजिकल और परमाणु सहयोग उपकरण बेचे हैं। अपाचे हेलॉकॉप्टरों की बिक्री के लिए मुख्य अमेरिकी ठेकेदार कंपनियों में अमेरिकी हथियार, उड़ान कंपनी और इंजीनियरिंग कंपनी लॉकहीड मार्टिन, जनरल इलेक्ट्रिक और रेथॉन शामिल हैं।

क्या है अपाचे हेलीकॉप्टरों की खासियत 

AH-64 ई टर्बोशफ्ट इंजन का चार ब्लेड वाला अटैक हेलीकॉप्टर है।
अपाचे हेलीकॉप्टर की अधिकतम गति 265 किमी प्रति घंटा है।
गन्स, रॉकेट और मिसाइलों की वहन क्षमता से लैस है अपाचे हेलीकॉप्टर
अपाचे दुनिया भर की रक्षा प्रणाली में सबसे ज्यादा इस्तेमाल होने वाला हेलीकॉप्टर है।
ये हेलीकॉप्टर अमेरिकी सेना के सबसे शक्तिशाली हेलीकॉप्टरों में से एक है। जो हेलफायर मिसाइलों से लैस होते हैं। 
अपाचे हेलीकॉप्टर बेहद कम उंचाई पर भी उड़कर हवाई हमले करने में सक्षम हैं। 
अपाचे हेलीकॉप्टर में एजीएम-114 हेलीफायर मिसाइल और हाइड्रा 70 रॉकेट पॉड्स भी लगे हैं। 
अपाचे हेलीकॉप्टर ब्रिटेन, अमेरिका सहित 19 देशों के पास है।

पिछले साल अगस्त में भी तत्कालीन रक्षा मंत्री अरुण जेटली की अध्यक्षता में हुई रक्षा खरीद परिषद (डीएसी) की बैठक में सेना के लिए लड़ाकू हेलीकॉप्टर खरीदने के प्रस्ताव को मंजूरी प्रदान की गई थी।

समाचार पर अपनी प्रतिक्रिया यहाँ दें l

ई-पेपर