comScore
Dainik Bhaskar Hindi

राजनीतिक दलों के संदेह दूर करने बैलेट और कंट्रोल यूनिट की कलमना में चल रही जांच 

BhaskarHindi.com | Last Modified - September 13th, 2018 17:38 IST

1k
0
0
राजनीतिक दलों के संदेह दूर करने बैलेट और कंट्रोल यूनिट की कलमना में चल रही जांच 

डिजिटल डेस्क, नागपुर। EVM को लेकर उठ रहे सवाल और संदेहों को दूर करने के लिए जिला प्रशासन ने पहल की है। जिलाधिकारी अश्विन मुद्गल की पहल पर कलमना स्थित कृषि उत्पन्न बाजार समिति (एपीएमसी) के एबीसी विंग में 9 हजार 426 बैलेट यूनिट और 5 हजार 486 कंट्रोल यूनिट की जांच शुरू की गई है। जिलाधिकारी ने इस जांच के दौरान सभी राजनीतिक दलों के प्रतिनिधियों को उपस्थित रहने और EVM की प्राथमिक स्तर पर जांच और प्रक्रिया समझने का अाह्वान किया है। यह जांच प्रक्रिया रोजाना सुबह 10.30 से शाम 5.30 बजे तक जारी रहेगी। संपूर्ण बैलेट और कंट्रोल यूनिट की जांच होने तक यह प्रक्रिया चलेगी। 

EVM को लेकर उठ रहे सवाल
गत कुछ समय से EVM को लेकर लगातार सवाल उठ रहे हैं। हर चुनाव में इस पर संदेह व्यक्त किया जा रहा है। ऐसे में कई राजनीतिक दलों ने EVM के बजाय बैलेट पेपर से चुनाव कराने की मांग की है। हाल में नई दिल्ली में सभी राजनीतिक पार्टियों के साथ हुई बैठक में भी बैलेट पेपर से चुनाव कराने की मांग उठी है। हालांकि निर्वाचन आयोग EVM में किसी भी गड़बड़ी से इनकार करता रहा है। नागपुर में दैनिक भास्कर द्वारा आयोजित कार्यक्रम में मुख्य निर्वाचन आयुक्त श्री रावत ने EVM और चुनाव प्रणाली पर उठे अनेक संदेहों को दूर करने का प्रयास किया था। जिसके बाद अब जिलाधिकारी ने EVM की जांच-पड़ताल के बहाने सभी राजनीतिक दलों को उपस्थित रहने सहित प्रक्रिया समझने और मशीनों की अपने समक्ष जांच करने का आह्वान किया है। यह प्रक्रिया कई दिनों तक चलेगी। 

बंगलुरु से लाई गई है एम-3 वर्जन की EVM
मुख्य निर्वाचन आयोग ने आगामी लोकसभा चुनाव में सभी EVM से वीवीपैट जोड़ने का आदेश दिया है। ऐसे में आगामी चुनाव के लिए हाल में बंगलुरु से एम-3 वर्जन की करीब 15 हजार EVM लाई गई है। इसमें 9 हजार 436 बैलेट यूनिट और 5 हजार 486 कंट्रोल यूनिट हैं। दावा किया गया है कि एम-3 मार्क की मशीनों में अगर किसी ने छेड़छाड़ का प्रयास किया, तो ये फैक्ट्री मोड में चली जाएगी और इनको फिर फैक्ट्री में ही ठीक किया जा सकेगा। एम-3 मार्क वाली इन मशीनों में बैलेट यूनिट और वीवीपैट भी एम-3 मार्क से ही अटैच किए जा सकेंगे। अन्य मार्क के बैलेट यूनिट या वीवीपैट में न तो इसमें अटैच किए जा सकेंगे और न ही इनसे मशीन को संचालित किया जा सकेगा। दावा है कि इसमें ऐसी व्यवस्था नहीं है, जिससे इसको रिमोट से संचालित किया जा सके। 

समाचार पर अपनी प्रतिक्रिया यहाँ दें l

ई-पेपर