comScore
Dainik Bhaskar Hindi

नागपुर के नाग और पीली नदी के तट पर बनेगा इंटरनेशनल टूरिस्ट एट्रैक्शन सेंटर, जानिए क्या-क्या होगी खूबियां

BhaskarHindi.com | Last Modified - February 11th, 2019 14:41 IST

4.1k
0
0
नागपुर के नाग और पीली नदी के तट पर बनेगा इंटरनेशनल टूरिस्ट एट्रैक्शन सेंटर, जानिए क्या-क्या होगी खूबियां

डिजिटल डेस्क, नागपुर। नागपुर स्मार्ट सिटी अंतर्गत टेंडरस्योर प्लान जमीनी स्तर पर शुरू हो चुका है। इस प्लान के साथ ही पारडी भरतवाड़ा पुनापुर और भांडेवाड़ी क्षेत्र में 7130 एकड़ में हाउसिंग प्लान तैयार किया जाएगा, जिसमें स्मार्ट स्कूल, पुलिस स्टेशन, हाॅस्पिटल और कालोनी बनाई जाएगी। इस प्लान में 10 प्रतिशत क्षेत्र पर गार्डन और प्लेग्राउंड बनाए जाएंगे। इसी के साथ नाग और पीली नदी के तट पर इंटरनेशनल टूरिस्ट एट्रैक्शन सेंटर के लिए भी विशेष थीम पर उद्यान बनाए जाएंगे। यह पूरी तरह आईटी इंटरवेशन अंतर्गत रहेगी। यह गार्डन अलग-अलग थीम पर होंगे। 

इको फ्रेंडली गार्डन व प्लेग्राउंड-

7130 एकड़ प्लानिंग क्षेत्र में 10 प्रतिशत क्षेत्र को ईको फ्रेंडली गार्डन और प्लेग्राउंड बनाए जाएंगे। अलग-अलग जगह पर थीम गार्डन बनाए जाएंगे, जो पूरी तरह पर्यावरण हितैषी रहेंगे। यहां मौजूद हर संसाधन को सोलर ऊर्जा के उपयोग से चलाया जाएगा। फुटबॉल ग्राउंड, एथलेटिक ट्रैक, वॉलीबॉल, बैडमिंटन और बास्केटबॉल प्लेग्राउंड बनाए जाएंगे। उल्लेखनीय है कि नागपुर शहर बहुत ही कंजस्टेड क्षेत्र है। इसीलिए स्मार्ट सिटी प्लान में थीम गार्डन बनाए जाएंगे। यह बटरफ्लाई, महात्मा गांधी, फ्रीडम फाइटर्स ऑफ विदर्भ, ज्यूलॉजी गार्डन और नाना-नानी पार्क बनाए जाएंगे। यह गार्डन नाग और पीली नदी के तट पर भी बनाए जाएंगे, जिससे यह इंटरनेशनल टूरिस्ट एट्रैक्शन सेंटर बने।

बटरफ्लाई गार्डन-

इस गार्डन में पेड़ों की ऐसी प्रजातियां लगाई जाएंगी, जिसके प्रति वे आकर्षित होंगी और उस पर प्रजनन करेंगी। इस पर तितलियाें को बनते हुए उनकी लाइफ साइकिल भी देख सकेंगे। इसमें हर तरह के पौधे और पेड़ लगाए जाएंगे, जो एक कीड़े को लार्वा से तितली बनने में सहयोग करते हैं।

महात्मा गांधी गार्डन-

यह उद्यान राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के जीवन शैली की थीम पर बनेगा। इसमें गांधी द्वारा लिखे गए विचार भी हर तरफ होंगे, साथ ही गांधी की प्रतिमा भी होगी।

फ्रीडम फाइटर्स ऑफ विदर्भ-

इस उद्यान को विदर्भ में पैदा होने वाले और आजादी के लिए लड़ने वाले फ्रीडम फाइटर्स की थीम पर बनाया जाएगा। इसमें सभी स्वतंत्रता सेनानियों के बारे में जानकारी दी जाएगी और उनकी फाेटो और प्रतिमा लगाई जा सकती है। इससे शहरवासियों को विदर्भ और नागपुर से जुड़े आजादी के इतिहास के बारे में जानकारी मिलेगी।

मेट्रो और बस स्टेशन के बाहर साइकिल स्टैंड- 

नाग और पीली नदी टूरिस्म प्लेस और उद्यानों की ओर जाने के लिए बस स्टॉप और मेट्रो स्टेशन के बाहर ही साइकिल स्टैंड रहेंगे। जहां से साइकिल किराए पर दी जाएगी। इन साइकिलों पर ट्रेकिंग डिवाइस होंगे, जिससे तय सीमा में घूम सकेंगे। इन साइकिलों को किसी भी सेंटर से बुक कर किसी दूसरे सेंटर पर भी जमा कर सकेंगे। वृद्धों के लिए ई-रिक्शा की सुविधा रहेगी।

स्मार्ट सिटी कार्यान्वयन में नागपुर को पहली रैंक- 

केद्रीय शहरी कार्य मंत्रालय द्वारा होने वाली स्मार्ट सिटी कार्यान्वयन रैंकिंग में नागपुर पहली रैंक पर है। नागपुर को स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट के तहत होने वाले विकास में 360.21 अंक मिले हैं, वहीं दूसरी रैंक पर भोपाल को 329.32 अंक मिले हैं। तीसरी रैंक पर रांची को 272.02 अंक मिले हैं।

ज्यूलॉजी उद्यान-

नागपुर और विदर्भ क्षेत्र में प्राचीन डायनासाेर और कई पुराने जानवराेें के अवशेष मिले हैं, लेकिन इसके बारे में अधिकांश लोगों को जानकारी नहीं है, इसीलिए इस उद्यान के द्वारा शहरवासियों को इनके बारे में जानकारी दी जाएगी। इस तरह लोगों को नई जानकारी प्राप्त होगी। गोंडवाना क्षेत्र का नाम भी इसी कारण पड़ा है, क्योंकि यहां पर करीब 50 हजार साल पुराने अवशेष मिले थे।

एनर्जी उद्यान- 

इस उद्यान में प्राकृतिक रूप से मिलने वाली ऊर्जा के सभी उपकरण लगाए जाएंगे। साेलर पैनल, पवन चक्की, बायोकंपोजिंग और पानी से पैदा होने वाली ऊर्जा के उपकरण लगाए जाएंगे, जिससे शहरवासी इनके बारे में जानकारी प्राप्त कर सकें और उपयोग कर सकें।
 

समाचार पर अपनी प्रतिक्रिया यहाँ दें l

ये भी देखें

app-download