comScore
Dainik Bhaskar Hindi

ISSF 2018 : स्वदेश लौट रहे 11 भारतीय जूनियर निशानेबाज बैंकॉक एयरपोर्ट पर फंसे

BhaskarHindi.com | Last Modified - September 13th, 2018 11:39 IST

2.8k
2
0
ISSF 2018 : स्वदेश लौट रहे 11 भारतीय जूनियर निशानेबाज बैंकॉक एयरपोर्ट पर फंसे

News Highlights

  • 11 खिलाड़ी बुधवार को बैंकॉक एयरपोर्ट पर फंस गए।
  • 52वें आईएसएसएफ विश्व चैंपियनशिप में हिस्सा लेने के बाद स्वदेश लौट रहे थे 11 भारतीय जूनियर निशानेबाज।
  • खिलाड़ीयों को जमीन पर सोकर गुजारनी पड़ी रात।


डिजिटल डेस्क, चांगवान। 52वें आईएसएसएफ विश्व चैंपियनशिप में हिस्सा लेने के बाद स्वदेश लौट रहे 11 भारतीय जूनियर निशानेबाज बुधवार को बैंकॉक एयरपोर्ट पर फंस गए। साउथ कोरिया के चांगवान में आयोजित इस प्रतिस्पर्धा में शानदार प्रदर्शन करने के बाद लौट रहे इन खिलाड़ियों को जमीन पर सोकर रात गुजारनी पड़ी। 

दरअसल, मामला थाइ एयरवेज का है। चांगवान से दिल्ली लौटते वक्त इन 11 जूनियर निशानेबाजों की फ्लाइट को इमरजेंसी के कारण बैंकॉक में ही उतारनी पड़ी। मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो फ्लाइट में कुछ तकनीकी दिक्कतों के कारण उसे वापस बैंकॉक के लिए डायवर्ट किया गया।

हैरान करने वाली बात यह है कि इस दौरान इन खिलाड़ियों के साथ कोई भी जिम्मेदार अधिकारी या कोच तक मौजूद नहीं थे। पूरे मामले पर नाराजगी जताते हुए एक निशानेबाज के परिजन ने कहा कि, 'मेरे बच्चे ने मुझे बैंकॉक एयरपोर्ट से कॉल किया और बताया कि उनकी फ्लाइट की इमरजेंसी लैंडिंग हुई है और उनके साथ कोई भी अधिकारी मौजूद नहीं हैं। शूटिंग फेडरेशन या साई के किसी अधिकारी को उनके साथ दिल्ली आते समय फ्लाइट में मौजूद होना चाहिए था, लेकिन उनके साथ कोई नहीं था।   

नेशनल राइफल एसोसिएशन ऑफ इंडिया के अध्यक्ष रणइंदर सिंह ने बताया कि 2 कोच जूनियर निशानेबाजों के साथ बैंकॉक तक साथ रहे थे। जूनियर निशानेबाजों के साथ सीनियर शूटर शिवम शुक्ला भी मौजूद हैं जिनके साथ वे लगातार संपर्क में हैं। उन्होंने साथ ही बताया कि स्थिति अब नियंत्रण में है।

इससे पहले मंगलवार (11 सितंबर) को जूनियर पुरुष स्कीट टीम इवेंट में भारत ने सिल्वर मेडल हासिल किया। वहीं पुरुष स्कीट व्यक्तिगत स्पर्धा में गुरनिहाल सिंह गार्चा ने ब्रॉन्ज मेडल जीता था। स्कीट टीम स्पर्धा में गुरनिहाल (119), अनंतजीत सिंह नारुका (117) और आयुष रुद्रराजू (119) की टीम 355 अंक के साथ दूसरा स्थान हासिल कर पाई। इसके अलावा उन्नीस साल के गुरनिहाल ने छह निशानेबाजों के व्यक्तिगत फाइनल में भी जगह बनाई और 46 अंक के साथ ब्रॉन्ज मेडल हासिल किया। अभी तक भारत की अंजुम मोद्गिल और अपूर्वी चंदेला ही इस प्रतियोगिता से महिला 10 मीटर एयर राइफल स्पर्धा में ओलंपिक टिकट हासिल करने में सफल रही हैं। भारत पदक तालिका में 9 गोल्ड, 8 सिल्वर और 7 ब्रॉन्ज सहित कुल 24 मेडल हासिल करके आईएसएसएफ की इस अंतरराष्ट्रीय प्रतियोगिता में चौथे स्थान पर चल रहा है। यह 2020 ओलंपिक का पहला क्वालिफाइंग टूर्नामेंट भी है। 

समाचार पर अपनी प्रतिक्रिया यहाँ दें l

ई-पेपर