comScore

बालिका स्टॉप सेंटर संंचालिका के यहां मिली, बिहार की नाबालिग बालिका , पुलिस ने रेस्क्यू कर छुड़ाया 

बालिका स्टॉप सेंटर संंचालिका के यहां मिली, बिहार की नाबालिग बालिका , पुलिस ने रेस्क्यू कर छुड़ाया 

डिजिटल डेस्क,छिंदवाड़ा। छिंदवाड़ा वन स्टॉप सेंटर संचालिका के यहां से 14 साल की नाबालिग बालिका शिफा को छुड़वाया गया। पिछले दिनों छिंदवाड़ा में पकड़ाई इस युवती को बिहार के चंपारण में उसके परिवार वालों के यहां पहुंचा दिया गया था।  शुक्रवार को बाल कल्याण समिति की शिकायत के आधार पर बालिका का संचालिका के घर से रेस्क्यू किया गया। इस मामले में शनिवार को कलेक्टर डॉ. श्रीनिवास शर्मा ने वन स्टॉप सेंटर की संचालिका स्नेहलता ठाकुर को नोटिस जारी कर मामले में जवाब मांगा है। 

जानकारी के मुताबिक पिछले दिनों 14 वर्षीय बालिका छिंदवाड़ा में मिली थी। जिसे वन स्टाप सेंटर में रखने के बाद दिसंबर 2018 में बिहार के चंपारण पहुंचा दिया गया था। लेकिन पिछले कुछ दिनों बालिका स्टॉप सेंटर संंचालिका के यहां रहने लगी थी। जिसकी सूचना बाल कल्याण समिति के सदस्यों को मिली। सदस्यों की सूचना के आधार पर संचालिका के घर से युवती को बरामद करते हुए अभिरक्षा में रखा गया है। 

बिना अनुमति के रखा था घर में 

बताया जा रहा है कि बालिका शिफा को सेंटर संचालिका ने बिना अनुमति के अपने निवास पर रखा था। जिसकी कोई सूचना उच्च अधिकारियों को नहीं दी गई थी। कलेक्टर ने इस मामले में सेेंटर संचालिका को तीन दिनों के भीतर जवाब देने के लिए आदेशित किया है। जवाब नहीं देने पर वैधानिक कार्रवाई की चेतावनी दी है। कलेक्टर ने नोटिस में कहा कि बाल अधिनियम की जानकारी रहने के बाद भी संचालिका द्वारा बालिका को बिना कागजी दस्तावेज पूरे किए अपने घर में रख लिया गया था।  

इनका कहना है

बालिका अनाथ है। बिहार में उसका कोई परिजन न होने की वजह से वह खुद ही वापस छिंदवाड़ा आ गई थी। जिसकी जानकारी बालिका की बुआ को है। अनाथ होने के कारण मेरे द्वारा उसे अपने ही घर में सहारा दिया गया था। स्नेहलता ठाकुर संचालिका, वन स्टॉप सेंटर छिंदवाड़ा 
 

कमेंट करें