comScore
Dainik Bhaskar Hindi

Video : फांसी पर झूल गई थी महिला, पुलिस ने मौके पर पहुंचकर बचाई जान

BhaskarHindi.com | Last Modified - December 14th, 2017 21:21 IST

822
0
0

डिजिटल डेस्क, इटारसी। पुलिस को अक्सर लेटलतीफी और ढीलेपन के चलते लोगों के गुस्से का सामना करना पड़ता है। पुलिस पर संवेदनहीन होने का आरोप भी लगता रहा है।फिल्मी पर्दा हो या आम जिंदगी पुलिस का हमेशा बुरा पक्ष ही पेश किया जाता रहा है लेकिन आज इटारसी में हुआ एक वाकया पुलिस की संजीदगी और फटाफट एक्शन का एक बड़ा उदाहरण पेश करता है। यहां आज (गुरुवार) पुलिस की त्वरित कार्रवाई के चलते एक महिला की जान बच गई।

मामला होशंगाबाद जिले के पुरानी इटारसी का है। यहां एक महिला ने पारिवारिक विवाद के चलते फांसी लगाने का प्रयास किया, जिसे पुलिस टीम ने मौके पर पहुंचकर असफल कर दिया। हालांकि महिला की जान बचाने में सबसे बड़ी भूमिका उसके बेटे की रही, जिसने अपनी मां को फांसी लगाते देख तुरंत इसकी सूचना पुलिस थाने जाकर दे दी। महिला का नाम कृष्णा बाई बताया जा रहा है। उनके पति का नाम मोहन सिंह सोलंकी है, जिनकी कुछ साल पहले ही मौत हो चुकी है। महिला का एक 10 वर्षीय पुत्र है जिसका नाम दीपेन्द्र है। दीपेन्द्र ने ही अपनी मां के फांसी लगाने की बात पुलिस को दी थी।

इस पूरे मामले पर टीआई राम स्नेही चौहान ने बताया, 'घटना शहर के सनखेड़ा क्षेत्र की है। शाम 4 बजे एक बच्चे ने अपनी मां के फांसी लगाने की बात पुलिस थाने आकर बताई। इस पर तुरंत एक टीम को मौके पर रवाना किया गया। उन्होंने बताया, 'पुलिसकर्मीयों को दरवाजा तोड़कर घर के अंदर घुसना पड़ा, तब तक महिला फांसी लगा चुकी थी, हालांकि उसकी सांस चल रही थी। पुलिस टीम ने फांसी का फंदा काटकर महिला को नीचे उतारा और उसे तुरंत हॉस्पिटल रवाना कर दिया।' उन्होंने बताया कि फिलहाल महिला की हालत ठीक है।

होशंगाबाद एसपी अरविंद सक्सेना ने bhaskarhindi.com को बताया कि पुलिस टीम ने समय पर पहुंचकर महिला की जान बचाकर मानवीय दृष्टि से बहुत ही सराहनीय काम किया है। उन्होंने कहा कि SI अशोक बरबड़े, SI अंजना भलावी और हेड कांस्टेबल रेखा मुनिया को इस त्वरित एक्शन के लिए नगद इनाम दिया जाएगा।

समाचार पर अपनी प्रतिक्रिया यहाँ दें l

ये भी देखें

ई-पेपर