comScore

खजुराहो इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल: बॉलीवुड के इस अभिनेता को मिलेगा लाइफ टाइम अवार्ड

December 13th, 2017 16:21 IST
खजुराहो इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल: बॉलीवुड के इस अभिनेता को मिलेगा लाइफ टाइम अवार्ड

डिजिटल डेस्क, ग्वालियर। खजुराहो फिल्म फेस्टिवल की शुरुआत 17 दिसंबर से होनी है। इस फेस्टिवल के आयोजक निर्माता, निर्देशक एवं अभिनेता राजा बुंदेला ने बताया कि बुंदेलखंड फिल्म एसोसिएशन के तत्वावधान में तीसरा खजुराहो अंतर्राष्ट्रीय फिल्म फेस्टिवल 23 दिसंबर तक आयोजित किया जाएगा। एमपी के सीएम शिवराज सिंह चौहान इसका उद्घाटन करेंगे। इस बार बेल्जियम और कनाडा के सहयोग से होने वाला यह फिल्म महोत्सव सात दिन चलेगा।

जैकी श्रॉफ को लाइफ टाइम अवार्ड से किया जाएगा सम्मानित


बता दें कि इस फिल्म फेस्टिवल में 50 क्षेत्रीय और देश-विदेश की 125 फिल्में दिखाई जानी है। इस आयोजन में फिल्म अभिनेता जैकी श्रॉफ को लाइफ टाइम अवार्ड से सम्मानित किया जाएगा। राजा बुंदेला ने बताया कि इस बार के महोत्सव में छतरपुर, खजुराहो व पन्ना की पांच टपरा टाकीज में चार सेगमेंट पर फिल्मों का प्रदर्शन किया जाना है। इन्हें महिला सशक्तीकरण, किसान, जवान और युवाओं के आधार पर बांटा गया है। इसके साथ ही दिवंगत अभिनेता शशि कपूर, टॉम आल्टर, ओमपुरी को ट्रिब्यूट देते हुए फिल्में दिखाई जाएंगी और समारोह से पूर्व ही 16 दिसंबर को 30 बच्चों की कार्यशाला आयोजित की जाएगी। 

इसमें शेखर कपूर, सुभाष घई, अनुपम खेर और रमेश सिप्पी जैसे दिग्गज युवा कलाकारों को फिल्म मेकिंग और अभिनय के टिप्स देंगे। इसके बाद चयनित बच्चों को 20 तारीख तक फिल्म बनाने की छूट दी जाएगी। उनकी बनी हुई फिल्में पोर्टल में डाली जाएंगी। इनमें से चयनित तीन फिल्में अगले साल दिखाई जाएंगी। 

उपराष्ट्रपति करेंगे समापन

फिल्म अभिनेता राजा बुंदेला ने बताया कि 23 दिसंबर को उप राष्ट्रपति वैंकैया नायडू समारोह का समापन करेंगे। मनमोहन शेट्टी, प्रेम चोपड़ा, गोविंद निहलानी, कुलमीत मक्कर, गोविंद नामदेव, पंकज पाराशर, गुलशन पांडे, सुशांत सिंह राजपूत, बिंदु, रंजीत व राकेश बेदी के साथ खजुराहो के पहले गाइड बीएल सिंह को सम्मानित किया जाएगा।    

फिल्म पद्मावती को लेकर दी प्रतिक्रिया

एक प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान राजा बुंदेला ने कहा कि देश में सेंसरशिप नहीं होना चाहिए। हम अपनी संस्कृति को बचाने के लिए सजग और समर्थ हैं। सेंसर बोर्ड में बैठे पांच लोग तय नहीं कर सकते कि समाज क्या देखना पसंद करेगा। बुंदेला ने कहा कि संजय लीला भंसाली को किसी समाज विशेष को आहत करने वाली फिल्मों से बचना चाहिए। वहीं राजपूत कर्णी सेना के लिए भी उन्होंने कहा कि उन्हें संवैधानिक तरीके से विरोध प्रदर्शन करना चाहिए।


फेस्टिवल में थिएटर मैराथन

थिएटर मैराथन बिल्कुल नया कांसेप्ट है, अब तक मैराथन को सिर्फ रेस से जोड़कर या लगातार होने वाली प्रक्रिया से जोड़कर देखा जाता था, लेकिन थिएटर मैराथन रंगमंच से जुड़े कलाकारों के लिए एक मंच है। कला प्रेमियों के लिए यह एक कुंभ जैसा है। इसके तहत योजना है कि देश-दुनिया के थिएटर्स आर्टिस्ट को बुलाया जाए, ताकि संस्कृति के आदान-प्रदान और उसके आयामों को विस्तार मिल सके। 

कमेंट करें
P8GSd