comScore
Dainik Bhaskar Hindi

लास वेगास मास शूटिंग : हमलावर की फ्रेंड से पूछताछ, खुल सकते हैं अहम राज

BhaskarHindi.com | Last Modified - October 05th, 2017 17:10 IST

338
0
0

डिजिटल डेस्क, लास वेगास। लास वेगास नरसंहार को अंजाम देने वाले स्टीफन पैडाक की महिला मित्र मैरीलोऊ डेनले एक सप्ताह बाद विदेश से वापस लौट आई है। लास वेगास हमला मामले की जांच कर रहे अधिकारियों ने अब अपनी जांच उस पर केंद्रित कर दी है। जांच अधिकारी जानना चाहते हैं कि आखिर एक ऐसे व्यक्ति ने एक होटल के ऊपर से ताबड़तोड़ गोलियां चला इतने बड़े नरसंहार को क्यों अंजाम दिया, जिसका पूर्व में कभी कोई आपराधिक रिकार्ड नहीं रहा। स्टीफन पैडाक की महिला मित्र मारिलोऊ डैनले (62 वर्ष) उस समय फिलीपीन्स में थीं, जब लास वेगास में नरसंहार को अंजाम दिया गया। 

खुद अमेरिकी अधिकारियों से मिलीं डेनले 
एक अधिकारी ने गोपनीयता की शर्त पर बताया कि वह बीते मंगलवार देर रात लास वेगास एयरपोर्ट पर एफबीआई अधिकारियों से मिलीं। शेरिफ जोसेफ लोम्बार्डो ने कहा इस महिला से पूछताछ में अनेक महत्वपूर्ण बातों का खुलासा हो सकता है। उन्होंने कहा उन्हें पूरी उम्मीद है कि एफबीआई अधिकारियों की पूछताछ में इस बात पर से पर्दा हट जाएगा कि आखिर किस वजह से 64 वर्षीय रिटायर्ड एकाउन्टैंट स्टीफन पैडाक ने इस नाटकीय घटनाक्रम को अंजाम दिया और फिर खुद को गोलीमार कर आत्महत्या कर ली। 

पहले भी फिलीपीन्स गई थी डेनले
आव्रजन दस्तावेजों के अनुसार डेनले पहले 15 सितंबर को फिलीपीन्स गई थीं। इसके बाद वह 22 सितंबर को तीन बाद हांगकांग से आने वाली फ्लाइट से वापस लौट आईं। उन्होंने आस्ट्रेलियाई पासपोर्ट से हवाई यात्रा की। फिलीपीन्स के आव्रजन ब्यूरो के प्रवक्ता एंटोनेट मैनग्रोबैंग ने बताया कि फिलीपीन्स के अधिकारी अमेरिकी अधिकारियों को जांच में पूरा सहयोग कर रहे हैं। उन्होंने उम्मीद जताई कि जल्दी ही जांच के सकारात्मक नतीजे सामने आ जाएंगे। उन्होंने बताया हमने अमेरिकी अधिकारियों को सभी जरूरी सूचनाएं उपलब्ध करा दी हैं, जो इस आश्चर्यजनक मामले की तह में पहुंचने के लिए जरूरी हैं। 

जुए में हार भी हो सकती नरसंहार की वजह 
फिलीपीन्स के अधिकारियों ने अमेरिकी जांच अधिकारियों को बताया कि स्टीफन पैडाक ने सामूहिक नरसंहार को अंजाम देने के एक दिन पहले एक लाख डालर की रकम फिलीपीन्स स्थित एक खाते में स्थानांतरित की थी। अमेरिकी अधिकारी इस रकम की विस्तार से जांच करने में लगे हुए हैं। जांच अधिकारी उन खबरों पर भी गौर कर रहे हैं, जिनमें बताया गया है कि पैडक पिछले कई दिनों से दस हजार डालर से अधिक रकम प्रतिदिन जुए में उड़ा रहा था। जांच अधिकारी इस एंगल से भी जांच कर रहे हैं कि स्टीफन पैडाक को जुए में क्षति से पैदा हुई खीझ भी नरसंहार की वजह हो सकती है। 

ये भी हो सकती हैं गोलीकांड की वजहें 
पूर्व एफबीआई अधिकारी जिम क्लीमेंट ने कहा कि अगर वह आतंकी नहीं है, तो हाल के दिनों में उसके जीवन में ऐसा कुछ जरूर घटा है, जिसने उसे इतनी बड़ी घटना को अंजाम देने पर मजबूर कर दिया। उन्होंने कहा उसका मनोवैज्ञानिक शवपरीक्षण उसकी मानसिक स्थिति का पता लगाने में सहायक हो सकता है। आत्महत्या करते समय स्टीफन पैडाक का सिर बुरी तरह क्षतिग्रस्त हो गया है। अगर यह साबुत होता तो पता लगाना आसान होता कि हादसे के पीछे मस्तिष्क संबंधी कोई गड़बड़ी तो जिम्मेदार नहीं है। उन्होंने कहा पैडाक की ऐसी प्रतिक्रिया के पीछे जीन संबंधी जटिलताएं भी हो सकती हैं। पैडाक का आपराधिक इतिहास भले ही नहीं रहा हो, लेकिन इस तथ्य को नजरअंदाज नहीं किया जा सकता कि उसके पिता 1960 में एफबीआई के मोस्ट वांटेड अपराधियों की सूची में शामिल रहे हैं और जांच में उन्हें मनोरोगी पाया गया था। 

ऑस्ट्रेलियाई नागरिक है डैनली
मारिलोउ डैनली इंडोनेशियाई मूल की ऑस्ट्रेलियाई नागरिक बताई जाती हैं। पुलिस रिकार्ड के अनुसार वह जनवरी 2017 से उसी पते पर रह रही थी जहां स्टीफन पैडॉक रहता था। अमेरिकी मीडिया के मुताबिक, मारिलोउ डैनली एक गैम्बलिंग और कसीनो प्रोफेशनल हैं। वह 20 साल पहले ऑस्ट्रेलिया से अपने पूर्व पति के साथ अमेरिका आई थीं। बाद में पति की मौत हो गई। इसके बाद वह स्टीफन पैडाक के संपर्क में आई और फिर दोनों लिवइन में रहने लगे।  

जुटाए थे अत्याधुनिक हथियार
पैडॉक के होटल के कमरे से मिले हथियारों के जखीरे के फोटो सामने आए हैं। 23 हथियारों में से कुछ हथियार बेहद आधुनिक हैं। कई आटोमैटिक राइफलें ऐसी भी हैं, जिनसे एक मिनट में 800 राउंड फायर किए जा सकते हैं। होटल रूम से चार डीडीएम4, एक कॉल्ट एआर, तीन एफ-15 और एक ऑटोमैटिक राइफल मिली है। इनका इस्तेमाल आमतौर पर आर्मी करती है। आरोपी के घर से भी 19 हथियार और गोला-बारूद बरामद हुआ है।

हमले से पहले की थी पूरी तैयारी
हमला किसी घटना की तात्कालिक प्रतिक्रिया नहीं दिखाई देती। हमले की काफी समय पहले बाकायदा तैयारी की गई थी। योजना के तहत स्टीफन पैडाक ने बेहद आधुनिक हथियार जुटाए थे। हमले से पहले स्टीफन ने हथौड़े से खिड़कियां तोड़ दी थीं और लगातार हमले के लिए दो कुर्सियों को जोड़कर गन रैक बना ली थी।
नरसंहार को अंजाम देने के बाद उसने आत्महत्या कर ली थी। अब तक की जांच में उसकी किसी आतंकी संगठन से संबंध की बात सामने नहीं आई है। लेकिन उसने जिस तरह से घटना को अंजाम दिया है। वह ऐसी ही किसी स्थिति की ओर इशारा करती है। 

समाचार पर अपनी प्रतिक्रिया यहाँ दें l

ई-पेपर