comScore

रिकार्ड फीड करने पटवारी मांग रहा था रिश्वत, लोकायुक्त ने रंगे हाथ पकड़ा

March 14th, 2019 21:41 IST
रिकार्ड फीड करने पटवारी मांग रहा था रिश्वत, लोकायुक्त ने रंगे हाथ पकड़ा

डिजिटल डेस्क, रीवा। जमीन के रिकार्ड कम्प्यूटर में फीड करने के एवज में 3000 रुपए की मांग करने करने वाले घूसखोर पटवारी को लोकायुक्त एसपी ने रंगे हाथ गिरफ्तार किया है। कार्रवाई के दौरान मौके पर हड़कंप की स्थिति निर्मित रही। पटवारी अपनी सफाई देता रहा, लेकिन टीम के पास पुख्ता सबूत थे, जिसके बाद पंचनामा कार्रवाई की गई।

शिकायत पर दी दबिश
लोकायुक्त टीम ने गुरूवार को एक ऐसे पटवारी को रंगे हाथ रिश्वत लेते पकड़ा है, जिनसे जमीन के रिकार्ड कम्प्यूटर में चढ़ाने के बदले पैसों की मांग की। लोकायुक्त की टीम ने रीवा शहर में एजी कॉलेज मार्ग पर किराए के घर में रह रहे अमवा हल्का के पटवारी लाल बहादुर कोल पुत्र राजमणि कोल 45 वर्ष निवासी कुइयां टोला चचाई तहसील सेमरिया को 10.45 बजे पकड़ा है। यह ट्रेप कार्यवाही निरीक्षक विद्यावारिधि तिवारी के नेतृत्व में 15 सदस्यीय दल द्वारा की गई।

धर्मपाल की शिकायत पर पकड़ाया
इस पटवारी को रंगे हाथ पकड़वाने वाले धर्मपाल सिंह पटेल 52 वर्ष निवासी ग्राम अमवा ने अपने काम के लिए काफी चक्कर लगाए। बताया गया है कि पिता और चाचा की मृत्यु के उपरांत पैतृक जमीन का वारिसाना के बाद आपसी बंटवारी अपने भाईयों के लिए 2018 में कराया लिया था। इसके बाद जमीनों को कम्प्यूटर में फीड कराने के लिए पटवारी से मिला। पटवारी ने ऋण पुस्तिका तो दे दी, लेकिन जमीन कम्प्यूर में जमीन चढ़ाने के लिए रिश्वत की मांग की जा रही थी।।पटवारी बिना चढ़ोत्री लिए काम करने को किसी भी हालत में तैयार नहीं हुआ। अंतत: उसने पटवारी को सबक सिखाने का मन बना लिया। धर्मपाल ने लोकायुक्त कार्यालय जाकर नए एसपी  से मुलाकात कर अपनी पीड़ा बताई। इस शिकायत की तस्दीक कराई गई और पटवारी रंगे हाथ पकड़ा गया।

तीन निरीक्षकों के साथ पहुंची टीम
रिश्वत की मांग करने वाले पटवारी को रंगे हाथ पकड़ने वाली टीम में तीन निरीक्षक शामिल रहे। निरीक्षक विद्यावारिधि का सहयोग करने के लिए निरीक्षक अरविन्द तिवारी एवं हितेन्द्र नाथ शर्मा को भी साथ में भेजा गया। प्रधान आरक्षक विपिन त्रिवेदी, आरक्षक शैलेन्द्र मिश्रा, मुकेश मिश्रा, पवन पाण्डेय, मनोज मिश्रा, सुभाष पाण्डेय, धर्मेन्द्र जायसवाल, लवलेश पाण्डेय आदि पूरी तरह तैयार थे। जैसे ही आरोपी पटवारी लाल बहादुर कोल पटवारी हल्का अमवा, प्रभारी पटवारी- 12 पैपखरा तहसील हुजूर ने शिकायतकर्ता से तीन हजार रुपये लिए, तभी उसे दबोच लिया।

Loading...
कमेंट करें
1dBH3
Loading...