comScore
Dainik Bhaskar Hindi

इस वर्ष दो दिन है महाशिवरात्रि तिथि, जानिए कब है व्रत मुहूर्त

BhaskarHindi.com | Last Modified - February 02nd, 2018 07:01 IST

7.8k
0
0

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली।  संक्रांति के समान ही शिवरात्रि प्रत्येक माह के कृष्णपक्ष की चतुर्दशी को होती है। इसे मास शिवरात्रि कहा गया है, किंतु फाल्गुन माह के कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी को महाशिवरात्रि कहा गया है। इस वर्ष महाशिवरात्रि की तिथि 13 फरवरी 2018 को रात्रि 10.34 से शुरू होकर 14 फरवरी 2018 को 12 बजकर 14 मिनट तक रहेगी। 

निकली थी सबसे अलग बारात

पुराणों, शास्त्रों में इस दिन का विशेष महत्व है। यह भारत में मनाए जाने वाले प्रमुख पर्वों में से एक है। यह दिन भगवान शिव और पार्वती की पूजा के लिए विशेष माना जाता है। पुराणों में ऐसा वर्णन है कि मां पार्वती और भगवान शिव का विवाह इसी दिन हुआ था। सिर्फ देव ही नहीं दानव, किन्नर, गंधर्व, पशु-पक्षी, भूत, पिशाच भी इस विवाह में शामिल हुए थे। पूरी प्रकृति में इस दिन का उत्साह था। 

मिलता है इस कथा वर्णन

शिव-पार्वती विवाह से संबंधित एक कथा का वर्णन भी मिलता है। जिसके अनुसार शव का सन्यासी रूप और अनोखी बारात देखकर मां पार्वती की माता मूर्छित हो गई थीं। जिसके पश्चात मां पार्वती के आग्रह पर शिव ने सुंदर रूप धारण किया। बारातियों ने भी सुंदर वस्त्र धारण किए। जिसके बाद ही उनका विवाह संपन्न हो सका था। 

सती रूप में भस्मीभूत होने के बाद पार्वती के रूप में देवी शक्ति ने शिव को पाने के लिए कठिन तप किया था एवं बेलपत्र खाकर दिन व्यतीत किए थे। जिसके बाद ही वे महादेव को प्राप्त कर सकी थीं। इसलिए रमान्यता है कि इस दिन व्रत रखने से कुंवारी कन्याओं को मनभावन पति मिलता है एवं सौभाग्यवती स्त्रियों को सौभाग्य का वरदान मिलता है। 

पूजा का विधान

महाशिवरात्रि पर भगवान शंकर को दूध का अभिषेक कर बेलपत्र, धतूरा, आम की मोर, गेहूं की बाॅल, बेर इत्यादि अर्पित किए जाते हैं। इस दिन अनेक स्थानों पर पूजा के दौरान उन्हें मुकुट पहनाने का भी विधान है। 

समाचार पर अपनी प्रतिक्रिया यहाँ दें l

ये भी देखें

app-download