comScore

पत्नी पर था शक, वाटर प्यूरीफायर में लगवाया कैमरा, पंहुचा जेल

BhaskarHindi.com | Last Modified - May 16th, 2018 19:06 IST

पत्नी पर था शक, वाटर प्यूरीफायर में लगवाया कैमरा, पंहुचा जेल

डिजिटल डेस्क, पुणे। शक के आधार पर पत्नी की जासूसी करना पति को जेल पहुंचा सकता है। पत्नी पर जासूसी कैमरे के जरिए पत्नी की निगरानी करने का मामला महाराष्ट्र के पुणे से सामने आया है। पुणे में रहने वाली एक महिला इंजीनियर ने अपने पूर्व पति पर जासूसी का आरोप लगाते हुए थाने में एफआईआर दर्ज कराई है।

क्या था मामला
पुणे में रहने वाली एक महिला इंजीनियर ने अपने पूर्व पति पर स्पाई कैमरे के जरिए जासूसी के आरोप लगाए हैं। पत्नी के आरोपों के अनुसार, आरोपी पति तलाक के बाद बेटे से मिलने आता था और मेरी गैरमौजूदगी का फायदा उठाकर उसने चोरी छिपे बेडरूम में वाटर प्यूरीफायर में कैमरा लगा दिया और मोबाइल से उस पर निगरानी करने लगा। महिला के आरोप पर महाराष्ट्र पुलिस ने पति पर भारतीय कानून की धारा 354 के तहत मामला दर्ज कर लिया है।

पति करता था शक
महिला के अनुसार पति पहले से ही उस पर चरित्रहीन होने का आरोप लगाता आ रहा है, हद तो तब हो गई जब बात इतनी बढ़ गई कि पति आए दिन मारपीट करने लगा। मारपीट और रोज-रोज के झगड़ो से तंग आकर महिला ने अपने पति से तलाक ले लिया, तलाक के बाद पति अलग होकर माता पिता के साथ बैंगलोर में रहने लगा और पत्नी अपने 12 साल के बच्चे के साथ कलपादल के फ्लैट में रहने लगी।

कैसे हुआ खुलासा
पीड़ित महिला ने बताया कि एक दिन कपड़े बदलने के दौरान उसकी नजर बेडरूम में लगे वाटर प्यूरीफायर पर गई, करीब से देखने पर पता लगा की उसमें एक जासूसी कैमरा फिट है। अपने पति के शक करने की आदत के बिनाह पर पत्नी ने इस हरकत का शक पति पर जताया और वनोवारी थाने में पति के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज करा दी।

दरअसल, दंपती शादी के बाद एक बेटा भी है, जो तलाक के बाद पत्नी के साथ रहता है। पत्नी के मुताबिक़ पति कभी भी बच्चे से मिलने घर पर आता था और वह दफ्तर चली जाती थी। पत्नी के अनुसार उसके घर में ना होने के कारण पति ने चोरी छुपे इस हरकत को अंजाम दिया होगा।

मामले की जांच कर रही वनोवरी थाने की एसआई रेखा काला के मुताबिक़ 'पति पत्नी दोनों कलपादल के एक फ्लैट में 8 माह से साथ रह रहे थे, कुछ दिनों के लिए पति विदेश चला गया और वापस लौटने पर दोनों साथ रहने लगे थे, पर पति की शक की आदत में कोई सुधार नहीं हुआ।

साइकोलोजिस्ट डॉ रवि कुमार के अनुसार बढ़ते तनाव और समय के अभाव के कारण लगतार जासूसी के मामले देश में बढ़ रहे हैं। सिक्यॉरिटी ऐंड डिटेक्टिव वेलफेयर असोसिएशन के प्रेसिडेंट अभय शंकर दुबे ने बताया कि जासूसी एजेंसियों के पास करीब 150 मामले आ रहे हैं, जिनमे सर्वाधिक मामले पति पत्नी के होते हैं। 

समाचार पर अपनी प्रतिक्रिया यहाँ दें l

loading...