comScore
Dainik Bhaskar Hindi

मासूम भांजी की बॉडी को साइकिल पर लाना पड़ा मामा को

BhaskarHindi.com | Last Modified - July 27th, 2017 15:49 IST

648
0
0
मासूम भांजी की बॉडी को साइकिल पर लाना पड़ा मामा को

टीम डिजिटल,कौशांबी. इंसानियत को शर्मसार करती एक तस्वीर यूपी के कौशांबी ज़िले से सामने आई है, जहां एक मामा अपनी छह महीने की मासूम भांजी का शव साइकिल पर ले जाने को मजबूर हुआ.

बच्ची के मामा का कहना है कि अस्पताल से लाख मिन्नत करने के बावजूद एंबुलेंस नहीं दी गयी, जिसके बाद अपनी भांजी का शव घर तक ले जाने के लिए उसे साइकिल का सहारा लेना पड़ा. सोमवार को हुई इस घटना के बाद उस वक़्त ड्यूटी पर तैनात अस्पताल के इमरजेंसी विंग के डॉक्टर के ख़िलाफ़ मामला दर्ज कर लिया गया है.अस्पताल ने भी इस मामले की जांच शुरू कर दी है. 

मामला कौशांबी जिले के सिराथू तहसील के मलाकसद्दी गांव का है. यहां रहने वाले एक शख्स की 6 महीने की बेटी को सुबह अचानक उल्टी-दस्त होने लगा. उसे जिला अस्पताल लाया गया. इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई. अनंत कुमार ने बताया कि जब वह एम्बुलेंस के ड्राइवर के पास गया तो उसने 800 रुपए मांगे. पैसे न होने की बात कहने पर उसने शव ले जाने से मना कर दिया. डॉक्टरों से बात की तो उन लोगों ने शव वाहन का नंबर दिया. उस नम्बर पर फोन करने पर ड्राइवर ने कहा कि गाड़ी में तेल नहीं है. इसी बीच बच्ची का मामा आ गया और शव को कंधे पर उठाया और साइकिल से 10 किलोमीटर दूर गांव ले गया.

पिछले साल ओडिशा के कालाहांडी के सरकारी अस्पताल से शव वाहन नहीं मिलने पर दाना माझी को पत्नी की लाश कंधे पर लेकर 10 किलोमीटर जाना पड़ा था. इस दौरान उसकी 12 साल की बेटी भी रोती-बिलखती साथ चल रही थी. इसी तरह इटावा में एक शख्स को अपने 15 साल के बेटे का शव सरकारी अस्पताल से कंधे पर लादकर घर ले जाना पड़ा था. 

समाचार पर अपनी प्रतिक्रिया यहाँ दें l

ये भी देखें

app-download