comScore

पेरिस के मध्ययुगीन नोट्रे डेम कैथेड्रल में लगी भीषण आग, ढह गया गिरजाघर का शिखर

April 16th, 2019 14:34 IST

हाईलाइट

  • पेरिस के ऐतिहासिक नोट्रे डेम कैथेड्रल में सोमवार दोपहर भीषण आग लग गई।
  • मध्ययुगीन कैथेड्रल के ऊपर धुएं के विशाल गुबार से ही अंदाजा लगाया जा सकता है कि ये आग कितनी भयानक थी।
  • ये आग किस कारण से लगी ये अभी स्पष्ट नहीं हो पाया है। पुलिस इसे दुर्घटना मान कर चल रही है।

डिजिटल डेस्क, पेरिस। पेरिस के ऐतिहासिक नोट्रे डेम कैथेड्रल में सोमवार दोपहर भीषण आग लग गई। मध्ययुगीन कैथेड्रल के ऊपर धुएं के विशाल गुबार से ही अंदाजा लगाया जा सकता है कि ये आग कितनी भयानक थी। आग की सूचना मिलते ही फायर ब्रिगेड वहां पहुंच गई और स्मारक के आसपास के क्षेत्र को फायर फाइटरों ने खाली करा दिया। इस आग को बुझाने के लिए एक बड़ा ऑपरेशन चलाया जा रहा है। ये आग किस कारण से लगी ये अभी स्पष्ट नहीं हो पाया है। पुलिस इसे दुर्घटना मान कर चल रही है।

मेयर एनी हिडाल्गो ने ट्विटर पर कहा, '12 वीं शताब्दी के इस कैथेड्रल का रिनोवेशन किया जा रहा था। आग लगने के कारण गिरजाघर का शिखर टूट गया है'। अधिकारियों ने कहा कि पेरिस में नोट्रे डेम कैथेड्रल में लगी आग को स्मारक में चल रहे रिनोवेशन कार्य से जोड़ा जा सकता है। आग में किसी के हताहत होने की सूचना नहीं है।

दर्द का इजहार करते हुए फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों ने ट्वीट कर कहा, 'हमारी लेडी ऑफ पेरिस आग की लपटों में। हमारे सभी देशवासियों की तरह, मुझे भी ऐतिहासिक नोट्रे डेम कैथेड्रल में आग लगने की खबर से दुख हुआ है। इस घटना के कारण राष्ट्र के नाम अपने टेलीविजन भाषण को स्थगित कर दिया।

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने ट्वीट किया, 'पेरिस के नोट्रे डेम कैथेड्रल में भीषण आग को देखना भयानक है। शायद इस आग को बुझाने के लिए फ्लाइंग वॉटर टैंकर का इस्तेमाल किया जा सकता है। जल्दी से काम करना चाहिए!'

बता दें कि कोई अन्य साइट नोट्रे डेम की तरह फ्रांस का प्रतिनिधित्व नहीं करती है। राष्ट्रीय प्रतीक के रूप में इसका मुख्य प्रतिद्वंद्वी एफिल टॉवर एक सदी से भी कम पुराना है। नोट्रे-डेम 1200 के दशक से पेरिस में इसी तरह से खड़ा है। इसने देश की साहित्यिक कृतियों में से एक को अपना नाम दिया है। विक्टर ह्यूगो की द हंचबैक ऑफ नोट्रे-डेम को फ्रेंच को नोट्रे डेम डे पेरिस के नाम से जाना जाता है।

पिछली बार फ्रांसीसी क्रांति के दौरान गिरजाघर को बड़ी क्षति हुई थी। दो विश्व युद्ध के बाद भी ये पेरिस में इसी तरह से खड़ा है। ऐतिहासिक धरोहर को हुआ इस तरह का नुकसान किसी भी फ्रांसीसी व्यक्ति के लिए बहुत चौंकाने वाला है।

कमेंट करें
oZrRX