comScore

करतारपुर कॉरिडोर : 14 मार्च को अटारी-वाघा बार्डर पर होगी दोनों देशों की मीटिंग

March 06th, 2019 22:43 IST
करतारपुर कॉरिडोर : 14 मार्च को अटारी-वाघा बार्डर पर होगी दोनों देशों की मीटिंग

हाईलाइट

  • पहले 13 मार्च को होने वाली यह मीटिंग अब वाघा-अटारी बार्डर पर 14 मार्च को होगी।
  • करतारपुर कॉरीडोर खुलने का मतलब है कि भारतीय श्रद्धालु पाकिस्तान के करतारपुर साहिब में दर्शन के लिए जा सकेंगे।
  • पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने गुरुद्वारा के लिए वीसा फ्री प्रवेश और खुल्ले दर्शन की मांग की है।

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। पुलवामा आतंकी हमले को लेकर भारत और पाकिस्तान के बीच तनाव की स्थिति बनी हुई है। इस तनाव के बीच दोनों देश करतारपुर कॉरिडोर को लेकर मीटिंग करने जा रहे हैं। अटारी-वाघा बार्डर पर पर ये मीटिंग होगी। इससे पहले पाकिस्तान का एक प्रतिनिधि मंडल 13 मार्च को भारत आने वाला था, लेकिन अब यह मीटिंग 14 मार्च को होगी। बताया जा रहा है कि दोनों देशों के बीच यह मुलाकात प्रस्ताव को अंतिम रूप देने के लिए की जा रही है। मंत्रालय ने कहा कि भारत ने प्रस्ताव दिया है कि इस बैठक से इतर उसी दिन कॉरिडोर के अलाइनमेंट के विषय पर तकनीकी स्तर पर चर्चा हो।

करतारपुर कॉरीडोर खुलने का मतलब है भारतीय श्रद्धालु पाकिस्तान के करतारपुर साहिब में दर्शन के लिए जा सकेंगे। इसके लिए वीजा की भी जरूरत नहीं पड़ेगी। भारत और पाकिस्तान के करतारपुर के बीच महज तीन किलोमीटर की दूरी है, इस दूरी को पार करने के लिए सिख श्रद्धालुओं को कड़ी मशक्कत करनी पड़ती है। करतारपुर कॉरिडोर पंजाब में स्थित बाबा नानक के गांव को पाकिस्तान के नारोवाल में स्थित गुरू दरबार साहिब से जोड़ेगा। पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने गुरुद्वारा के लिए वीसा फ्री प्रवेश और खुल्ले दर्शन की मांग की है। इस कॉरिडोर को इस साल गुरू नानक देव की 550वीं जयंती के मौके पर खोला जाएगा।

कमेंट करें
IQvZ0