comScore

स्पीड से हो रहा मेट्रो का काम, लोन मिला रहा स्लो

November 01st, 2017 11:37 IST
स्पीड से हो रहा मेट्रो का काम, लोन मिला रहा स्लो

डिजिटल डेस्क,नागपुर।  मेट्रो का काम स्पीड से चल रहा है और उम्मीद है कि अपनी निर्धारित अवधि में यह पूरा भी हो जाएगा, लेकिन इसके लिए ऋृण देने वाली जर्मन बैंक के लोन की स्पीड काफी स्लो दिखाई दे रही है। जर्मन बैंक ने अब तक केवल 11 प्रतिशत निधि ही उपलब्ध कराई। वैसे तो मेट्रो रेल परियोजना का 50 प्रतिशत काम पूरा हो गया है। मेट्रो का काम मई 2015 में शुरू हुआ था, जो समय पर आगे बढ़ रहा है, लेकिन जर्मन बैंक केएफडब्ल्यू से मिलने वाले ऋण की रफ्तार में तेजी नहीं दिखाई दे रही है। बैंक के प्रतिनिधियों ने मेट्रो रेल प्रशासन के साथ किए गए काम की प्रगति का जायजा लिया। बैठक में संतोष जाहिर करते हुए आगे मिलने वाले 86 करोड़ रुपए के ऋण का रास्ता साफ हो गया।

सकारात्मक चर्चा हुई

परियोजना को ढाई साल में केएफडब्ल्यू की ओर से अब तक करीब 11 प्रतिशत ही ऋण की राशि प्राप्त हो पाई है। बैठक में सकारात्मक चर्चा के कारण आगे करीब 645 करोड़ रुपए मिलने का रास्ता साफ होने की सूचना है, लेकिन इसके बाद भी दोनों निधियों को मिलाकर 1039 करोड़ रुपए होता है, जो कुल ऋण निधि के मुकाबले 27 प्रतिशत से अधिक नहीं है। ऋण लेते समय मेट्रो रेल की ओर से अाधिकारिक रूप से जानकारी दी गई थी कि यह ऋण 20 वर्ष के लिए होगा, जिसकी निधि तीन साल में विभिन्न चरणों में उपलब्ध कराई जाोएगी।

2715 करोड़ रुपए मिलना शेष

मेट्रो के अाधिकारिक सूत्रों के अनुसार बैंक प्रतिनिधियों को अब तक किए गए उपक्रमों की जानकारी दी गई। साथ ही सोलर राइडशिप, महाकार्ड, फीडर सर्विस जैसी सेवाओं के लिए किए गए उपक्रमों की भी जानकारी दी गई। बैंक ने आगे की 86 मिलियन यूरो अर्थात 645 करोड़ रुपए मिलने का रास्ता साफ कर दिया है। इस तरह मेट्रो को 1039 करोड़ रुपए प्राप्त हो जाएंगे। यहां से 500 मिलियन यूरो अर्थात 3750 करोड़ रुपए का कुल ऋण प्राप्त होना है। इसमें अब तक 52.6 मिलियन यूरो अर्थात 394.50 करोड़ रुपए मिल चुके हैं। 362 मिलियन यूरो अर्थात 2715 करोड़ रुपए मिलना शेष हैं।

उपभोक्ताओं से ही मेट्रो की राइडरशिप बढ़ेगी

बैठक मेट्रो रेल कॉर्पोरेशन लिमिटेड के प्रबंध निदेशक डॉ. बृजेश दीक्षित की अध्यक्षता में हुई। केेफडब्ल्यू के प्रतिनिधियों को उन्होंने बताया कि मेट्रो का लक्ष्य नॉन मोटराइज्ड ट्रांस्पोर्ट है। इसके अलावा ई-रिक्शा वाहन, साइकिल को प्राथमिकता देना है। सभी प्रकार के उपभोक्ताओं से ही मेट्रो की राइडरशिप बढ़ेगी। बैठक में केएफडब्ल्यू (इंडिया) के कंट्री डायरेक्टर डॉ. क्रिस्टोक केसलर, उपनिदेशक अनिरबंन कुंदू, अर्बन मोबिलिटी सेव्टर स्पेशलिस्ट स्वाति खन्ना, मेट्रो के संचालक (वित्त) एस. शिवमाथन, कार्यकारी संचालक (स्ट्रेटेजिक प्लानिंग) रामनाथ सुब्रमण्यम आदि उपस्थित थे।
 

महामेट्रो रेल कॉर्पोरेशन लिमिटेड, प्रबंध निदेशक,डॉ. बृजेश दीक्षित  का कहना है कि ऋण मिलने की रफ्तार इसलिए कम है, क्योंकि हमने अब तक के अधिकांश काम सबसे पहले इक्विटी से मिले पैसों को खर्च कर किए हैं। बजट से पैसे लेकर ऋण का ब्याज चुकाने से बचने के प्रयास में ऋण लेने की रफ्तार कम रखी गई। आगे काम जैसे-जैसे तेजी से होगा, ऋण लेने की रफ्तार भी बढ़ेगी। 
 

कमेंट करें
IhH1m