comScore

मिताली का BCCI को लेटर, कोच रमेश पोवार और CoA सदस्य डायना पर फोड़ा गुस्सा

November 27th, 2018 22:54 IST
मिताली का BCCI को लेटर, कोच रमेश पोवार और CoA सदस्य डायना पर फोड़ा गुस्सा

हाईलाइट

  • भारतीय महिला क्रिकेट टीम में चल रहा विवाद गहराता जा रहा है।
  • पूर्व कप्तान मिताली राज ने भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड को एक पत्र लिखा है।
  • मिताली ने CoA मेंबर डायना इडुल्जी और कोच रमेश पोवार पर निशाना साधा है।

डिजिटल डेस्क, मुंबई। भारतीय महिला क्रिकेट टीम में चल रहा विवाद बढ़ता जा रहा है। विंडीज में हुए टी-20 वर्ल्डकप के सेमीफाइनल मैच में भारतीय टीम से निकाले जाने पर पूर्व कप्तान मिताली राज ने भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (BCCI) को एक पत्र लिखा है। इस पत्र में मिताली ने कमेटी ऑफ एडमिनिस्ट्रेटर्स (CoA) की मेंबर डायना इडुल्जी और भारतीय टीम के कोच रमेश पोवार पर निशाना साधा है।   

मिताली ने लिखा, 'मैंने हमेशा डायना इडुल्जी और उनके पद का सम्मान किया है। मैंने हमेशा उनपर विश्वास किया है। मैंने कभी नहीं सोचा था कि वह अपने पद को मेरे खिलाफ इस्तेमाल करेंगी। मैंने उन्हें विंडीज में जो कुछ भी हुआ सब बताया, लेकिन उन्होंने कोई प्रतिक्रिया नहीं दी। सेमीफाइनल में मुझे बेंच पर बैठाने के निर्णय को इडुल्जी ने मीडिया के सामने सपोर्ट किया है। उनके द्वारा ऐसा करने से मुझे काफी चोट पहुंची है, क्योंकि उन्हें सारी सच्चाई पता थी और उन्होंने इस बारे में मुझसे बात की थी।'

मिताली ने लिखा, 'कोच रमेश पोवार से मेरा विवाद विंडीज पहुंचते ही शुरू हो गया था। शुरुआत से ही कोच का मेरे प्रति रवैया अनुचित और भेदभावपूर्ण था, लेकिन मैंने उसकी परवाह नहीं की और खेलती रही। कोच के लिए मैं कभी टीम में थी ही नहीं। अगर मैं उनके आसपास होती थी, तो वह वहां से चले जाते थे। अगर मैं उनसे बात करने जाती थी, तो वह इधर-उधर देखने लगते थे।'

मिताली ने लिखा, '20 साल लंबे करियर में पहली बार मैं निराश और काफी नीचा महसूस कर रही हूं। मैं यह सोचने पर मजबूर हूं कि क्या देश के लिए की गई मेरी मेहनत और सेवा सत्ता में बैठे कुछ लोगों के लिए कुछ मायने रखती है या नहीं। यह लोग मुझे बरबाद करने और मेरे आत्मविश्वास को कमजोर करना चाहते हैं।' 

बता दें कि विंडीज में हाल ही में संपन्न हुए महिला टी-20 वर्ल्डकप के सेमीफाइनल में फॉर्म में चल रही अनुभवी बल्लेबाज मिताली राज को इंग्लैंड के खिलाफ अंतिम-11 में शामिल नहीं किया गया था। मैच के बाद हरमनप्रीत ने यह भी कहा था कि उन्हें अपने फैसले पर 'कोई पछतावा' नहीं है। इस मामले पर BCCI भी गंभीर है। सोमवार को BCCI के CEO राहुल जोहरी और जेनरल मैनेजर सबा करीम ने भारतीय कप्तान हरमनप्रीत कौर और मिताली राज को मिलने के लिए बुलाया था। 
 

कमेंट करें
0FXLJ