comScore

फिल्म पद्मावती पर बोले केन्द्रीय मंत्री- 'इतिहास-भूगोल नहीं, फिल्म को फिल्म की तरह देखें'

November 13th, 2017 23:23 IST
फिल्म पद्मावती पर बोले केन्द्रीय मंत्री- 'इतिहास-भूगोल नहीं, फिल्म को फिल्म की तरह देखें'

डिजिटल डेस्क, मुंबई। केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने पद्मावती फिल्म पर जारी विरोध पर बयान देते हुए कहा है कि वे फिल्मों को फिल्म की तरह देखते हैं।  इतिहास और भूगोल में नहीं जाते। गौरतलब है कि भंसाली की फिल्म एक दिसंबर को रिलीज होनी है। देशभर में राजपूत संगठन इस फिल्म का विरोध कर रहे हैं। आज भी फिल्म डायरेक्टर संजय लीला भंसाली के घर-दफ्तर के बाहर जमकर प्रदर्शन हुए। इन प्रदर्शनों पर नकवी ने कहा, "अगर आपको फिल्म में कुछ अच्छा लगता है तो उसे आपको स्वीकार करना चाहिए। अगर आपको कुछ अच्छा नहीं लग रहा है तो उसे वहीं पर छोड़ देना चाहिए। मैं फिल्म (पद्मावती) का ना तो समर्थन कर रहा हूं और ना ही उसका विरोध कर रहा हूं। मैं फिल्मों को फिल्मों की तरह देखता हूं।''


भंसाली के घर-दफ्तर के बाहर प्रदर्शन

संजय लीला भंसाली निर्देशित फिल्म पद्मावती के विरोध में रविवार को अखंड राजपुताना सेवासंघ के सदस्यों ने प्रदर्शन किया। भंसाली के घर और दफ्तर के बाहर प्रदर्शन कर रहे 15 कार्यकर्ताओं को पुलिस ने हिरासत में लिया हालांकि बाद में सभी को छोड़ दिया गया। इस बीच अखंड राजपुताना सेवासंघ के अध्यक्ष आरपी सिंह ने बताया कि भंसाली राजपूत संगठनों को प्रदर्शन से पूर्व  फिल्म दिखाने को राजी हो गए हैं। उन्होंने कहा, ''भंसाली ने 15 से 18 नवंबर के बीच किसी दिन फिल्म दिखाने का वादा किया है। इस पर भरोसा करते हुए हम फिलहाल आंदोलन नहीं करेंगे।''

इससे पहले राजपूत संगठनों ने भंसाली के जुहू स्थित घर और ऑफिस के सामने प्रदर्शन किया। प्रदर्शन में कई महिलाएं भी शामिल थीं। प्रदर्शनकारी भंसाली के खिलाफ नारेबाजी करते हुए फिल्म रिलीज न होने देने की चेतावनी दे रहे थे। संगठन ने पहले ही पुलिस को विरोध प्रदर्शन का जानकारी दे दी थी इसलिए इलाके में धारा 144 लगा दी गई थी। पुलिस ने प्रदर्शन करने वाले आरपी सिंह के अलावा सेवासंघ की महिला प्रदेश अध्यक्षा सुमिता सुमन सिंह, मुंबई अध्यक्ष राम विलास समेत दर्जनों कार्यकर्ताओं और पदाधिकारियों को हिरासत में ले लिया। बाद में जुहू पुलिस स्टेशन ले जाकर सभी को छोड़ दिया गया।

भंसाली का पुतला फूंका

भाजपा विधायक राज पुरोहित की अगुवाई में रविवार को कालबादेवी इलाके में राजस्थान की विभिन्न संस्थाओं ने प्रदर्शन किया। नारेबाजी करते हुए संजय लीला भंसाली का पुतला फूंका गया। इसके बाज कालबादेवी स्थित भारत भवन में एक बैठक आयोजित कर फिल्म पद्मावती के विरोध में 20 नवंबर को दोपहर एक बजे से शाम पांच बजे तक विशाल धरना मोर्चा का ऐलान किया गया। इस मोर्चे के जरिए फिल्म पद्मावती पर पाबंदी की मांग की जाएगी। पुरोहित का दावा है कि 36 कौम एकता परिषद, राजस्थानी समाज और राजपुताना समाज से जुड़ी सभी संस्थाएं फिल्म पर पाबंदी लगाने के पक्ष में हैं।

कमेंट करें
qg2xN