comScore

मुलायम सिंह की कामना, नरेन्द्र मोदी फिर बनें देश के पीएम

February 14th, 2019 09:25 IST

हाईलाइट

  • समाजवादी पार्टी के संरक्षक मुलायम सिंह यादव ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के पीएम बनने की कामना की है।
  • संसद में मुलायम सिंह प्रधानमंत्री को लेकर दिए इस बयान के बाद जमकर ठहाके लगे और तालियां बजाई गई।
  • प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी हाथ जोड़कर मुलायम सिंह का अभिवादन किया।

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। 16वीं लोकसभा के बजट सत्र के आखिरी दिन समाजवादी पार्टी के संरक्षक मुलायम सिंह यादव ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की तारीफ करते हुए उनके दोबारा पीएम बनने की कामना की है। संसद में  मुलायम सिंह प्रधानमंत्री को लेकर दिए इस बयान के बाद जमकर ठहाके लगे और तालियां बजाई गई। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी हाथ जोड़कर मुलायम सिंह का अभिवादन किया। उन्होंने कहा 'अभी बहुत कुछ करना बाकी है और मुलायम सिंह ने अपना आशीर्वाद दिया है। मैं उनका बहुत आभारी हूं।' बता दें कि जिस समय मुलायम सिंह यादव अपना बयान दे रहे थे, तो उनके ठीक बगल में यूपीए की चेयरपर्सन सोनिया गांधी बैठी थीं।

मुलायम सिंह ने संसद में कहा कि 'मैं पीएम मोदी को बधाई देना चाहता हूं कि पीएम ने सभी को साथ लेकर चलने की कोशिश की है। ये सच है कि आपसे जिस भी काम के लिए कहा गया आपने उसी वक्त उस काम को करने का ऑर्डर दिया। मैं कहना चाहता हूं की सारे सदस्य फिर से जीत कर आए, और आप दोबारा प्रधानमंत्री बने।

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने मुलायम सिंह के बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि 'मैं इस बात से असहमत हूं, लेकिन मुलायम सिंह यादव जी की राजनीति में भूमिका है और मैं उनकी राय का सम्मान करता हूं'।

समाजवादी पार्टी के नेता और पूर्व मंत्री रविदास मेहरोत्रा ने कहा कि 'मुझे उस संदर्भ के बारे में जानकारी नहीं है जिसमें नेता जी ने ये कहा था, लेकिन हम केंद्र में सरकार बदलना चाहते हैं।' उन्होंने कहा, खुद पीएम अपने निर्वाचन क्षेत्र से हारेंगे।'

मुलायम सिंह की यह टिप्पणी उनके बेटे अखिलेश यादव के लिए भी झटके की तरह है, जो मई में होने वाले लोकसभा चुनाव के लिए पीएम मोदी और भाजपा के खिलाफ जीत हासिल करने के लिए विपक्षी गठबंधन बनाने का प्रयास कर रहे हैं। अखिलेश यादव ने 2014 के लोकसभा चुनाव में मिली बड़ी हार के बाद आगामी चुनावों के लिए अपनी एक मजबूत प्रतिद्वंद्वी मायावती के साथ गठबंधन किया है। हालांकि मुलायम सिंह इन घटनाक्रमों पर अब तक चुप ही रहे हैं।

मुलायम सिंह और उनके बेटे अखिलेश के बीच पिछले दोनों सालों से कुछ भी ठीक नहीं चल रहा है। अखिलेश यादव ने तख्तापलट करते हुए पिता द्वारा स्थापित पार्टी पर नियंत्रण कर लिया था। तनाव के बावजूद, मुलायम सिंह ने अपने बेटे के पक्ष में रहने का फैसला किया क्योंकि उनके छोटे भाई शिवपाल यादव ने एक अलग संगठन बना लिया।
 

कमेंट करें
3dOSs