comScore
Election 2019

यूनिवर्सिटी के हॉस्टलों में फ्री  वाई-फाई के नाम पर खानापूर्ति

यूनिवर्सिटी के हॉस्टलों में फ्री  वाई-फाई के नाम पर खानापूर्ति

डिजिटल डेस्क, नागपुर। यूनिवर्सिटी और रिलायंस जिओ कंपनी के करीब दो वर्ष पूर्व हुए सामंजस्य करार के तहत यूनिवर्सिटी के हॉस्टलों को वाई-फाई बनाया गया है। जगह-जगह राउटर लगा कर विद्यार्थियों को नि:शुल्क वाई-फाई देने का दावा यूनिवर्सिटी की ओर से किया गया है, लेकिन हकीकत में हॉस्टल में लगे वाई-फाई को विद्यार्थी 34 एमबी की क्षमता तक ही उपयोग में ला सकते हैं। इसके बाद लिमिट समाप्त हो जाती है। विद्यार्थियों के अनुसार यूनिवर्सिटी ने वाई-फाई हॉस्टल के नाम पर महज खानापूर्ति की है। 

34 एमबी डेटा नोट्स, ट्यूटोरिअल या फिर अन्य उपयोग के लिए काफी नहीं है। इसमें बमुश्किल नेट ब्राउजिंग हो पाती है। ऐसे में विद्यार्थियों ने विवि से यह लिमिट बढ़ाने की मांग की है। कंपनी ने नागपुर विश्वविद्यालय को मुफ्त में इंटरनेट देने का प्रस्ताव दिया था। इसे इसे स्वीकार करते वक्त नागपुर विश्वविद्यालय कुलगुरु डॉ. सिद्धार्थ विनायक काणे और कंपनी के अधिकारियों के बीच करार किया गया था। करार के अनुसार, नागपुर विश्वविद्यालय मंे विद्यार्थियों के लिए नि:शुल्क वाई-फाई की व्यवस्था होने वाली थी। इसके बाद जोर-शोर से केबल बिछाने का कार्य तो शुरू हुआ, मगर इंटरनेट सेवा शुरू नहीं हुई। लंबे समय बाद यह व्यवस्था शुरू हो सकी, लेकिन इसकी लिमिट कम होने के कारण यह सेवा विद्यार्थियों के लिए खासी उपयोगी साबित नहीं हो रही है। 

एनसीसी में विद्यार्थियों की भर्ती 17 मई से
महाराष्ट्र नेशनल यूनिट में सीनियर डिवीजन लड़के और लड़कियों के प्रथम वर्ष के लिए भर्ती प्रक्रिया 17 मई से शुरू होगी। यह प्रक्रिया 5 जून तक चलेगी। भर्ती के लिए विद्यार्थी नेशनल यूनिट एनसीसी बंगला नंबर- 2 स्टार्की टाउन मंगलवारी बाजार में संपर्क कर सकते हैं। नागपुर विश्वविद्यालय से जुड़े हुए  कनिष्ठ अौर वरिष्ठ महाविद्यालयों से सभी विद्यार्थियों के लिए प्रवेश खुले हैं। इसके लिए विद्यार्थियों को सुबह 10.30 बजे  परिसर में फिजिकल और लिखित परीक्षा के लिए उपस्थित रहने की जानकारी ग्रुप कैप्टन रक्षा मंत्रालय नागपुर बी.बी. पांडे ने प्रेस विज्ञप्ति में दी। 
 

Loading...
कमेंट करें
AkEZN
Loading...