comScore

नागपुर का स्मार्ट स्ट्रिप, वीवीआईपी के लिए बनेगा ग्रीन कॉरिडोर

नागपुर का स्मार्ट स्ट्रिप, वीवीआईपी के लिए बनेगा ग्रीन कॉरिडोर

डिजिटल डेस्क, नागपुर। स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट में शामिल 'स्मार्ट स्ट्रिप' मॉडल से यातायात को आसान बनाने का काम किया जा रहा है। इसी मॉडल के आधार पर शहर की कुछ अन्य रास्तों में 'स्मार्ट स्ट्रिप' बनाकर ग्रीन कॉरिडोर की सुविधा तैयार की जाएगी। इससे शहर में ऑर्गन ट्रांसपोर्ट और अति विशिष्ट अतिथि (वीवीआईपी) के आवागमन के लिए पुलिस प्रशासन को जगह-जगह पुलिसकर्मी लगाने की आवश्यकता नहीं पड़ेगी।

-पहला विषय यातायात का है। जापानी गार्डन से खामला चौक तक स्मार्ट स्ट्रिप में 10 चौराहों पर ऑटोमेटिक ट्रैफिक कंट्रोल सिस्टम (एटीसीएस) लगाए गए हैं। यह सिस्टम सीसीटीवी कैमरों के ऊपर लगा हुआ है, जो वहां के यातायात के घनत्व को देखता है। 
-इसके अतिरिक्त बसों और बस स्टॉप पर अगले स्टॉप की जानकारी, तापमान व एक अन्य बिंदु पर काम किया जा रहा है।
-यही नहीं, इस एरिया में ऑटोमेटिक स्ट्रीट लाइट लगी हुई है, जो अंधेरा होने पर अपने आप शुरू हो जाती हैं। इसे कंट्रोल रूम से भी कमांड किया जा सकता है। इस सिस्टम में यह खासियत है कि कुछ को बंद और कुछ को चालू किया जा सकता है। 
-वहां 10 डस्टबिन भी लगाए गए हैं, जहां क्षमता से 90 फीसदी ज्यादा कचरा जमा होने पर कचरा उठाने वाली एजेंसी के संबंधित कर्मचारी को संदेश भेजा जाएगा। 

इसलिए यहां उम्मीद
-वीवीआईपी के लिए विमानतल से राजभवन एटीसीएस लगाया जा सकता है। इसके साथ ही रामगिरी और सिविल लाइंस के हिस्से को कवर किया जा सकता है।
-वहीं, लकड़गंज स्थित न्यू ईरा हॉस्पिटल में लगातार लिवर ट्रांसप्लांट हो रहे हैं। एलेक्सिस और वोक्हार्ट हॉस्पिटल, ऑरेंज सिटी को भी इसमें शामिल किया जा सकता है।
-मेडिकल अस्पताल के साथ ही ट्रॉमा केयर सेंटर और सुपर स्पेशलिटी और मेयो तथा अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) नागपुर की कनेक्टिवटी के लिए ऐसा किया जा सकता है।

रूट प्लान के लिए इनसे होगी चर्चा
शहर यातायात पुलिस, स्वास्थ्य विभाग, नागपुर स्मार्ट एंड सस्टेनेबल सिटी डेवलेपमेंट को-ऑर्पोरेशन लिमिटेड (एनएसएससीडीसीएल), जोनल ट्रांसप्लांट को-ऑर्डिनेशन कमेटी (जेडटीसीसी) आदि से चर्चा होगी कि किस रूट को इसमें शामिल किया जाए।

कमेंट करें
YkBOH