comScore

नागपुर-वर्धा थर्ड लाइन की कास्ट हुई दोगुनी, धीमी गति से चल रहा है काम

नागपुर-वर्धा थर्ड लाइन की कास्ट हुई दोगुनी, धीमी गति से चल रहा है काम

डिजिटल डेस्क, नागपुर। नागपुर-वर्धा थर्ड लाइन की कास्ट अब दोगुनी हो चुकी है। ऐसा धीमी गति से चल रहे विकास कार्य के चलते हो रहा है। विदर्भ के लिए महत्वपूर्ण नागपुर-वर्धा थर्ड लाइन अब तक आधी भी नहीं बन सकी है। वर्षों से कछुआ गति से काम चलने के कारण अब तक इस लाइन का प्रोजेक्ट कॉस्ट वर्तमान कॉस्ट से लगभग दोगुना पहुंच चुका है।

यह है हकीकत
उल्लेखनीय है कि नागपुर मंडल अंतर्गत नागपुर से सेवाग्राम तक एक ही रेलवे मार्ग है। इसमें अप व डाउन की लाइनें हैं। ऐसे में होशंगाबाद से आने वाली गाड़ी को हैदराबाद के लिए जाना हो या फिर भुसावल, यह गाड़ी नागपुर-सेवाग्राम से होकर ही गुजरती है। उसी प्रकार भुसावल व हैदराबाद से आनेवाली गाड़ियों को सेवाग्राम-नागपुर क्रास कर ही होशंगाबाद के लिए पहुंचना संभव होता है। इस दरमियान गाड़ियों का आवागमन बढ़ जाता है और रूट प्रभावित होता है। 

गाड़ियां बढ़ गई हैं
प्रति वर्ष रेलवे बजट में होनेवाली घोषणा के बाद भी इन मार्गों से गुजरने वाली गाड़ियों में वृद्धि हुई है। परिणामस्वरूप इस सेक्शन दरमियान रोजाना क्षमता से अधिक गाड़ियों का आवागमन हो रहा है। हालांकि रेलवे प्रशासन द्वारा यात्री गाड़ियों को प्राथमिकता देकर मालगाड़ियों का अटका दिया जाता है। इससे रेलवे के राजस्व में कटौती हो रही है। विदर्भ के औद्योगिकीकरण की चाल भी धीमी हो रही है। 

6 वर्ष पहले हुई थी घोषणा
गौरतलब है कि गत 6 वर्ष पहले रेलवे बजट में नागपुर-सेवाग्राम थर्ड लाइन की घोषणा हुई थी। इससे मालगाड़ियों का आवागमन तेज किया जाना था। घोषणा के समय इस प्रस्ताव की लागत राशि 376 करोड़ रुपए बताई गई थी, लेकिन लेट-लतीफी के कारण आज इसकी कीमत 515 करोड़ रुपए भी पार कर चुकी है। काम आधा भी नहीं हो पाया है। रेलवे के इस प्रोजेक्ट का कार्य कब पूरा होगा इस ओर तो लोगों का ध्यान लगा हुआ है।

जानकारी नहीं मिली
मध्य रेलवे के नागपुर विभाग के सहायक वाणिज्य प्रबंधक से जानकारी मांगने पर संबंधित अधिकारियों के फोन स्वीच ऑफ का हवाला देते हुए जानकारी नहीं दी गई। 

कमेंट करें
Bkqu4