comScore

सुपारी की स्मगलिंग में श्रीलंका के पूर्व क्रिकेट कप्तान सहित दो अन्य खिलाड़ी फंसे

November 22nd, 2018 15:19 IST
सुपारी की स्मगलिंग में श्रीलंका के पूर्व क्रिकेट कप्तान सहित दो अन्य खिलाड़ी फंसे

हाईलाइट

  • सुपारी की स्मगलिंग में श्रीलंका के पूर्व क्रिकेट कप्तान का नाम शामिल
  • सुपारी की स्मगलिंग में दो अन्य श्रीलंकाई खिलाड़ी भी शामिल
  • नागपुर में करोड़ों रुपए की सड़ी हुई सुपारी जब्त

डिजिटल डेस्क, नागपुर। भारत में स्मगलिंग के जरिए सड़ी हुई सुपारी भेजने के मामले में श्रीलंका के पूर्व क्रिकेट कप्तान सनथ जयसूर्या का नाम सामने आया है। उनके अलावा दो और खिलाड़ी भी इस धंधे में शामिल बताए जा रहे हैं, लेकिन उनके नामों का खुलासा अभी नहीं हुआ है। डायरेक्टर आॅफ रेवेन्यू इंटेलिजेंस (डीआरअाई) ने नागपुर में करोड़ों रुपए की सड़ी हुई सुपारी जब्त की थी। इस धंधे में शामिल गिरफ्तार किए गए एक व्यापारी से पूछताछ में जयसूर्या का नाम सामने आया। रेवेन्यू इंटेलिजेंस की टीम ने जयसूर्या को पूछताछ के लिए मुंबई बुलाया। वे आए भी। अब आगे की कानूनी कार्रवाई के लिए श्रीलंका सरकार को पत्र भेजा गया है। सूत्रों के अनुसार, दो अन्य क्रिकेट खिलाड़ियों को 2 दिसंबर तक पूछताछ के लिए बुलाने की तैयारी है। रेवेन्यू इंटेलिजेंस के डिप्टी डायरेक्टर ने बताया कि यह सुपारी इंडोनेशिया से पहले श्रीलंका, फिर वहां से स्मगलिंग के जरिए भारत पहुंची थी। इसके लिए श्रीलंका में डमी कंपनियां बनाई गई हैं। 

इस तरह फंसे खिलाड़ी
श्रीलंका में खिलाड़ियों ने अपनी पहुंच के चलते सरकार से सुपारी के व्यापार का लाइसेंस लिया और इसके लिए कई कंपनियां भी बनाई गईं। इनमें डमी कंपनियां भी शामिल हैं। इन कंपनियों के माध्यम से इंडोनेशिया की सुपारी को फर्जी उत्पादन के प्रमाण-पत्र दिए। इसमें यह दावा किया गया कि यह सुपारी श्रीलंका में उत्पादन की गई है, जिससे इंपोर्ट ड्यूटी चुराई गई।

जांच के दौरान हुआ खुलासा  
डीआरआई के सूत्रों ने बताया कि नागपुर में प्रकाश गोयल नामक व्यक्ति के भंडारा रोड स्थित गोदाम को सील किया गया है। उसे गैर-जमानती वारंट भी जारी किया गया है। इससे पहले मुंबई के फारुख खुरानी नामक सुपारी व्यापारी को गिरफ्तार कर उससे करीब 10 करोड़ रुपए का माल जब्त किया गया है। इसी मामले की जांच करते डीआरआई श्रीलंका तक पहुंच गई

श्रीलंका के जरिए स्मगलिंग
इंडोनेशिया की सामान्य व सड़ी सुपारी को भारत में श्रीलंका के माध्यम से खपाया जा रहा है, वह भी बिना कोई इंपोर्ट ड्यूटी चुकाए, जबकि यदि भारत के व्यापारी सीधे इंडोनेशिया से सुपारी खरीदते, तो उन्हें 108 प्रतिशत इंपोर्ट ड्यूटी चुकानी पड़ती।  दरअसल साउथ एशिया फ्री ट्रेड एरिया (साप्ता) के तहत भारत, पाकिस्तान, श्रीलंका, नेपाल, मालदीव, भूटान और अफगानिस्तान के बीच हुए व्यापारिक समझौते के तहत इंपोर्ट और एक्सपोर्ट ड्यूटी में पूरी तरह से छूट है। इसी का फायदा सुपारी की स्मगलिंग में उठाया जा रहा है। इंडोनेशिया में सुपारी का अधिक उत्पादन होता है। इंडोनेशिया से सुपारी को पहले श्रीलंका लाया जाता है, इसके बाद इसे श्रीलंका का उत्पादन बताकर बिना इंपोर्ट ड्यूटी चुकाए भारत भेज दिया जाता है। इस हिसाब से 108 प्रतिशत की इंपोर्ट ड्यूटी चोरी का मामला है।

नागपुर में 100 करोड़ रुपए से अधिक का कारोबार
नागपुर सड़ी और कच्ची समेत घरेलू सुपारी कारोबार का बड़ा केंद्र बन गया है। 100 करोड़ रुपए से अधिक का कारोबार नागपुर से होता है। इसके कई महत्वपूर्ण कारण बताए जा रहे हैं। सड़क और रेल मार्ग से नागपुर सीधा जुड़ा होने से यहां आसानी से माल पहुंच जाता है। सुपारी के बड़े जखीरे को एशिया के देशों से लाकर असम तक पहुंचाया जाता है। असम में सुपारी का बड़ा कारोबार है। यहां भी कई डमी कंपनियां हैं, जहां इनके उत्पादन के पक्के बिल बनाकर देशभर में भेजा जाता है। और यहीं से बड़ी मात्रा में सुपारी नागपुर पहुंचती है।

अब इंटरनेशनल गिरोह  पर निगरानी
देश में बिना इंपोर्ट ड्यूटी चुकाए आ रही सामान्य व सड़ी सुपारी पर विभाग लगातार निगरानी रख रहा है। इस मामले में लिप्त इंटरनेशनल गिरोह की जानकारी मिली है। इसी जांच में देश के कई व्यापारियों सहित श्रीलंका क्रिकेट टीम के कुछ खिलाड़ियों के नाम सामने आए हैं। उनसे पूछताछ की प्रक्रिया जारी है। मामला अभी अंडर इन्वेस्टिगेशन है।
-दिलीप सिवारे, डिप्टी डायरेक्टर, डीआरआई

नागपुर के व्यापारियों को जारी  हो चुका है लुक-आउट नोटिस 
नागपुर में सुपारी की गुणवत्ता को लेकर अन्न व औषधि विभाग (एफडीए) आए दिन कार्रवाई करता है, लेकिन स्मगलिंग को लेकर डीआरआई निगरानी करता है। डीआरआई नागपुर और मुंबई में कुछ समय पहले तक 13.50 करोड़ रुपए की सुपारी जब्त कर चुका है। फारुख खुरानी और प्रकाश गोयल इसमें दो बड़े नाम उभरकर सामने आए हैं, जिनके खिलाफ डीआरआई ने कार्रवाई की है। हाल ही में गोंदिया में भी 3.25 करोड़ की सुपारी जब्त कर मो. रज्जाक नामक व्यक्ति को डीआरआई ने गिरफ्तार किया था। उसे 60 दिन की पुलिस कस्टडी में भी रखा गया था। इसके अलावा डीआरआई ने नागपुर समेत कुछ अन्य शहरों के सुपारी व्यापारियों को लुक आउट नोटिस जारी कर भारत छोड़कर जाने से मना कर दिया है। ऐसे में डीआरआई को लेकर सुपारी व्यापारियों में दहशत बढ़ गई है। दहशत इतनी है कि अब व्यापारी खुद अपने ट्रकों को शहर के भीतर आने देने के बजाय उसे ग्रामीण क्षेत्रों में कहीं खड़ा कर देते हैं। डीआरआई की टीम पहुंचने पर ट्रक सहित फरार हो जाते हैं।

सड़ी सुपारी इंपोर्ट कर भर रहे तिजोरी
देश व नागपुर में बैठे सुपारी कारोबारियों को सबसे ज्यादा फायदा सड़ी सुपारी को इंपोर्ट करने में होता है। इंडोनेशिया की सड़ी सुपारी श्रीलंका के व्यापारी भारत के व्यापारियों को कुल कीमत के 25 प्रतिशत दाम में  बेचते हैं। यानी 100 करोड़ की सुपारी 25 करोड़ में लेकर इसे देश के अलग-अलग हिस्सों में सामान्य सुपारी के साथ मिक्स करके उसे गुटखा-तंबाकू के उत्पादनों में मिलाकर पूरे दामों में बेच दिया जाता है। इसे सल्फर की भट्‌ठी में पका कर अच्छी सुपारी के साथ मिला दिया जाता है। ऐसी सुपारी से व्यापारी तीन से चार गुना तक अधिक मुनाफा कमाते हैं।
 

कमेंट करें
LbPh5