comScore
Dainik Bhaskar Hindi

प्रेमिका की आत्मा करती थी परेशान, परिवार ने बारी-बारी से लगाई फांसी

BhaskarHindi.com | Last Modified - September 14th, 2018 00:18 IST

11.5k
3
0
प्रेमिका की आत्मा करती थी परेशान, परिवार ने बारी-बारी से लगाई फांसी

News Highlights

  • नरोदा में काले जादू के कारण कुणाल त्रिवेदी और उनके परिवार ने सुसाइड कर लिया था।
  • पुलिस को कृणाल की पत्नी के पास से एक सुसाइड नोट बरामद हुआ है।
  • कविता ने लिखा कि कृणाल की प्रेमिका की आत्मा उन्हें परेशान किया करती थी।


डिजिटल डेस्क, अहमदाबाद। नरोदा में काले जादू के कारण सुसाइड करने वाले कुणाल त्रिवेदी और उनके परिवार की मौत के मामले में एक और नया खुलासा सामने आया है। पुलिस को जांच के दौरान कृणाल की पत्नी के पास से एक सुसाइड नोट बरामद हुआ है। इसमें उसकी पत्नी कविता ने लिखा कि कृणाल की प्रेमिका की आत्मा उन्हें परेशान किया करती थी। जिससे परेशान होकर पूरे परिवार ने बारी-बारी से फांसी लगाकर मौत को गले लगा लिया।

कविता ने सुसाइड नोट में लिखा, 'शादी से पहले कुणाल की एक प्रेमिका थी। ये दोनों शादी करना चाहते थे। हालांकि कुणाल के परिवार वाले इस शादी के खिलाफ थे, इसलिए कुणाल ने उससे शादी नहीं की थी। इसी के चलते उस लड़की ने आत्महत्या कर ली थी। उसी प्रेमिका की आत्मा उन्हें परेशान करती थी।'

कविता ने लिखा, 'उसने अपना एक बंगला एक करोड़ रुपये में बेचा था। बचा हुआ पैसा मैंने और कुणाल ने आपस में बांट लिया है। मैं अपना पैसा आपको दे रही हूं। आज दिन तक मैंने जो भी बचत की है, वो श्रीन बेटी के लिए है, लेकिन श्रीन को मैं अपने साथ ले जा रही हूं। वो हिस्सा भी मैं आपको देना चाहती हूं।'

वो न मारना चाहती है और न जीने देना चाह रही है
सुसाइड नोट में जो लिखा, 'उसे जानने के बाद लगा की आत्मा इस परिवार को काफी परेशान कर रही थी। परेशान कविता ने नोट में लिखा, 'वो आत्मा हमें इस कदर परेशान कर रही है कि न तो वो हमें मारना चाहती है और न ही जीने देना चाह रही है। आत्मा के द्वारा इस कदर सताए जाने के बाद काफी सोचने के बाद ये कदम उठा रहे हैं।'

DCP अहमदाबाद का कहना है कि कुणाल और कविता का सुसाइड प्लान कुछ दिनों पहले से था। 8 सितम्बर को कविता की बहन के घर ड्राइवर के हाथ तीन बैग भेजे थे। जिसमें कपड़े, सोने के गहने और नकद रुपये थे। जिसकी टोटल वेल्यू 10 लाख रुपए है। उसी बैग में कविता की लिखी गई ये चिठ्ठी थी। ड्राइवर के हाथों भेजे गए बैग को कुछ दिनों के लिये उनके घर में रखने के लिये कहा गया था।

समाचार पर अपनी प्रतिक्रिया यहाँ दें l

ये भी देखें

ई-पेपर