comScore
Dainik Bhaskar Hindi

VIDEO : अनोखी शक्ति करती है इस देवी मंदिर में पूजा, अर्पित मिलता है जल

BhaskarHindi.com | Last Modified - September 22nd, 2017 09:02 IST

566
0
0

डिजिटल डेस्क, सतना। त्रिकूट पर्वत पर विराजीं माता शारदा के दरबार मैहर में शारदेय नवरात्रि मेला गुरूवार से चाक चौबंद सुरक्षा और दर्शनार्थियों की सुविधा के पुख्ता इंतजामों के बीच शुरू हुआ। नवरात्र पर्व पर देश भर से  लाखों यहां दर्शनों के लिए आते है। पूरे पर्व के दौरान मेला भरा रहता है। 

मैहर के मेला क्षेत्र पर वरिष्ठ प्रशासनिक एवं पुलिस अधिकारियों समेत 12 सौ से अधिक जवानों की नजर रहेगी। कलेक्टर नरेश पाल एवं पुलिस अधीक्षक राजेश हिंगणकर ने मैहर में पुलिस बल को ड्यूटी पर तैनात किया है। नौ दिनों तक पुलिस की नजर चप्पे पर रहेगी। 

मंदिर को लेकर मान्यता

51 शक्तिपीठों में से एक इस मंदिर के बारे में कहा जाता है कि यहां माता सती का हार गिरा था जिसकी वजह से इस स्थान का नाम मैहर पड़ा। आल्हा-उदल को लेकर भी यहां अनेक किवदंतियां व कथाएं प्रचलित हैं। कहा जाता है कि आल्हा को ही 12 वर्ष तप के बाद जंगल में मां शारदा की मूर्ति मिली थी। जिसने उसे यहां लाकर स्थापित किया। 

रात में रुकना मना 

इस मंदिर में आज भी रात में कोई नहीं ठहरता। कहा जाता है कि आल्हा-उदल की भक्ति से प्रसन्न होकर माता ने उन्हें अमरत्व का वरदान दिया था। जिसकी वजह से वे आज भी यहां माता की पूजा करने आते हैं। सुबह पुजारी जब मंदिर के द्वार खोलते हैं तो उन्हें जल के साथ एक फूल भी माता के चरणों में अर्पित मिलता है। 

इसी वजह से यहां रात में रुकना मना है। कहा जाता है कि जो भी ऐसा प्रयास करता है उसकी मौत हो जाती है। मंदिर से कुछ किलोमीटर की दूरी पर ही आल्हा-उदल अखाड़ा है। जहां वे युद्धाभ्यास किया करते थे। 

समाचार पर अपनी प्रतिक्रिया यहाँ दें l

ई-पेपर