comScore

शरद पवार ने कहा - निर्विरोध हो काटोल विधानसभा उपचुनाव, एनसीपी के 6 और प्रत्याशियों की सूची में पार्थ को उम्मीदवारी     

March 15th, 2019 21:25 IST
शरद पवार ने कहा - निर्विरोध हो काटोल विधानसभा उपचुनाव, एनसीपी के 6 और प्रत्याशियों की सूची में पार्थ को उम्मीदवारी     

डिजिटल डेस्क, मुंबई। एक और नेता पुत्र चुनाव मैदान में उतर गया है। राकांपा के वरिष्ठ नेता अजित पवार के पुत्र पार्थ पवार को पार्टी ने मावल उम्मीदवार घोषित किया है। जबकि नाशिक से इस बार छगन भुजबल की बजाय उनके भतीजे समीर भुजबल को टिकट दिया गया। शुक्रवार को राकांपा अध्यक्ष शरद पवार की मौजूदगी में प्रदेश राकांपा अध्यक्ष जयंत पाटील ने पांच और उम्मीदवारों की सूची जारी की। दिंडोरी से धनराज मुहाले, नाशिक से समीर भुजबल, शिरुर से डा अमोल कोल्हे, बीड से बजरंग सोनवणे और मावल से पार्ट पवार उम्मीदवार बनाए गए हैं। इससे पहले गुरुवार को राकांपा ने महाराष्ट्र के लिए 10 उम्मीदवारों की सूची जारी की थी। जिसमें राकांपा अध्यक्ष शरद पवार की सांसद बेटी सुप्रिया सुले भी शामिल थी। शिरुर से उम्मीदवार बनाए गए अभिनेता डा कोल्हे हाल ही में शिवसेना छोड़ कर राकांपा में शामिल हुए थे। कोल्हे छत्रपति शिवाजी महाराज और संभाजी महाराज की भूमिका के लिए जाने जाते हैं। पार्टी ने अभी तक माढा व अहमदनगर सीट से अपने उम्मीदवारों की घोषणा नहीं की है। माढा सीट से राकांपा सुप्रिमों चुनाव लड़ने वाले थे लेकिन पार्थ पवार की चुनाव लड़ने की जिद के चलते पवार ने चुनाव मैदान से हटने का फैसला किया है। इससे पवार परिवार का राजनीतिक द्वंद सामने आया है। पवार नहीं चाहते थे कि ऐसा संदेश जाएगी की राकांपा केवल एक परिवार विशेष की पार्टी है। अभी तक पवार परिवार से दो लोगों को उम्मीदवारी मिल चुकी है। विधानसभा में विपक्ष के नेता राधाकृष्ण विखेपाटील के बेटे डा सुजय विखे पाटील के भाजपा में शामिल होने के बाद राकांपा के सामने अहमदनगर से मजबूत उम्मीदवार उतारने की चुनौती है।  

निर्विरोध हो काटोल विधानसभा उपचुनावः शरद पवार 

उधर केंद्रीय चुनाव आयोग ने लोकसभा चुनाव के साथ ही नागपुर जिले की काटोल विधानसभा सीट के लिए उप चुनाव घोषित किया है। जबकि 3 माह राज्य के विधानसभा चुनाव होने वाले हैं। इस लिए राष्ट्रवादी कांग्रेस अध्यक्ष शरद पवार चाहते हैं कि इतने कम समय के लिए मतदान के लिए खर्च व मेहनत करने की बजाय सभी दलों की सहमति से किसी सामाजिक कार्यकर्ता का निर्विरोध चुनाव होना चाहिए। शुक्रवार को राकांपा उम्मीदवारों की सूची जारी करने के मौके पर पवार ने कहा कि तीन महीने के लिए सभी राजनीतिक दलों के उम्मीदवारों द्वारा चुनावी खर्च करने की बजाय सामाजिक क्षेत्र में कार्यरत किसी प्रतिष्ठित व्यक्ति को यहां से निर्विरोध चुन लिया जाए। उन्होंने सभी दलों से अपील की है कि वे एक साथ बैठ कर इस बारे में चर्चा करें और काटोल उप चुनाव के लिए अपने उम्मीदवारों का नामांकन न कराएं। 2014 में इस सीट से बतौर भाजपा उम्मीदवार आशीष देशमुख ने राकांपा उम्मीदवार अनिल देशमुख को पराजीत किया था। बाद में मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस से मतभेद के चलते 2 अक्टूबर 2018 को देशमुख ने विधानसभा सदस्यता से इस्तीफा दे दिया था। अब आगामी 11 अप्रैल को इस सीट के लिए भी मतदान होना है। 

50 फीसदी वीवीपैट की हो गणना  

राकांपा अध्यक्ष पवार ने कहा है कि इलेक्ट्रानिक वोटिंग मशीन से संलग्न वीवीपैट पर्ची से कम से कम 50 फीसदी मतों की गणना होनी चाहिए। वीवीपैट वोटों की गणना का आकड़ा 2 फीसदी से बढ़ाने के लिए विपक्षी दलों ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की है। पवार ने कहा कि आगामी 23 मार्च को इस पर सुनवाई होगी।  

Loading...
कमेंट करें
WtqCb
Loading...