comScore

PNB SCAM: नीरव मोदी बोला- नहीं वसूल पाओगे बकाया

September 06th, 2018 15:22 IST

डिजिटल डेस्क नई दिल्ली। देश के सबसे बड़े बैंक घोटाले (PNB) के 11 हजार 400 करोड़ रुपए डूबते हुए दिखाई दे रहे हैं। घोटाले के आरोपी नीरव मोदी की इस मामले को लेकर पहली बार प्रतिक्रिया सामने आई है। एक खत के जरिए नीरव मोदी ने बैंक से संपर्क किया है। लेटर में साफ तौर पर नीरव मोदी ने लोन चुकाने में असमर्थता जाहिर करते हुए हाथ खड़े कर लिया है। इतना नहीं नहीं नीरव मोदी ने इसके लिए उल्टा बैंक को ही जिम्मेदार बताया है। लेटर में लिखा है, पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी) ने मामले को सार्वजनिक कर उससे बकाया वसूलने के सारे रास्ते बंद कर लिए हैं। इसके साथ ही मोदी का दावा है कि पीएनबी का उसकी कंपनियों पर बकाया बैंक द्वारा बतायी गई राशि से बेहद कम है।

ये लिखा है लेटर में
पीएनबी प्रबंधन को 15/16 फरवरी को लिखे एक पत्र में मोदी ने कहा कि उसकी कंपनियों पर बैंक का बकाया 5,000 करोड़ रुपये से कम है। पत्र के अनुसार, '' गलत तौर पर बतायी गई बकाया राशि से 'मीडिया में होहल्ला हो गया और इसके चलते जांच एजेंसियों ने उसकी तलाश का काम शुरु कर दिया। पत्र में आगे लिखा गया है कि, ''इससे समूह पर बैंक के बकाया को चुकाने की हमारी क्षमता खतरे में पड़ गई है। उसने कहा, '' 13 फरवरी को की गई मेरी पेशकश के बावजूद बकाया को तत्काल पाने की व्यग्रता में बैंक ने जानकारी 14/15  फरवरी को सार्वजनिक की आपकी इस कार्रवाई ने मेरे ब्रांड और कारोबार को तबाह कर दिया और इससे अब बकाया वसूलने की आपकी क्षमता सीमित हो गई है।

नीरव की कैसे होगी गिरफ्तारी
ललित मोदी और विजय माल्या के बाद नीरव मोदी एक और ऐसा नाम है उस सूची में जुड़ गया है जो भारत में आर्थिक अपराध कर दूसरे देश में जाकर बस गया है। वहीं अब नीरव की गिरफ्तारी को लेकर तमाम तरह के सवाल खड़े हो रहे हैं कि कैसे नीरव की गिरफ्तारी हो पाएगी। और क्या कुछ इसके आड़े आ सकता है। वहीं अगर देखा जाए तो भारत की 47 देशों के साथ प्रत्यर्पण संधि है। इसके तहत अगर कोई व्यक्ति भारत में अपराध करके भाग जाता है तो भारत उसके प्रत्यर्पण की गुजारिश उस देश से कर सकता है जहां उसने शरण ली है। लेकिन प्रत्यर्पण की भी कुछ शर्तें होती हैं जिसका दोनों ही देशों को पालन करना पड़ता है। मसलन जिस कृत्य के लिए व्यक्ति को प्रत्यर्पित किया जाना है वो दोनों ही देशों में दंडनीय अपराध हो। साथ ही कम से कम इस कृत्य के लिए एक साल तक की सजा का प्रावधान हो।

दुबई में छिपा है मोदी !
पंजाब नेशनल बैंक में 11,400 करोड़ के घोटाले को अंजाम देकर फरार हुआ नीरव मोदी क्या अपने ठिकाने बदल रहा है? नीरव मोदी के स्विटजरलैंड में छिपे होने की खबरों के बीच अब दुबई में छिपे होने की खबर आ रही है। माना जा रहा है कि जांच एजेंसियां इंटरपोल की मदद लेकर नीरव मोदी पर कार्रवाई कर सकती है। सूत्रों के मुताबिक नीरव मोदी की लीगल टीम दुबई में ही है, जो नीरव को बचाने की कोशिशों में जुटी हुई है। वहीं जांच एजेंसियां, इंडिया में मोजूद नीरव मोदी के ठिकानों पर ताबड़तोड़ कार्रवाई कर रही है। ये कार्रवाई सोमवार को भी जारी रही। इधर घोटालेबाज मेहुल चौकसी की कंपनी गीतांजली के टॉप अफसरों ने इस्तीफा दे दिया है। CFO, VP और CS के अलावा बोर्ड के एक मेंबर ने इस्तीफा दिया है।

कमेंट करें
ldgXb