comScore
Dainik Bhaskar Hindi

लेनिन, पेरियार और अब श्यामा प्रसाद मुखर्जी, कब बुझेगी ये आग ?

BhaskarHindi.com | Last Modified - March 07th, 2018 17:40 IST

8.5k
0
0

डिजिटल डेस्क,दिल्ली। पहले त्रिपुरा में रुसी क्रांति के नायक व्लादिमीर लेनिन की मूर्ति फिर तमिलनाडु में पेरियार की मूर्ति गिराने की घटनाएं सामने आई हैं। अब पश्चिम बंगाल में जनसंघ के संस्थापक श्यामा प्रसाद मुखर्जी की मूर्ति पर कालिख पोते जाने की खबरें आ रही हैं। इन घटनाओं को लेकर पीएम मोदी ने चिंता जाहिर की है।

बताया जा रहा है कि टॉलीगंज स्थित श्यामा प्रसाद मुखर्जी की मूर्ति को नुकसान पहुंचाया गया है। इसके साथ ही उनकी मूर्ति पर कालिख भी पोत दी गई। घटना की जानकारी लगते ही पुलिस मामले की जांच में जुटी हुई है और पार्क के आसपास लगे सीसीटीवी कैमरे की जांच में जुट गई है। गौरतलब है कि त्रिपुरा में BJP सरकार को बहुमत मिलने के बाद से ही वामपंथी नेताओं और उनके प्रतीकों पर हमला हुआ है। वहां रुसी क्रांति के नायक व्लादिमीर लेनिन की दो मूर्तियों को गिरा दिया गया है। इसके बाद त्रिपुरा में विवाद की स्थिति बन गई। जिसके बाद बुधवार सुबह तमिलनाडु के वेल्लुर में पेरियार की मूर्ति तोड़ दी गई। इस मामले में बीजेपी नेता एच राजा का नाम सामने आ रहा है, जिनकी फेसबुक पोस्ट के बाद मूर्ति तोड़ी गई है।


घटनाओं को लेकर चिंता

वहीं देशभर से आ रही इस तरह की घटनाओं को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने चिंता जाहिर की है। इसे लेकर प्रधानमंत्री ने गृहमंत्री राजनाथ सिंह से बात भी की है। गृह मंत्रालय ने कहा कि ऐसी घटनाओं को अंजाम दे रहे लोगों पर सख्‍त कार्रवाई की जाए।
 

शाह ने भी किया ट्वीट

 

तमिलनाडु में पेरियार की मूर्ति तोड़ी

बता दें कि तमिलनाडु के वेल्लुर में समाज सुधारक पेरियार की मूर्ति तोड़े जाने की खबर है। इस मामले में बीजेपी नेता एच राजा का नाम सामने आ रहा है, जिनकी फेसबुक पोस्ट के बाद मूर्ति तोड़ी गई है। वहीं इस घटना के बाद कोंयबटूर में बीजेपी ऑफिस पर पेट्रोल बम से हमला किया गया है। 


लेनिन की दो मूर्तियां तोड़ी

इसस पहले त्रिपुरा में लेफ्ट को उखाड़ फेंकने का भारतीय जनता पार्टी का आह्वान हिंसक रूप लेता जा रहा है। बेलोनिया में लेनिन की मूर्ति पर बुलडोजर चलाने के बाद दक्षिण त्रिपुरा के सबरूम मोटर स्टैंड इलाके से लेनिन की एक और मूर्ति तोड़ने की घटना सामने आई। बता दें कि इस वक्त देश भर में लेनिन की मूर्ति तोड़ने की जबरदस्त आलोचना हो रही है। हालांकि यह मूर्ति किसने तोड़ी अभी तक इस बात का पता नहीं लगाया जा सका है।

समाचार पर अपनी प्रतिक्रिया यहाँ दें l

ये भी देखें

app-download