comScore
Dainik Bhaskar Hindi

बिना फीस दिए बेटियां बनेंगी इंजीनियर, मिलेगी मुफ्त ट्यूशन

BhaskarHindi.com | Last Modified - January 12th, 2019 17:59 IST

2.1k
0
0
बिना फीस दिए बेटियां बनेंगी इंजीनियर, मिलेगी मुफ्त ट्यूशन

डिजिटल डेस्क, दमोह। अब बेटियों को इंजीनियरिंग के क्षेत्र से जोड़ने के लिए CBSE की ओर से एक पहल प्रारंभ की गई है। बोर्ड द्वारा संचालित उड़ान प्रोजेक्ट में अब बेटियों से फार्म भरने में लगने वाले शुल्क 1000 रुपए नहीं लिया जाएगा, यह आदेश समुचित देश में लागू होगा।

कैसे मिलेगा प्रवेश
उड़ान प्रोजेक्ट में शामिल होने वाली बेटी को अब सिर्फ ऑनलाइन प्रवेश परीक्षा पास करनी होगी। इसमें वही छात्रा आवेदन कर पाएगी, जिन्होंने दसवीं बोर्ड की परीक्षा साइंस और गणित में 70 प्रतिशत तक अंक प्राप्त कर पास किए हों। CBSE ने उड़ान प्रोजेक्ट की शुरुआत मानव संसाधन विकास मंत्रालय के सहयोग से की थी इसके तहत कक्षा 11वीं और 12वीं में विज्ञान और गणित में पढऩे वाली छात्राओं को बोर्ड की तरफ से इंजीनियरिंग की तैयारी करवाई जाती है। कक्षा 12वीं की पढ़ाई के साथ साथ ये छात्राएं इंजीनियरिंग की तैयारी में हर तरह की सुविधा बोर्ड द्वारा दी जाती है। इसके माध्यम से एक हजार छात्राओं का चयन किया जाएगा। उड़ान प्रोजेक्ट में इंजीनियरिंग की तैयारी करवाने के साथ-साथ जो छात्राएं आईआईटी या इंजीनियरिंग कॉलेज की पढ़ाई करना चाहती हैं, उन्हें बोर्ड छात्रवृत्ति देगा।

वैकल्पिक विषय के तौर पर होगा आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस
भविष्य में तकनीकी क्षेत्र में छात्रों को दक्ष करने के लिए CBSE आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस को वैकल्पिक विषय के तौर पर जाने जा रहा है। AI डेटा एनालिसिस और मशीन लर्निंग जैसे पाठ्यक्रमों को शामिल करने की CBSE के कौशल शिक्षा और प्रशिक्षण विभाग ने सहमति दे दी है। पहले इसे आठवीं से दसवीं तक शुरू करने का प्रस्ताव है। बाद में से 12वीं तक भी किया जा सकता है।

फ्री ऑनलाइन ट्यूटर की सुविधा भी मिलेगी
जेईई की तैयारी के संबंध में कोई परेशानी नहीं आए इसके लिए बोर्ड ने फ्री ट्यूटर की सुविधा भी शुरू की है। इसके लिए CBSE स्कूलों में नियुक्त विषय विशेषज्ञ टीचर्स पढ़ाएंगे। CBSE शिक्षकों का चयन करेगी इसके आवेदन CBSE की वेबसाइट पर कर सकते हैं। इसके अलावा इन शिक्षकों के वीडियो को ऑनलाइन अपलोड भी किया जाएगा, वहीं छात्रों को किताबों की दिक्कत ना हो इसके लिए बोर्ड ऑनलाइन किताबें उपलब्ध करवाएगा। वेबसाइट पर ही संबंधित विषयों की किताबें ऑनलाइन होंगी।

इनका कहना है
इस संबंध में CBSE बोर्ड द्वारा आदेश जारी कर तैयारी की जा रही है जिसे शीघ्र ही लागू किया जाएगा
अनूप अवस्थी, प्राचार्य केंद्रीय विद्यालय दमोह

समाचार पर अपनी प्रतिक्रिया यहाँ दें l

ये भी देखें
Survey

app-download