comScore

असम: जहरीली शराब से मरने वालों की तादाद पहुंची 140, अब भी 300 भर्ती

February 25th, 2019 00:04 IST
असम: जहरीली शराब से मरने वालों की तादाद पहुंची 140, अब भी 300 भर्ती

हाईलाइट

  • अब तक 12 लोगों को गिरफ्तार कर चुकी है पुलिस
  • मिनट दर मिनट बढ़ रही मृतकों की संख्या
  • मृतकों के परिजनों को 2-2 लाख और भर्ती मरीजों को मिलेंगे 50 हजार रुपए

डिजिटल डेस्क, दिसपुर। असम में जहरीली शराब पीने से मरने वालो की संख्या 140 पहुंच गई है, अस्पताल में अब भी 300 लोग भर्ती हैं। इस मामले में पुलिस अब तक 12 लोगों को गिरफ्तार कर चुकी है। राज्य के स्वास्थ्य मंत्री हिमंत विस्व सर्मा के मुताबिक मृतकों की संख्या मिनट दर मिनट बढ़ती ही जा रही है।

बता दें कि सालमारा चाय बागान के मजदूरों को गुरुवार शाम वेतन मिला था, जिसके बाद उन्होंने एख दुकान से शराब खरीदी, शराब पीने के तत्काल बाद ही 44 महिलाओं की मौत हो गई थी। सरकार ने मृतकों के परिजनों को 2-2 लाख रुपए और अस्पताल में भर्ती लोगों को 50 हजार रुपए मुआवजा देने की घोषणा की है। शराब पीने के बाद इन लोगों ने सीने में दर्द और तबीयत ज्यादा खराब होने की समस्या बताई थी, जिसके बाद इन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया था, जहां अब तक 140 लोगों की मौत हो चुकी है।

स्थानीय लोगों के अनुसार, यह घटना गुरुवार शाम को सलमारा चाय बागान में हुई। जब चार महिलाओं की मूनशाइन का सेवन करने के बाद मौत हो गई। इसके बाद अगले 12 घंटों में, आठ और मौतें हुईं, जिसके बाद यह संख्या 30 के पार पहुंच गई। पुलिस जुगीबारी इलाके में बगीचे के पास अवैध देशी शराब के कारखाने के मालिकों को गिरफ्तार किया है। उनकी पहचान इंदुकल्प बोरदोलोई और देबा बोरा के रूप में की गई है। पुलिस शराब की अवैध बिक्री करने वाले लोगों की तलाश कर रही है।

स्थानीय लोगों ने कहा कि अवैध शराब का एक गिलास 10 रुपये से 20 रुपए में बेचा जाता है। इससे पहले भी शराब विक्रेता संजू ओरंग और उसकी मां द्रौपदी ओरंग की मिलावटी बूटलेग शराब का सेवन करने से कुछ लोगों की मौत हो गई थी। वहीं पुलिस अधीक्षक पार्थ प्रतिम सैकिया का कहना है कि हम पहले ही दो को गिरफ्तार कर चुके हैं और अन्य आरोपियों की तलाश की जा रही है। जबकि गोलाघाट के डिप्टी कमिश्नर धीरेन हजारिका ने कहा कि हम घटना की जांच करेंगे। दोषी को बख्शा नहीं जाएगा।

असम के मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल ने घटना पर दुख जताया है। वहीं एक्साइज मिनिस्टर परिमल शुक्ल वैद्य ने तीन दिन के अंदर इस घटना का रिपोर्ट मांगी है। उन्होंने घटना के लिए जिम्मेदार दो एक्साइज अधिकारियों को निलंबित कर दिया है। इसके अलावा उन्होंने मामले की जांच के लिए चार सदस्यीय टीम भी गठित की है। शुक्ल वैद्य ने कहा कि जांच की रिपोर्ट सामने आने पर सख्त कदम उठाए जाएंगे।

कमेंट करें
KuCSM