comScore

मतदान के लिए घटी गांव जानेवाले यात्रियों की संख्या, राजधानी एक्सप्रेस का समय बदला

मतदान के लिए घटी गांव जानेवाले यात्रियों की संख्या, राजधानी एक्सप्रेस का समय बदला

डिजिटल डेस्क, मुंबई। मुंबई, ठाणे और आसपास के इलाकों में रहने वाले करीब 50 लाख मतदाता उम्मीदवारों का भाग्य तय कर सकते हैं। इसीलिए विभिन्न पार्टियों के उम्मीदवार गर्मियों की छुट्टियां शुरू होते ही गांव का रुख करने वाले मतदाताओं को मतदान तक रोकने की कोशिश कर रहे हैं। पावरलूम उद्योग के लिए मशहूर भिवंडी से भाजपा के उम्मीदवार सांसद कपिल पाटील ने तो बाकायदा मतदाताओं के गांव न जाने की अपील करते हुए कहा है कि वे चुनावों के बाद रेल टिकट का इंतजाम करवा देंगे। एसा लग रहा है कि उम्मीदवारों की कोशिशों का असर हो रहा है क्योंकि पिछले साल के मुकाबले इस साल उत्तर भारत की ओर जाने वाली गाड़ियों में भीड़ में कमी आई है। मध्य रेलवे के एक अधिकारी ने बताया कि पिछले साल अब तक 15 लाख से ज्यादा उत्तर भारतीय मुंबई से गांव की ओर रवाना हुए थे लेकिन इस बार इनकी संख्या करीब नौ लाख ही है। आम तौर पर उत्तर भारत की ओर जाने वाली ट्रेनों में इतनी भीड़ होती है कि उसमें पैर रखने तक की जगह नहीं होती।आरक्षित बोगियां भी यात्रियों से खचाखच भरी होतीं हैं और लोग जुर्माना भरकर भी बिना सीट के सफर करते हैं। ऐसा नहीं है कि गाड़ियों में आरक्षित सीटें खाली है लेकिन सामान्य टिकट लेकर जुर्माना भरकर सफर करने वालों की संख्या में इस बार कुछ कमी है। अधिकारी के मुताबिक चुनाव के अलावा इसकी एक वजह इस बार शादियों का मुहूर्त देरी से होना भी हो सकता है। पिछले साल अप्रैल  महीने में भी शादियों का मुहूर्त था लेकिन इस बार मूहूर्त थोड़ी देरी से है। लेकिन स्कूल की छुट्टियों के बाद ज्यादातर परिवार गांव का रुख करते हैं। इसीलिए जिन पार्टियों और उम्मीदवारों को लगता है कि उत्तर भारतीय उनके पक्ष में मतदान करेंगे वे उन्हें छुट्टियों में बाहर जाने से रोकने की पूरी कोशिश कर रहे हैं। अपने-अपने संपर्कों के जरिए उत्तर भारतियों को रोकने की कोशिश हो रही है।

गर्मी की छुट्टियों में चलतीं हैं 626 ट्रेनें

मध्य रेलवे मुंबई से कुल 426 गाड़ियां चलाती है जिसमें से 105 उत्तर भारत की ओर जातीं हैं। जबकि छुट्टियों के समय चलाई जाने वाली अतिरिक्त गाड़ियां मिलाकर यह संख्या 626 तक पहुंच जाती है। एक गाड़ी में आरक्षित सीटों की संख्या 1500 होतीं हैं लेकिन भीड़भाड़ के समय करीब दोगुने यात्री इन गाड़ियों में सफर करते हैं। महासचिव मुंबई भाजपा अमरजीत मिश्र के मुताबिक जो लोग बिना खास वजह के मुंबई से बाहर छुट्टियां मनाने जा रहे हैं,उनसे मिलकर मतदान के बाद शहर के बाहर जाने की अपील कर रहे हैं। उत्तर भारतीय मतदाता जागरूक होता है इसलिए हमें पूरी उम्मीद है कि वह अपने मताधिकार का इस्तेमाल करने के बाद छुट्टियां बिताने गांव जाएगा। इसके अलावा शादियों के मौसम और स्कूल के रिजल्ट के बाद ही ज्यादा लोग शहर से बाहर जाएंगे इसलिए हमें उम्मीद है कि 29 अप्रैल को मतदान के बाद ही लोग गांव जाएंगे

राजधानी एक्सप्रेस के समय में मध्य रेलवे ने किया बदलाव

मध्य रेलवे ने छत्रपति शिवाजी महाराज टर्मिनस से हजरत निजामुद्दीन के बीच चलने वाली राजधानी एक्सप्रेस के समय में बदलाव किया है। बुधवार यानी 17 अप्रैल से गाड़ी संख्या 22221 बुधवार और शनिवार को शाम चार बजकर 10 मिनट पर सीएसटीएम से रवाना होगी। यह ट्रेन नाशिक से पौने सात बजे, जलगांव से रात सवा नौ बजे भोपाल से रात सवा दो बजे होते हुए अगले दिन सुबह दस बजकर पांच मिनट पर हजरत निजामुद्दीन स्टेशन पहुंचेगी। इसी तरह गुरूवार और रविवार को ट्रेन संख्या 22222 हजरत निजामुद्दीन रेलवे स्टेशन से शाम पांच बजकर 15 मिनट पर रवाना होगी और अगले दिन सुबह साढ़े आठ बजे नाशिक होते हुए 11 बजकर 50 मिनट पर सीएसटीएम स्टेशन पहुंचेगी। इसके अलावा 1 जून से ट्रेन में एक प्रथम श्रेणी वातानुकूलित, 5 द्वितीय श्रेणी वातानुकूलित, 11 तृतीय श्रेणी वातानुकूलित डिब्बे और एक बफेकार होगी।  

कमेंट करें