comScore

वृद्धा को मृत बताकर जमीन हड़पी, फर्जीवाड़ा कर बिल्डर को बेची

वृद्धा को मृत बताकर जमीन हड़पी, फर्जीवाड़ा कर बिल्डर को बेची

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। रांझी निवासी 75 वर्षीय तिजिया बाई को मृत घोषित कर भू-माफिया ने उसकी जमीन हड़पकर बिल्डर को बेच दी। जानकारी लगने पर वृद्धा ने थाने में शिकायत दर्ज कराई, लेकिन उस पर कार्रवाई नहीं हुई। अपनी जमीन पाने भटक रही वृद्धा ने एसपी को शिकायत देकर न्याय की गुहार लगाई है। शिकायत में बताया गया कि इंद्रानगर में उसकी पैतृक जमीन है और पुराने रिकॉर्ड में जमीन तिजिया बाई पिता प्रेमलाल के नाम दर्ज है। पिता की मौत के बाद उक्त जमीन को महिला ने अपने नाम पर दर्ज कराया था। शिकायत में बताया गया कि कुछ समय पूर्व एक बिल्डर ने जब उनकी  जमीन पर फेंसिंग की तो उन्हें इस फर्जीवाड़े की जानकारी लगी। उन्हें पता चला कि जमीन के खसरे में फेरबदल कर अधिकारियों की सांठगांठ से उसे मृत घोषित कर रिकॉर्ड में सुरेश, रमेश व अन्य ने अपना नाम दर्ज करवा लिया है। पीडि़त वृद्धा ने फर्जीवाड़ा की जांच कर दोषियों के खिलाफ कार्रवाई किए जाने व उसे न्याय दिलाए जाने की गुहार लगाई है। 

शिक्षिका के बैग से पर्स गायब किया

रांझी स्थित एक स्कूल में दिव्यांग बच्चों को पढ़ाने वाली शिक्षिका अपनी एक्टिवा से वापस घर लौट रही थी। सतपुला के पास बाजार में खरीददारी करने रुकी, तो वहाँ पर किसी ने करामात दिखाते हुए बैग में रखा पर्स गायब कर दिया। पर्स में बीस हजार रुपए नकदी व जरूरी दस्तावेज रखे हुए थे। जानकारी लगने पर उन्होंने आसपास के लोगों को घटना से अवगत कराया और फिर इसकी शिकायत थाने में दर्ज कराई। महिला की शिकायत पर जाँच करते हुए पुलिस पर्स चोरी करने वाले अज्ञात व्यक्ति की तलाश में जुटी है। 
सूत्रों के अनुसार बल्देवबाग, आनंद कॉलोनी निवासी प्रभाबाई ठाकुर, उम्र 45 वर्ष, राँझी स्थित दिव्यांग बच्चों के स्कूल में संविदा शिक्षक के पद पर हैं। रोजाना की तरह स्कूल छूटने के बाद वह स्कूल से घर लौट रही थीं। शाम साढ़े 5 बजे के करीब वह सतपुला बाजार पहुँचीं और एक्टिवा खड़ी कर सब्जी खरीदने के लिए रुकी थीं। इसी दौरान उनके बैग में रखा पर्स किसी अज्ञात चोर ने चोरी कर लिया। सब्जी खरीदने के बाद  जब उन्होंने पैसे देने के लिए बैग में पर्स की तलाश की, तो पर्स गायब था। बैग की चेन खुली होने पर उन्हें चोरी का संदेह हुआ। पर्स में 20 हजार रुपयों के अलावा 3 एटीएम कार्ड, आधार कार्ड, वोटर आईडी, पेन कार्ड, आरटीओ का रजिस्टेशन व ड्रायविंग लायसेंस आदि रखे हुए थे। इस मामले की शिकायत पर पुलिस जाँच में जुटी है।

कमेंट करें
b0UNp