comScore
Dainik Bhaskar Hindi

प्याज की भरमार से अधिकारी परेशान, अतिरिक्त गोदामों की व्यवस्था

BhaskarHindi.com | Last Modified - July 27th, 2017 15:49 IST

6.1k
0
0
प्याज की भरमार से अधिकारी परेशान, अतिरिक्त गोदामों की व्यवस्था

दैनिक भास्कर न्यूज़ डेस्क, जबलपुर। कभी प्याज की किल्लत को दूर करने में प्रशासन का पसीना छूट जाया करता था। आज आलम यह है कि प्याज की भरमार अधिकारियों को भयभीत कर रही है। मालवा से लगातार आ रही प्याज की खेप ने जिला प्रशासन के अधिकारियों को रुलाना शुरू कर दिया है और प्याज की भरमार प्रशासन के जिम्मेदारों के लिए परेशानी का सबब बनती जा रही है। दरअसल, शुरूआती दौर में तो व्यापारियों ने हाथों हाथ प्याज का स्टॉक खरीदा। कम दाम पर प्याज खरीद कर व्यापारी जहां खुश थे, वहीं प्रशासन के अधिकारी शहर आए स्टॉक को बेच कर राहत महसूस कर रहे थे। अधिकारियों की चिंता तब बढ़ी जब व्यापारियों ने खरीदे हुए माल में सड़ी प्याज निकलने की शिकायत करना शुरू किया। यही नहीं व्यापारियों ने अब प्याज का स्टॉक खरीदना भी पहले की अपेक्षा काफी कम कर दिया है। दूसरी तरफ जिस रफ्तार से प्याज का स्टॉक शहर पहुंच रहा था, उसी प्रकार अब भी पहुंच रहा है। इस कारण अधिकारियों की रातों की नींद उड़ी हुई है। उन्हें यह समझ नहीं आ रहा कि प्याज की लगातार आवक का वे भण्डारण कहां करेंगे। इसी कशमकश के बीच नागरिक आपूर्ति निगम ने बरेला व शहपुरा में दो-दो गोदामों की व्यवस्था की है।

जानकारों की मानें तो जिस प्रकार प्याज की सप्लाई हो रही है, उससे लगता है कि स्टॉक करने के लिए कहीं गोदाम कम न पड़ जाएं। प्रशासन के जिम्मेदार भी इस बात से इनकार नहीं करते, क्योंकि इस समय शहर में मांग से कई गुना ज्यादा प्याज उपलब्ध है। इसके साथ ही मौसम वैज्ञानिकों का कहना है कि मानसून ने शहर में दस्तक दे दी है और आने वाले दिनों में झमाझम बारिश हो सकती है। यदि मौसम विभाग का पूर्वानुमान सही साबित होता है तो मण्डी में खुले में रखी प्याज पर आफत की बारिश बरस सकती है।

राशन दुकानों से बिकवाने की कोशिश
हजारों क्विंटल प्याज के भण्डार को खपाने के लिए प्रशासन हर जतन कर रहा है। इसी के चलते नागरिक आपूर्ति निगम द्वारा जिले की राशन दुकानों के माध्यम से प्याज बिकवाने की कोशिश की जा रही है। शहर व ग्रामीण क्षेत्रों में स्थित कई उचित मूल्य दुकानों तक प्याज पहुंचाई भी जा चुकी है। राशन कार्डधारक लाेग प्याज खरीद भी रहे हैं। फिर भी प्याज का स्टॉक खप नहीं पा रहा है। उधर, यह भी पता चला है कि ग्रामीण क्षेत्र की दुकानों तक तो आसानी से प्याज पहुंच रही है, लेकिन शहरी इलाके की कई दुकानों तक प्याज अभी तक नहीं पहुंच पाई है। जानकारों की मानें तो प्याज का स्टॉक क्लियर कराने के लिए प्रशासन की यह कोशिश उतनी कारगर नहीं है, क्याेंकि आम नागरिक भी एक निश्चित सीमा तक ही प्याज का क्रय कर सकते हैं।

सड़ी प्याज निकलने की शिकायत
इस बीच जिन व्यापारियों ने प्याज का स्टॉक खरीदा था, वे अब इसमें से अधिकांश माल के खराब होने की शिकायत कर हैं। व्यापारियों का कहना है कि प्याज की गुणवत्ता की जो उन्हें उम्मीद थी, उससे काफी निम्न स्तर का माल निकला है। व्यापारियों का आराेप है कि ट्रकों में लदे माल में सिर्फ ऊपरी हिस्से की बाेरियों में ही थोड़ी अच्छी क्वालिटी की प्याज निकली है। बाकी के माल में या तो निम्न गुणवत्ता की प्याज निकल रही है या फिर पूरी तरह से सड़ा-गला माल निकल रहा है। उधर प्रशासन के जिम्मेदारों का कहना है कि प्याज की गुणवत्ता की जानकारी उन्हें भी नहीं है। जैसा माल मालवा से आ रहा है, वैसा ही बेचा जा रहा है। इसके साथ ही सैम्पल दिखाने के बाद ही प्याज व्यापारियों को बेची जा रही है। वहीं सोमवार को हुई बारिश के कारण भी मण्डी में रखा प्याज का भण्डार भीग गया। दरअसल, सस्ती दर पर बिक रही प्याज को व्यापारियों ने खरीद तो लिया है, पर अब उन्हें भी इसे सुरक्षित रखने की चिंता सता रही है। अधिकांश व्यापारियों की प्याज अब भी खुले में रखी हुई है।


परिवहन के दौरान सड़ रही प्याज
पता चला है कि खराब क्वालिटी की प्याज निकलने का एक प्रमुख कारण परिवहन भी है। सूत्रों की मानें तो रेल मार्ग के जरिए जो प्याज का भण्डार आ रहा है, उसकी क्वालिटी काफी खराब है। जानकारों का कहना है कि जिन रैक के जरिए माल की ढुलाई की जा रही है, उनमें लगाए जा रहे मालवाहक डब्बे पूरी तरह से एयर टाइट हैं। मालवा से जिले तक तकरीबन 18 से 20 घंटों के सफर के दौरान डिब्बों में बंद प्याज को हवा नहीं मिलने से स्टॉक सड़ रहा है। इसके साथ ही यह भी पता चला है िक डब्बों में प्याज की सप्लाई के साथ ही खाद का भी परिवहन किया जा रहा है। इसे भी प्याज के सड़ने की वजह बताई जा रही है।

फैक्ट फाइल
2.5 लाख क्विंटल प्याज की आवक
1.25 की हो चुकी बिक्री
3 रैक पहुंचे कछपुरा रेलवे गोदाम
4 गोदामों में होगा भण्डारण


अधिकारियों को दी सूचना
बड़ी मात्रा में प्याज के खराब निकलने की शिकायतें मिल रही हैं। इस संबंध में आला अधिकारियों को सूचित किया गया है। साथ ही मालवा क्षेत्र के जिलों में तैनात अधिकारियों को भी इस बात से अवगत कराया गया है।
-हेमंत सिंह, प्रबंधक नागरिक अापूर्ति निगम

समाचार पर अपनी प्रतिक्रिया यहाँ दें l

ये भी देखें

app-download