comScore

महज 160 रुपए में एक एकड़ फसल होगी सुरक्षित , सीएम ने अनुदान पर उपलब्ध कराया कीटनाशक 

महज 160 रुपए में एक एकड़ फसल होगी सुरक्षित , सीएम ने अनुदान पर उपलब्ध कराया कीटनाशक 

डिजिटल डेस्क,छिंदवाड़ा। अमरवाड़ा, परासिया, छिंदवाड़ा, चौरई और बिछुआ विकासखंड के डेढ़ से अधिक गांवों में मक्का में फाल आर्मी वर्म के प्रकोप की पुष्टि हो गई है। शनिवार की रात जिले के विधायकों ने मुख्यमंत्री कमलनाथ एवं सांसद नकुलनाथ को इस आपदा की जानकारी दी। उन्होंने तत्काल कृषि विभाग के आला अधिकारियों को तलब किया और किसानों को 50 फीसदी अनुदान पर दवाएं उपलब्ध कराने का निर्णय लिया। भोपाल और छिंदवाड़ा के अधिकारियों ने ताल-मेल बनाकर महज 24 घंटे में मुख्यमंत्री कमलनाथ के इस निर्णय को अमलीजामा पहना दिया। कृषि विभाग के सूत्रों के अनुसार मार्कफेड के माध्यम से किसानों को प्रति एकड़ 100 ग्राम दवा महज 160 रुपए में उपलब्ध कराई जाएगी। दवा की पहली खेप मंगलवार को छिंदवाड़ा पहुंचने का अनुमाना है ।

दिन भर चली मशक्कत 

फाल आर्मी वर्म के प्रकोप से जिले में अरबों रुपए के नुकसान को बचाने के लिए मुख्यमंत्री कमलनाथ ने तत्काल पहल करने कहा। मुख्यमंंत्री कमलनाथ के ओएसडी संजय श्रीवास्तव और पूर्व विधायक दीपक सक्सेना ने कृषि विभाग के आला अधिकारियों और कृषि वैज्ञानिकों से संपर्क कर दो दिन में दवाओं की उपलब्धता के लिए दबाव बनाया। सोमवार की सुबह से कृषि अधिकारी और कृषि वैज्ञानिकों ने मार्कफेड के माध्यम से एमामेक्टिन बेंजोएट 5 एसजी 100 मिली और 250 मिली की बोतल के पैक खरीदने का निर्णय लिया। सूत्रों के अनुसार 100 मिली की बोतल 320 रुपए और 250 मिली की बोतल की कीमत 760 रुपए है जो किसानों को 160 रुपए और 380 रुपए में उपलब्ध होगी। 

बुधवार से होगा दवा का वितरण

कृषि अधिकारियों का कहना है कि दवा की पहली खेप मंगलवार की शाम तक जिला मुख्यालय पहुंचने की संभावना है। यह दवा बुधवार से किसानों को 50 फीसदी अनुदान पर कृषि अमले के माध्यम से उपलब्ध कराई जाएगी। सबसे पहले उन किसानों को प्राथमिकता दी जाएगी जहां कीट का प्रकोप ज्यादा है। 

इनका कहना है

मुख्यमंत्री के निर्देश पर कृषि विभाग ने देश की नामी कीटनाशक कंपनियों से संपर्क कर फाल आर्मी वर्म पर नियंत्रण के लिए 50 फीसदी अनुदान पर दवा की पहली खेप का आर्डर दे दिया है। संभवत: बुधवार को यह दवा किसानों तक पहुंच जाएगी। जेआर हेडाऊ, उपसंचालक कृषि

कमेंट करें
jfgpT