comScore

सर्वदलीय बैठक में विपक्ष ने की कृषि संकट, बेरोजगारी पर चर्चा की मांग

सर्वदलीय बैठक में विपक्ष ने की कृषि संकट, बेरोजगारी पर चर्चा की मांग

हाईलाइट

  • संसद बजट सत्र से पहले पीएम मोदी ने रविवार को सर्वदलीय बैठक बुलाई
  • बैठक में विपक्ष ने कृषि संकट सहित कई मुद्दों पर बहस के लिए सरकार पर दबाव डाला
  • पीएम ने 'एक राष्ट्र, एक चुनाव' मुद्दे पर चर्चा के लिए 19 जून को बैठक बुलाई है

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। संसद बजट सत्र से पहले प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को राष्ट्रीय राजधानी में एक सर्वदलीय बैठक बुलाई। इस बैठक में विपक्ष ने कृषि संकट, बेरोजगारी और सूखे सहित कई मुद्दों पर बहस के लिए सरकार पर दबाव डाला। प्रधानमंत्री ने 'एक राष्ट्र, एक चुनाव' मुद्दे पर चर्चा के लिए 19 जून को लोकसभा और राज्यसभा में प्रतिनिधियों वाले सभी दलों के प्रमुखों की बैठक बुलायी है। बता दें कि नवगठित 17वीं लोकसभा का पहला सत्र 17 जून से 26 जुलाई तक आयोजित किया जाएगा।

बैठक में राज्यसभा में विपक्ष के नेता गुलाम नबी आज़ाद, नेशनल कॉन्फ्रेंस के नेता फारूक अब्दुल्ला और टीएमसी नेता डेरेक ओ'ब्रायन सहित सभी दलों के प्रतिनिधियों ने भाग लिया। आजाद ने आश्वासन दिया कि जो बिल लोगों के हित में हैं, उनका विरोध नहीं किया जाएगा।

आजाद ने जम्मू और कश्मीर में जल्द से जल्द चुनाव कराने की भी मांग की, जो वर्तमान में राष्ट्रपति शासन के अधीन है। उन्होंने सवाल किया कि लोकसभा के साथ-साथ विधानसभा चुनाव क्यों नहीं कराए गए? उन्होंने आरोप लगाया, ऐसा लगता है कि केंद्र राज्यपाल शासन के माध्यम से राज्य चलाना चाहता है।

दूसरी ओर, तृणमूल कांग्रेस के नेता डेरेक ओ ब्रायन ने मांग की कि महिला आरक्षण विधेयक, जो लोकसभा और राज्य विधानसभाओं में महिलाओं के लिए एक तिहाई सीटें आरक्षित करना चाहता है, को तुरंत सत्र में लाया जाए।

पीएम मोदी ने बैठक के बाद ट्वीट कर कहा, 'चुनाव परिणाम के बाद और मानसून सत्र के शुरू होने से पहले, हमने आज एक सर्वदलीय बैठक की। नेताओं को उनके बहुमूल्य सुझावों के लिए धन्यवाद। हम सभी संसद के सुचारू रूप से चलने पर सहमत हुए ताकि हम लोगों की आकांक्षाओं को पूरा कर सकें।'

इस बीच, संसदीय कार्य मंत्री प्रहलाद जोशी ने बैठक के बाद संवाददाताओं से कहा, प्रधानमंत्री ने 'एक राष्ट्र, एक चुनाव' मुद्दे पर चर्चा के लिए 19 जून को लोकसभा और राज्यसभा में प्रतिनिधियों वाले सभी दलों के प्रमुखों की बैठक बुलायी है। इसके अलावा 2022 में भारत की आजादी के 75 साल पूरे होने का उत्सव और महात्मा गांधी की जयंती जैसे मुद्दों पर भी मीटिंग में चर्चा हुई। जोशी ने कहा कि पीएम मोदी ने 20 जून को मुद्दों पर चर्चा के लिए सांसदों की बैठक भी बुलायी है। 

कमेंट करें
cgwY4