comScore

मोदी की गाय वाली टिप्पणी पर कांग्रेस का पलटवार, कहा- विश्वविद्यालयों की चिंता करिए

मोदी की गाय वाली टिप्पणी पर कांग्रेस का पलटवार, कहा- विश्वविद्यालयों की चिंता करिए

हाईलाइट

  • कपिल सिब्बल ने कहा, राजनीति से प्रेरित बयान देने की जगह विश्वविद्यालयों के बारे में चिंता करें
  • कांग्रेस प्रवक्ता शमा मोहम्मद ने कहा, कुछ लोगों के कान पर अर्थव्यवस्था और बेरोजगारी शब्द पड़ता है तो वे खामोश पड़ जाते हैं

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा गाय और ओम को लेकर दिए भाषण पर विपक्ष ने पलटवार किया है। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कपिल सिब्बल का कहना है, पीएम मोदी को 'गाय' और 'ओम' की फिक्र करने की बजाय देश के विश्वविद्यालयों के बारे में चिंता करनी चाहिए। इतना ही नहीं कांग्रेस प्रवक्ता शमा मोहम्मद ने पीएम पर निशाना साधते हुए कहा, ओम और गाय, इन शब्दों से किसी को आपत्ति नहीं है, लेकिन देश का दुर्भाग्य है कुछ लोगों के कान पर अर्थव्यवस्था और बेरोजगारी शब्द पड़ता है तो वे खामोश पड़ जाते हैं।

दरअसल पीएम मोदी ने बुधवार को मथुरा में एक कार्यक्रम के दौरान विरोधियों पर तंज कसते हुए कहा था, इस देश का दुर्भाग्य है कि, कुछ लोगों के कान पर अगर 'ओम' या 'गाय' शब्द पड़ता है तो उनके बाल खड़े हो जाते हैं, उनको लगता है देश 16वीं शताब्दी में चला गया है। ऐसा करने वालों ने देश को बर्बाद करने में कोई कसर नहीं छोड़ा है।कहा था, कुछ लोगों को लगता है कि ओम और गाय जैसे शब्द देश को वापस 16वीं सदी में लेकर चले गए।

पीएम मोदी के इसी बयान को पर पलटवार करते हुए कपिल सिब्बल ने ट्वीट कर कहा, गाय और ओम पर राजनीति से प्रेरित बयान देने की बजाय देश के विश्वविद्यालयों के बारे में चिंता करिए। 2012 के बाद पहली बार विश्वविद्यालय की टॉप 300 रैंकिंग में भारत का एक भी विश्वविद्यालय नहीं है। उन मुद्दों पर काम करें जो मायने रखते हैं।

कांग्रेस प्रवक्ता शमा मोहम्मद ने ट्विटर के जरिए पीएम पर निशाना साधते हुए कहा, ओम और गाय, इन शब्दों से किसी को आपत्ति नहीं है, लेकिन देश का दुर्भाग्य है कि कुछ लोगों के कान पर अर्थव्यवस्था और बेरोजगारी शब्द पड़ता है तो वे खामोश पड़ जाते हैं। उन लोगों का क्या करें मोदी जी?

वहीं AIMIM चीफ असदुद्दीन ओवैसी ने भी प्रधानमंत्री मोदी के गाय वाले बयान का जवाब देते हुए कहा, जब गाय के नाम पर लोगों को मारा जाता है और संविधान की धज्जियां उड़ाई जाती हैं, तब पीएम के कान खड़े होने चाहिए।

कमेंट करें
htLiB