comScore

पन्ना की बेटी ने मायानगरी में बिखेरा अपने अभिनय का जादू

पन्ना की बेटी ने मायानगरी में बिखेरा अपने अभिनय का जादू

डिजिटल डेस्क पन्ना। शहर के किशोरगंज मोहल्ला निवासी पायल गुप्ता ने मुम्बई में दो साल पहले विध्नहर्ता श्रीगणेशा सीरियल के अपने कॅरियर की शुुरुआत की और आज आधा दर्जन से अधिक सीरियल और विज्ञापन फिल्मों में काम कर चुकी हैं। इस छोटे से कॅरियर में उन्होंने टैलेंट के बल पर यह मुकाम हासिल किया है। पायल बताती हैं कि अभियन के क्षेत्र में वे अनायास ही आईं। 
की है इंजीनियरिंग की पढ़ाई
दरअसल इंदौर से इंजीनियरिंग की पढ़ाई करने के दौरान उन्होंने थियेटर करना शुरू किया। थियेटर में रुचि जागने पर वे एलबम और शार्ट फिल्में बनाने लगीं। स्टेट लेबिल के भी कई कार्यक्रमों में हिस्सा लिया। इस दौरान उन्होंने ऑडिशन देने के लिये कई बार मायानगर का दौरा भी किया। मायानगरी मुंबई में शिफ्ट होने के कुछ समय बाद उन्हें विध्नहर्ता श्रीगणेशा जैसे बड़े सीरियल के लिये चुन लिया गया। इसके बाद तो उन्होंने पीछे मुड़कर देखा ही नहीं। पायल बताती हैं कि वे अब तक आधा दर्जन से अधिक सीरियल और विज्ञापन फिल्मों में काम किया है। इसमें सोनी चैनल के विध्नहर्ताश्रीगणेशा अलावा स्टॉर प्लस में दिखाया जा रहे सीरियल शिवाव नम्हा भी शामिल हैं। इसके अलावा मॉड्यूलर किचन, मयूर केश ऑयल सहित कई विज्ञापन भी किये हैं। पायल के लिए पन्ना से निकलकर मुंबई तक पहुंचने का सफर इतना आसान नहीं था। वर्ष 2014 में पिता की मौत के बाद तीन बहनों और छोटे भाई की जिम्मदारी मां शारदा गुप्ता पर आ गई थी।
सरकारी शिक्षक  थीं
 वे सरकारी शिक्षक थीं लिहाजा आर्थिक परेशानी तो बहुत ज्यादा नहीं थी लेकिन मोरल सर्पोट जरूरी था। पायल इंदौर से इंजीनियरिंग कर पुणे एमबीए की डिग्री के लिये चली गईं। बड़ी बहन इंदौर में फिजयोथौरपिष्ट हैं जबकि छोटी बहन हायर सेकंडरी स्कूल की और भाई कक्षा नौ के छात्र हैं। पायल ने बताया कि बेटियों को घर से दूर भेजने में पन्ना के अभिभावक हिचकिचाते हैं। जबकि ऐसा नहीं होना चाहिये। बेटियों को भी बेटों के समान आगे बढऩे के अवसर मिलने चाहिये। मुंबई में संघर्ष जरूर है लेकिन आप में टैलेंट है तो वहां भी भरपूर मौके मिलेंगे।
 

कमेंट करें
qGL0p