comScore
Dainik Bhaskar Hindi

मुशर्रफ ने कहा- 'मैं लश्कर और हाफिज का सबसे बड़ा समर्थक हूं'

BhaskarHindi.com | Last Modified - November 29th, 2017 22:11 IST

612
0
0

डिजिटल डेस्क, इस्लामाबाद। पाकिस्तान के पूर्व राष्ट्रपति परवेज मुशर्रफ ने कहा कि वो आतंकी संगठन जमात-उद-दावा, लश्कर-ए-तैयबा के सबसे बड़े समर्थक हैं और आतंकी हाफिज सईद को पसंद करते हैं। पाकिस्तान के एक न्यूज चैनल के कार्यक्रम के दौरान मुशर्रफ ने ये बात कही। इतना ही नहीं मुशर्रफ ने ये भी कबूल किया कि वो 26/11 मुंबई हमले के मास्टर माइंड हाफिज सईद की कश्मीर में घुसपैठ का समर्थन करते हैं। जमात-उद-दावा संगठन भी उन्हें पसंद करता है। उन्होंने आगे कहा, 'मैं हाफिज सईद से मिल चुका हूं। हाल के दिनों में मेरी और सईद से मुलाकात हुई थी। मैं कश्मीर में कार्रवाई का हमेशा से समर्थक रहा हूं, क्योंकि भारतीय सेना को हमें दबाना है और कश्मीर से ही भारतीय सेना पर दबाव बनाया जा सकता है।'

कश्मीर में आतंक का समर्थन करते रहे हैं मुशर्रफ

                               

मुशर्रफ ने इस बात का भी जिक्र कर दिया कि हाफिज लगातार कश्मीर में सक्रिय रहता है। मुशर्रफ ने इस दौरान कहा कि 'हां मुझे पता है कि सईद कश्मीर में सक्रिय रहते हैं। कश्मीर भारत और पाकिस्तान के बीच में है।' वहीं एंकर के जरिए ये पूछे जाने पर कि 'क्या लश्कर मुंबई आतंकी हमले में शामिल था?' इसपर मुशर्रफ ने कहा, 'नहीं हाफिज मुंबई में हमलों में शामिल नहीं थे।' मुशर्रफ यहीं नहीं रुके और आगे कहा कि 'मैं कश्मीर में कार्रवाई और भारतीय सेना को कुचलने के लिए पाक को बड़ी सेना की जरूरत है, जो कि लश्कर-ए-तैयबा के रूप में मौजूद है।' मुशर्रफ के इस वीडियो के सामने आने के बाद भारत के उन दावों को पुष्टि मिल गई है, जिनमें उसने कहा है कि भारत में आतंक फैलाने वाले जैश और लश्कर के आतंकियों को पाक सरकार का समर्थन मिलता रहा रहा है।

रिहाई के बाद से भारत के खिलाफ आग उगल रहा है हाफिज सईद

                                 

पिछले दिनों पाकिस्तान में 10 महीने की नजरबंदी से रिहा हुआ आतंकी हाफिज सईद लगातार कश्मीर और भारत के खिलाफ बयानबाजी कर रहा है। रिहाई के कुछ ही देर बाद ही मुंबई हमले के मास्टरमाइंड और जमात-उद-दावा के प्रमुख हाफिज सईद ने कहा था कि वो कश्मीर के लिए पूरे पाकिस्तान से लोगों को जुटाएगा और 'आजादी' पाने में कश्मीरियों की मदद करेगा। 

समाचार पर अपनी प्रतिक्रिया यहाँ दें l

ई-पेपर