comScore
Dainik Bhaskar Hindi

राहत की खबर, पेट्रोल 21 पैसे और डीजल 28 पैसे प्रति लीटर कम हुए

BhaskarHindi.com | Last Modified - February 12th, 2018 16:23 IST

4.6k
0
0
राहत की खबर, पेट्रोल 21 पैसे और डीजल 28 पैसे प्रति लीटर कम हुए


डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली । देश में पेट्रोल-डीजल के बढ़ते दामों से थोड़ी राहत मिली है। पैट्रोल की कीमत में 21 पैसे और डीजल की कीमत में 28 पैसे प्रति लीटर की कटौती हुई है। सोमवार को ऑयल मार्केटिंग कंपनियों ने पैट्रोल और डीजल के नए दाम जारी किए। इसके मुताबिक 11 फरवरी को जहां एक लीटर डीजल 68.05 के स्तर पर था। सोमवार को इसकी कीमत 67.75 रुपए प्रति लीटर पर हो गई है। इसी तरह कल एक लीटर पैट्रोल 81.08 रुपए में मिल रहा था। वहीं, आज पैट्रोल का दाम 80.87 के स्तर पर आ गया है।
गौरतलब है कि पिछले कुछ वक्त से पेट्रोल और डीजल की कीमतें लगातार बढ़ती जा रही थीं। इस वजह से आम आदमी की जेब पर काफी ज्यादा बोझ पड़ रहा था, लेकिन अब इनके दाम में कटौती होना शुरू हो गई है। जिससे लोगों को थोड़ी राहत मिल सकती है। 

बाकी शहरों में क्या हैं कीमतें

दाम कम होने के बाद दिल्ली में पेट्रोल की कीमत 73.01 रुपए, कोलकाता में 75.70 रुपए, मुंबई में 80.87 रुपए और चेन्नई मं 75.73 रुपए प्रति लीटर है। वहीं डीजल का दाम 63.62 रुपए, कोलकाता में 66.29 रुपए, मुंबई में 67.75 रुपए और चेन्नई में 67.09 रुपए प्रति लीटर हो गया है।

Image result for अंतरराष्ट्रीय बाजार कच्चे तेल की कीमत

अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की कीमतों में गिरावट 

जानकारी के मुताबिक इस हफ्ते अंतर्राष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की कीमतों में बड़ी गिरावट देखने को मिली है। अंतर्राष्ट्रीय बाजार में कच्चा तेल सस्ता होने की वजह से ऑयल मार्केटिंग कंपनियों की लागत घटी है और आने वाले हफ्ते में इसमें 2 से 3 रुपए की कमी हो सकती है। ब्रेंट क्रूड 26 दिसंबर के बाद से 10 फीसदी सस्ता हो गया है। विशेषज्ञों का का कहना है कि इसकी कीमतें 62 डॉलर प्रति बैरल तक आ सकती है। अगर ऐसा होता है, तो पेट्रोल और डीजल की लगातार आसमान पर पहुंच रही कीमतों पर भी ब्रेक लगेगा। इसके साथ ही महंगाई पर भी लगाम कसी जा सकेगी। 

विशेषज्ञों के मुताबिक अमेरिका में कच्चे तेल का उत्पादन बढ़ा है। वहीं, दुनियाभर में इसकी डिमांड घटी है। यही वजह है कि कच्चे तेल की कीमतें लगातार नीचे आ रही हैं। ब्रेंट क्रूड 26 द‍िसंबर के बाद से 10 फीसदी सस्ता हो चुका है। इससे कच्चे तेल के 80 डॉलर के पार पहुंचने का खतरा भी कम हो गया है। इसके साथ ही ये मोदी सरकार को अपनी बैलेंस शीट सुधारने का मौका भी देगा।
 

समाचार पर अपनी प्रतिक्रिया यहाँ दें l

ये भी देखें

app-download