comScore

PM Modi in Palestine: 'ग्रैंड कॉलर ऑफ द स्टेट' सम्मान से नवाजे गए पीएम मोदी

February 11th, 2018 08:03 IST

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपनी तीन देशों की विदेश यात्रा के तहत शनिवार को फिलिस्‍तीन के शहर रामल्ला पहुंचे। यहां उन्हें ‘ग्रैंड कॉलर ऑफ द स्टेट ऑफ फिलस्तीन’ सम्मान से नवाजा गया है। भारत और फिलस्तीन के बीच संबंधों को बढ़ावा देने में योगदान को देखते हुए पीएम मोदी को यह सम्मान दिया गया है। फिलिस्तीन के राष्ट्रपति महमूद अब्बास ने खुद पीएम मोदी को फिलिस्तीन के इस बेहद खास सम्मान से नवाजा। 'ग्रैंड कॉलर’ विदेशी गणमान्यों- शाह, राष्ट्राध्यक्षों/शासनाध्यक्षों और समान पद के व्यक्तियों को दिया जाने वाला फिलिस्तीन का सर्वोच्च सम्मान है। इस खास सम्मान के साथ ही पीएम मोदी के इस दौरे पर भारत-फिलिस्तीन के बीच 6 अहम समझौते भी हुए हैं।

यहां पढ़ें पीएम मोदी की फिलिस्तीन यात्रा का पूरा लेखा-जोखा

  • पीएम मोदी फिलिस्तीन जाने वाले भारत के पहले प्रधानमंत्री हैं। पीएम मोदी शनिवार को जॉर्डन सेना के हेलीकॉप्टर पर सवार होकर अम्मान से सीधे रामल्ला पहुंचे। यहां फिलिस्‍तीन के प्रधानमंत्री रामी हमदल्ला ने उनका स्वागत किया।
  • पीएम मोदी, हमदल्ला के साथ फिलस्तीनी नेता यासर अराफात के मकबरे पर गए और वहां पुष्प अर्पित कर उन्हें श्रद्धांजलि दी। अराफात को श्रद्धांजलि देने के बाद मोदी मकबरे के पास स्थित अराफात संग्रहालय भी गए।
  • रामल्ला स्थित राष्ट्रपति कार्यालय पर भी पीएम मोदी का औपचारिक स्वागत किया गया। राष्ट्रपति अब्बास और पीएम मोदी ने यहां एक-दूसरे को गले लगाया। दोनों नेता देशों के राष्ट्रगान के सम्मान में खड़े रहे। इसके बाद दोनों नेताओं के बीच औपचारिक बातचीत हुई।
  • औपचारिक बातचीत के बाद दोनों नेता मीडिया से मुखातिब हुए। इस दौरान पीएम मोदी ने कहा भारत फिलिस्तीन के लोगों के हितों की रक्षा के लिए बाध्य है। भारत की विदेशनीति में फिलिस्तीन का स्थान हमेशा अहम रहा है और यह क्रम आगे भी जारी रहेगा।
  • पीएम मोदी ने कहा कि वे जल्द ही फिलिस्तीन को एक स्वतंत्र राष्ट्र के रूप में देखना चाहते हैं। उन्होंने कहा, 'हमें भरोसा है कि फिलिस्तीन एक शंतिपूर्ण और स्वतंत्र राष्ट्र के रूप में आगे बढ़ेगा।




इन 6 MoU पर हुए हस्ताक्षर

  • 30 मिलियन अमेरिकी डॉलर की मदद से बेत सहोर में इंडिया-फिलिस्तीन सुपर स्पेशिएलिटी हॉस्पिटल बनाया जाएगा।
  • 5 मिलियन अमेरिकी डॉलर की लागत से महिला सशक्तिकरण के लिए फिलिस्तीन में एक सेंटर स्थापित किया जाएगा।
  • 5 मिलियन अमेरिकी डॉलर की लागत से रामल्ला में न्यू नेशनल प्रिंटिग प्रेस की स्थापना की जाएगी।
  • फिलिस्तीन के मुथाल्थ अल सुहादा गांव में 1 मिलियन अमेरिकी डॉलर की लागत से एक स्कूल का निर्माण किया जाएगा।
  • फिलिस्तीन के तमून गांव 1.1 मिलियन अमेरिकी डॉलर की लागत से एक स्कूल का निर्माण किया जाएगा।
  • फिलिस्तीन के अबू दिस में लड़कों के लिए बनाए गए जवाहर लाल नेहरू संस्थान की एक और मंजिल का निर्माण किया जाएगा। इसकी लागत 0.25 अमेरिकी डॉलर होगी।
कमेंट करें
WcUKZ