comScore
Dainik Bhaskar Hindi

ललित गैंग का इनामी डकैत चढ़ा पुलिस के हत्थे, 315 बोर का कट्टा व एक जिंदा कारतूस बरामद

BhaskarHindi.com | Last Modified - August 11th, 2018 14:21 IST

402
0
0
ललित गैंग का इनामी डकैत चढ़ा पुलिस के हत्थे, 315 बोर का कट्टा व एक जिंदा कारतूस बरामद

डिजिटल डेस्क, सतना। लगभग 1 वर्ष से फरार चल रहे ललित गिरोह के इनामी सदस्य को नयागांव पुलिस ने सती अनुसुईया जंगल से घेराबंदी कर धर दबोचा। उसके कब्जे से 315 बोर का कट्टा व एक जिंदा कारतूस बरामद किया गया है। गिरफ्त में आए डकैत के विरुद्ध हत्या के तीन प्रकरण पंजीबद्ध हैं, जिनमें वह मारे जा चुके गैंग लीडर ललित पटेल के साथ शामिल था। आरोपी की गिरफ्तारी के साथ ही ललित गिरोह का भी पूरी तरह सफाया हो गया है।

इस संबंध में प्राप्त जानकारी के मुताबिक 9 जुलाई को थाना प्रभारी नयागांव आरपी त्रिपाठी को मुखबिर से खबर मिली कि सती अनुसूईया तिराहा के पास लगे जंगल में 10000 का इनामी डकैत मुलायम उर्फ राजेंद्र यादव उर्फ रज्जू पुत्र छोटेलाल उर्फ छोटे 20 वर्ष निवासी ददरी थाना बहिलपुरवा जिला चित्रकूट उत्तरप्रदेश किसी वारदात के इरादे से आया हुआ है। लिहाजा थाना प्रभारी ने पुलिस अधीक्षक संतोष सिंह गौर को अवगत कराया और उनके निर्देश पर एक टीम लेकर तुरंत बताई गई जगह पर जा पहुंचे।

पुलिस टीम ने जंगल की घेराबंदी कर डकैत को समर्पण के लिए ललकारा तो वह भागने लगा, जिसे सतर्क पुलिसकर्मियों ने खदेड़ कर पकड़ लिया। आरोपी की तलाशी लेने पर 315 बोर का कट्टा व जिंदा कारतूस बरामद हुआ। जिसकी गिरफ्तारी के लिए पुलिस कप्तान की तरफ से 10 हजार रुपए का इनाम घोषित किया गया था।

कोल्हुआ कांड के बाद हो गया था अलग
गिरफ्तार डकैत मुलायम यादव ने मुठभेड़ में मारे जा चुके गैंग लीडर ललित पटेल के साथ बहुत कम वक्त में कई वारदातों में शामिल रहा। जिनमें सबसे जघन्य अपराध वर्ष 2017 के जून महीने के अंतिम 2 दिनों में अंजाम दिए गए थे। इनके शिकार बने लोगों में थर पहाड़ निवासी मुन्ना उर्फ रामनारायण यादव पुत्र पूरन यादव को अगवा करने के अलावा जंगल में लकड़ी काटने गए राम प्रसाद रैदास पुत्र रामदयाल 45 वर्ष निवासी टेढ़ी और इंद्रपाल यादव पुत्र रामप्रसाद 28 वर्ष निवासी पथरा थाना नयागांव को अगवा कर मुखबिरी के संदेह में गोली मारने के बाद चिता में जिंदा जला दिया था। गैंग लीडर ललित पटेल के साथ उसका भाई नंदी उर्फ  नंद किशोर पटेल, रज्जन पटेल, सूरजपाल मवासी, रजवा खैरवार, धनीराम खैरवार, तेज प्रकाश उर्फ तेजू, सुंदर खैरवार व शिवम मराठा शामिल थे।

पोखरवार जंगल में हुआ था गैंग लीडर का एन्काउंटर
इनमें से गैंगलीडर ललित पटेल को पुलिस ने 6 अगस्त 2017 की शाम पोखरवार जंगल में मुठभेड़ के दौरान मार गिराया था। जबकि शिवम मराठा और मुलायम को छोडकऱ अन्य डकैत अलग-अलग समय गिरफ्तार कर सलाखों के पीछे पहुंचा दिए गए थे। अब मुलायम की गिरफ्तारी के साथ ही गैंग का एकमात्र सदस्य शिवम पकड़ से बचा हुआ है जो अपनी जान बचाने के लिए काफी पहले ही जंगल छोड़ कर चंपत हो चुका है।

समाचार पर अपनी प्रतिक्रिया यहाँ दें l

ई-पेपर