comScore

पुलिस की दादागिरी: चैकिंग के दौरान मारा कार चालक को घूंसा, फिर दी 353 की धमकी

पुलिस की दादागिरी: चैकिंग के दौरान मारा कार चालक को घूंसा, फिर दी 353 की धमकी

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। वाहन चैकिंग के नाम पर सभ्रांत लोगों से अभद्रता करना उनसे पैसे ऐंठना व जेल में ठूंस देने की धमकी देकर हर तरह की मनमानी करने जैसे कृत्य करने वाली जबलपुर पुलिस का असली चेहरा जब तब सामने आता रहता है। किंतु पिछले कुुछ दिनों से पुलिस अब सरेराह इस तरह की दबंगई दिखा रही है कि आम आदमी पुलिस की परछाई से भी डरने लगा है।  

इस संबंध में बताया गया है कि ब्लैक फिल्म और अन्य तरह की चैकिंग की आड़ में ट्रैफिक पुलिस आम जनता के साथ अभद्रता कर रही है। बुधवार की रात करीब 8 बजे छोटीलाइन चौक पर एक ऐसी ही घटना को लेकर भारी हंगामा हुआ। दरअसल गंगानगर गढ़ा निवासी कार सवार शैलेन्द्र तिवारी ग्वारीघाट जा रहा था। 

कार खड़ी करने के पहले ही कर दी हाथापाई 
शैलेन्द्र के अनुसार उसकी कार में ब्लैक फिल्म लगी हुई थी, लेकिन चारों कांच नीचे थे, इसके बावजूद ट्रैफिक आरक्षक रवि साहू ने उसे हाथ देकर रोका। शैलेन्द्र के अनुसार उसने जैसे ही कार रोककर कहा कि कांच तो उतरे हुए हैं, लेकिन रवि के कहने पर वह कार किनारे खड़ी करने के लिए चौराहे से मुड़ने लगा। 

वरिष्ठ अधिकारियों ने की लीपापोती
शैलेन्द्र के अनुसार रवि को लगा कि मैं भाग रहा हूं और वह दौड़कर आया और सीधे उसकी आंख में ठूंसा मार दिया। शैलेन्द्र ने बताया कि आंख में चोट लगने के कारण उसे गुस्सा आ गया और वह कार से उतरकर रवि पर चिल्लाने लगा, इसी बीच सूबेदार रोहित तिवारी आ गए और उसे पीटने के बाद गोरखपुर थाने ले गए। रवि ने अपने परिचितों को बुलाया, जिस पर पुलिस कर्मियों ने अपनी गलती छिपाते हुए धमकी दी कि धारा 353 का मुकदमा दर्ज कर रहे हैं। मामला वरिष्ठ अधिकारियों तक पहुंचा, जिसके बाद समझौता करके विवाद शांत करा दिया गया। आम आदमी पुलिस की परछाई से भी डरने लगा है।  

कमेंट करें
YcvRi