comScore

रेत माफिया को पुलिस संरक्षण- ट्रक रोके तो  महिला एसआई पर भड़के टीआई , आईजी से शिकायत

September 10th, 2019 18:14 IST
रेत माफिया को पुलिस संरक्षण- ट्रक रोके तो  महिला एसआई पर भड़के टीआई , आईजी से शिकायत

डिजिटल डेस्क बरही/ कटनी। रेत के कारोबार में कारोबारियों से पुलिस की मिलीभगत के आरोप तो जब-तब लगते रहते हैं पर बरही थाना में मंगलवार तड़के हुए घटनाक्रम ने पुलिस की कार्यप्रणाली के दाग और गहरा कर दिया है। नाइट ड्यूटी पर तैनात महिला एसआई ने जब तड़के तीन बजे रेत लोड वाहन रोके तो बिना किसी जांच के टीआई ने महिला एसआई को वाहन छोडऩे का फरमान सुना दिया। इतना ही नहीं टीआई ने थाने भेजे गए वाहनों को छोड़ दिया। जब वाहनों को छोडऩे का महिला एसआई ने विरोध किया तो टीआई भड़क उठे। मामला एसपी, आईजी तक पहुंचने के बाद तड़के चार बजे तहसीलदार, नायब तहसीलदार भी मौके पर पहुंंचे और आखिरकार तीन वाहनों पर ओवरलोड का प्रकरण दर्ज किया गया। बरही थाने में टीआई और महिला एसआई के बीच रेत वाहनों को लेकर हुई हॉट-टॉक दिन भर सुर्खियों में रही। 
वाहन रोकते ही तिलमिलाए टीआई-
सोमवार-मंगलवार की रात बरही थाना में पदस्थ एसआई मनीषा पंद्रे की नाईट ड्यूटी थी। डॉयल 100 वाहन में वह रुटीन गश्त कर रही थीं कि तड़के तीन बजे कमानिया गेट पर एक रेत लोड वाहन आता दिखा। जिसे रोककर महिला एसआई ने उनके साथ ड्यूटी कर रहे आरक्षक को वाहन थाने ले जाने कहा। इसी बीच दो वाहन और आते दिखे। उन्हे भी थाने भेज पाती तब तक पहले भेजे गए वाहन को वापस आते देख एसआई को कुछ गड़बड़ नजर आया। जब तक वह वाहन चालक से पूछताछ कर पातीं तब तक डॉयल 100 के चालक के मोबाइल पर टीआई एन.के.पांडेय का फोन आ गया। टीआई ने फोन पर ही हड़काया कि मैं टीआई हूं और किसके आदेश पर रेत के वाहन पकड़े? सभी वाहनों में टीपी है, वाहनों को अभी छोड़ो। जब महिला एसआई ने कहा कि ड्यूटी पर मैं हूं और यदि ईटीपी सही है तो भी वाहनों में मानक क्षमता से अधिक रेत लोड है और ओवरलोडिंग का प्रकरण बनता है। महिला एसआई ने आरोप लगाया कि वाहनों पर कार्रवाई की बात कहने पर टीआई एन.के.पांडेय भड़क गए और फोन पर ही उनके द्वारा बदतमीजी की गई। तब उन्होने रात में ही एसपी और आईजी को जानकारी दी। 
दमोह से ऑपरेट हो रही पुलिस-
सूत्रों का कहना है कि बरही पुलिस दमोह से आपरेट हो रही है। रेत लोड वाहन दमोह की ओर जा रहे थे। उमरिया जिले के सलैया भंडारण स्थल से जारी ईटीपी पर रेत का परिवहन किया जा रहा था। बताया जाता है कि महिला एसआई के वाहन रोकते ही बरही टीआई के पास दमोह के रेत कारोबारी का फोन पहुंचा और टीआई ने रेत कारोबारियों के हिमायती बनकर महिला एसआई को ही खरी-खोटी सुना दी। इस घटनाक्रम से ही जाहिर होता है कि रेत कारोबारियों से पुलिस तार कितने गहरे जुड़े हैं। यही कारण है कि रेत अवैध परिवहन का गैरतलाई की महिलाओं के विरोध के बाद भी पुलिस चुप्पी साधे रही और कार्यवाही के लिए साहस नहीं जुटा पाई। जबकि एक माह के भीतर गैरतलाइ में महिलाएं दो बार वाहनों को रोक चुकी हैं। 
ओवर लोड पर कार्यवाही पर बनी सहमति-
रेत वाहनों को लेकर महिला एसआई के साथ टीआई द्वारा की गई अभद्रता का मामला एसपी एवं आईजी तक पहुंचने पर तड़के चार बजे बरही तहसीलदार सच्चिदानंद तिवारी, नायब तहसीलदार सुरेश सोनी भी मौके पर पहुंचे। राजस्व अधिकारियों ने भी वाहन चालकों के मोबाइल पर ई-टीपी की जांच की। ई-टीपी पाए जाने पर तीन वाहनों पर ओवरलोड की कार्रवाई  करने पुलिस सहमत हुई। बताया जाता है कि मौके पर पांच वाहनों की जांच की गई, जिसमें एक वाहन अंडर लोड मिला लेकिन तीन वाहनों पर ही ओवरलोड की कार्यवाही ने पुलिस को फिर से शक के दायरे में ला दिया कि आखिर चौथा वाहन कहां गायब हो गया।
पहली तारीख से बंद थी ईटीपी-
खनिज विभाग के प्रभारी अधिकारी एस.के.सिंह ने बताया कि एक सितम्बर से ई-टीपी जनरेट होना बंद थी। उमरिया जिले के भंडारण स्थलों की ई-टीपी 9 सितम्बर से जनरेट हो रही हैं पर कटनी जिले के भंडारण स्थलों की ई-टीपी अभी जारी नहीं हो रही हैं। 
इनका कहना है-
बरही थाना की एसआई मनीषा का तड़के लगभग साढ़े तीन बजे जैसे ही फोन आया, तत्काल विजयराघवगढ़ एसडीओपी को मौके पर बरही तहसीलदार को भेजने कहा। तड़के चार बजे तहसीलदार, नायब तहसीलदार भी पहुंच गए थे। सभी वाहनों में ई-टीपी थी, तीन वाहनों पर ओवर लोड की कार्यवाही की गई। टीआई और महिला एसआई को नियमानुसार कार्य करने की समझाइश दी गई है और मामले की जांच करने के निर्देश एसडीओपी को दिए हैं।
-ललित शाक्यवार एसपी कटनी
 

कमेंट करें
zWc1F