comScore
Dainik Bhaskar Hindi

UP के गाजीपुर में अवैध शेल्‍टर होम पर पुलिस की छापेमारी, 3 लोग गिरफ्तार

BhaskarHindi.com | Last Modified - August 11th, 2018 15:35 IST

6k
1
0

News Highlights

  • यूपी के गाजीपुर में अवैध शेल्टर होम पर पुलिस की छापेमार कार्रवाई।
  • 3 लोगों को गिरफ्तार किया।
  • सीएम योगी के सख्त निर्देश के बाद शेल्टर होम की जांच कर रही है पुलिस।


डिजिटल डेस्क, लखनऊ। देवरिया के बालिका गृह में बच्चियों और युवतियों के यौन शोषण की घटना सामने आने के बाद शासन एक्शन में आ चुका है। सीएम योगी आदित्‍यनाथ के सख्त निर्देश के बाद प्रदेशभर में सभी बालिका गृहों की जांच की जा रही है। गाजीपुर में पुलिस ने एक शेल्‍टर होम में शुक्रवार देर शाम को छापेमारी की। इसमें तीन संदिग्ध लोगों को पुलिस ने गिरफ्तार किया है।


पुलिस के मुताबिक शेल्‍टर होम अवैध रूप से चल रहा था। पुलिस ने मामले की जानकारी देते हुए बताया कि जिस शेल्‍टर होम में शुक्रवार को छापेमारी की गई, उसमें सिर्फ एक महिला और एक नाबालिग रह रही थी। फिलहाल पुलिस दोनों से पूछताछ करेगी। 


यूपी के देवरिया में एक बालिका गृह में लड़कियों के कथित शोषण के आरोपों बाद मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ ने गंभीरता दिखाई। उन्‍होंने तत्‍काल प्रभाव से वहां के जिलाधिकारी सुजीत कुमार को सस्‍पेंड कर दिया था।मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ ने सभी जिलों के डीएम को सभी शेल्टर्स होम का निरीक्षण कर 12 घंटे के अंदर रिपोर्ट देने को कहा था।


मुख्‍यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने प्रदेश के सभी जिलाधिकारियों को अपने संबंधित जिलों में स्थित बाल गृह तथा महिला संरक्षण गृह के व्यापक निरीक्षण करने के निर्देश दिए हैं। मुख्‍यमंत्री ने कहा कि यह भी सुनिश्चित किया जाए कि यहां पर रह रहे बच्चों और महिलाओं को किसी भी प्रकार की परेशानी न हो।


देवरिया के एक बालिका गृह में लड़कियों के साथ यौन शोषण का मामला सामने आने के बाद यूपी सरकार एक्शन मोड में है। सरकार ने इस पूरे मामले की जांच अब CBI को सौंप दी है। सरकार ने इसके साथ ही ADG क्राइम के नेतृत्व में एक SIT भी गठित की है। यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ ने खुद यह बात मीडिया को एक प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान बताई। सीएम योगी ने कहा, 'हम देवरिया शेल्टर होम केस CBI को ट्रांसफर कर रहे हैं। इसके साथ ही हमने ADG क्राइम के नेतृत्व में SIT भी गठित की है।'


सीएम योगी ने कहा, 'CBI ने 2015-16 में कहा था कि इस शेल्टर होम में वित्तीय अनियमितताएं हैं। 2017 में जब हमारी सरकार आई तो हमने इस शेल्टर होम को बंद करने का आदेश दे दिया। जिला प्रशासन ने समय पर एक्शन नहीं लिया। इसीलिए जिला अधिकारी का ट्रांसफर कर दिया गया है। हमने यह भी फैसला लिया है कि इस मामले में हम उनके खिलाफ चार्जशीट भी फाइल करेंगे।'


गौरतलब है कि बिहार के मुजफ्फरपुर की तरह ही देवरिया के एक बालिका गृह में लड़कियों के साथ यौन शोषण का मामला सामने आया है। एक बच्ची की शिकायत से यह पूरा मामला सामने आया है। फिलहाल बालिका गृह से सभी लड़कियों को निकालकर सुरक्षित जगह पहुंचाया गया है, वहीं संस्था को सील कर दिया गया है।


मामले सामने आने के बाद योगी सरकार ने अपर मुख्य सचिव महिला कल्याण रेणुका कुमार और एडीजी अंजू गुप्ता के नेतृत्व में जांच कमेटी देवरिया भेजी थी, जिसने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि विंध्यवासिनी बालिका गृह 2009 से संचालित था। संस्थान में सीबीआई के द्वारा मुकदमा भी चलाया जा रहा है। रिपोर्ट में डीएम और बाल कल्याण समिति की लापरवाही भी सामने आई है। 
 

समाचार पर अपनी प्रतिक्रिया यहाँ दें l

ये भी देखें

ई-पेपर