comScore

गर्भ निरोधक दवाइयां और इंजेक्शन धूल खा रहे, डोज देने की नहीं दी गई ट्रेनिंग

गर्भ निरोधक दवाइयां और इंजेक्शन धूल खा रहे, डोज देने की नहीं दी गई ट्रेनिंग

डिजिटल डेस्क, नागपुर। जनसंख्या नियंत्रण कार्यक्रम पर अमल में स्वास्थ्य विभाग की लापरवाही सामने आई है। स्वास्थ्य उपसंचालक कार्यालय से जिला परिषद स्वास्थ्य विभाग को गर्भनिरोधक इंजेक्शन "अंतरा' और गोलियां "छाया' की आपूर्ति कर दी गई, लेकिन प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों में कार्यरत डॉक्टरों को प्रशिक्षण नहीं दिया गया। डॉक्टरों के प्रशिक्षण के इंतजार में "अंतरा' गोदाम में धूल खा रही हैं। जनसंख्या नियंत्रण पर सरकार करोड़ों रुपए खर्च करती है। जनजागरण के साथ परिवार नियोजन शल्यक्रिया, गर्भनिरोधक औषधि, कॉपर टी, कंडोम का वितरण वर्षों से किया जा रहा है। अब "अंतरा' इंजेक्शन और "छाया' गोलियों का समावेश किया गया है। केंद्र सरकार की ओर से सभी राज्यों को आपूर्ति की गई है। महाराष्ट्र में इंजेक्शन और गोलियों की आपूर्ति कर स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी, कर्मचारियों को प्रशिक्षण दिया जा रहा है। पहले चरण में मेडिकल कॉलेज, दूसरे चरण में जिला अस्पताल में कार्यरत डॉक्टर और स्वास्थ्य कर्मचारियों को प्रशिक्षण दिया गया। तीसरे चरण में प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों को प्रशिक्षण दिया जाना है। प्रशिक्षण देने से पहले ही इंजेक्शन की आपूर्ति कर देने से जिला परिषद के गोदाम में धूल फांकते मिलीं।

अंतरा के 4 डोज

बता दें कि "अंतरा' गर्भनिरोधक इंजेक्शन है। इसके 3 महीने के अंतराल से 4 डोज दिए जाते हैं। पहला डोज देने से पहले लाभार्थी की कुछ जांच करनी पड़ती है। इसलिए पहला डॉक्टर से इंजेक्शन लगाना जरूरी है। इसके लिए डॉक्टर को विशेष प्रशिक्षण दिया जाता है। प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों के डॉक्टरों का प्रशिक्षण अभी नहीं हुआ है। जिला परिषद के स्वास्थ्य विभाग को इंजेक्शन की आपूर्ति की गई है। सूत्रों ने बताया कि डॉक्टरों के प्रशिक्षण के बाद ही पहला इंजेक्शन लगाया जाएगा। तब तक गोदाम में ही पड़े रहेंगे।

छाया का डोज  सप्ताह में एक बार  

इसी तरह  "छाया' गर्भनिराेधक गोली है। गर्भधारणा रोकने के लिए सप्ताह में एक डोज दिया जाता है। इसके लिए किसी विशेष प्रशिक्षण की आवश्यकता नहीं है। स्वास्थ्य कर्मचारी, परिचारिका, आशा वर्कर के माध्यम से इच्छुकों को इसका वितरण शुरू किए जाने की जानकारी मिली है लेकिन इसके वितरण में भी उदासीनता बरती गई है।

प्रशिक्षण के बाद दिया  जाएगा पहला डोज

केंद्र सरकान ने "अंतरा' इंजेक्शन की आपूर्ति की है। प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों के डॉक्टरों को प्रशिक्षण मिलने के बाद इसे लगाया जाएगा। पहले दो चरण में मेडिकल कॉलेज और जिला अस्पताल के डॉक्टरों को प्रशिक्षण दिया गया है। प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों में डॉक्टरों का प्रशिक्षण अभी होना बाकी है। जो लाभार्थी मेडिकल, मेयो या डागा अस्पताल में प्रशिक्षित डॉक्टरों द्वारा इंजेक्शन लगाए जा रहे हैं। - असिम इनामदार, अतिरिक्त जिला स्वास्थ्य अधिकारी
 

कमेंट करें
yEqJD