comScore
Dainik Bhaskar Hindi

बोहरा समाज से बोले पीएम मोदी, कहा- मेरा आपसे पुराना रिश्ता

BhaskarHindi.com | Last Modified - September 14th, 2018 15:40 IST

7.8k
2
2

News Highlights

  • बोहरा समाज के वाअज़ में शमिल हुए पीएम मोदी
  • शिया मस्जिद में बोहरा समाज के लोगों को किया संबोधित
  • दाऊदी बोहरा समाज के 53वें धर्मगुरु सैयदना आलीकदर मुफद्दल सैफुद्दीन मौला से की मुलाकात


डिजिटल डेस्क, भोपाल। इंदौर पहुंचे प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने शिया मस्जिद में बोहरा समाज के लोगों को संबोधित किया। यह दूसरा मौका है, जब मोदी मोहर्रम की वाअज यानी प्रवचन में शामिल हुए। इससे पहले गुजरात के मुख्यमंत्री रहते हुए वे सूरत में हुई मोहर्रम की वाअज में शामिल हुए थे। पीएम मोदी ने दाऊदी बोहरा समाज के 53वें धर्मगुरु सैयदना आलीकदर मुफद्दल सैफुद्दीन मौलाना से मुलाकात की है। इस दौरान धर्मगुरू ने पीएम मोदी को जन्मदिन की अग्रिम बधाई दी। पीएम मोदी वाअज में शामिल होने के बाद सांघी मैदान के लिए रवाना हो चुके हैं। इसके बाद वे वापस दिल्ली के लिए रवाना हो जाएंगे। 

पीएम मोदी ने कहा...
मैं जब गुजरात का प्रधानमंत्री था तब मुझे बोहरा समाज का कदम-कदम पर साथ मिला। पीएम मोदी ने कहा कि आप सभी के बीच में आना हमेशा मुझे प्रेरणा देता है, एक नया अनुभव देता है। अशरा मुबारक, के इस पवित्र अवसर पर आपने मुझे बुलाया इसलिए आपका आभारी हूं।उन्होंने कहा कि बोहरा समाज हमेशा से शांति का पैगाम देता रहा है। प्रधानमंत्री ने कहा कि इमाम हुसैन अमन और इंसाफ के लिए शहीद हो गए। बोहरा समाज दुनिया को हमारे देश की ताकत बता रहा है। हमें अपने अतीत पर गर्व है, वर्तमान पर विश्वास है। बोहरा समाज ने शांति के लिए जो योगदान दिया है, उसकी बात हमेशा मैं दुनिया के सामने करता हूं। बोहरा समाज की भूमिका राष्ट्रभक्ति के प्रति सबसे अहम रही है।धर्मगुरु अपने प्रवचन के माध्यम से अपनी मिट्टी से मोहब्बत की बातें कहते हैं।

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा...
बोहरा समाज के वाअज में शामिल हुए सीएम शिवराज सिंह चौहान ने कहा, बोहरा समाज एक ऐसा समाज है जिसने हमेशा देश की मदद की है। देश से मोहब्बत की है। बोहरा समाज सबसे अनुशासित समाज रहा है। 

बता दें कि दाऊदी बोहरा समाज के 53वें धर्मगुरु सैयदना आलीकदर मुफद्दल सैफुद्दीन मौला बुधवार से सैफी नगर मस्जिद में 9 दिनी वाअज फरमा रहे है। वाअज सुबह 10 से दोपहर 2 बजे तक होगी। यह पहला मौका था जब कोई प्रधानमंत्री बोहरा समाज की वाअज में शामिल हुए। कार्यक्रम में सैयदना 15 मिनट हिंदी में बोलेंगे। इसके बाद 15 मिनट प्रधानमंत्री और 10 मिनट मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान संबोधित किया। गौरतलब है कि वाअज में सैयदना गुजराती, उर्दू और अरबी का इस्तेमाल करते हैं।

पीएम मोदी के इंदौर आगमन के राजनीतिक मायने भी लगाए जा रहे है। चूंकि बोहरा समाज के 35 हजार लोग शहर में रहते हैं, जबकि साढ़े चार लाख आबादी प्रदेश में, वहीं देश में 20 लाख बोहरा समाजजन हैं। इसी साल प्रदेश और पड़ोसी राज्य छत्तीसगढ़ के साथ ही राजस्थान और तेलंगाना में विधानसभा चुनाव होना है। यही वजह है कि चुनावी राज्य के इस शहर में हो रहे इस आयोजन में प्रधानमंत्री की उपस्थिति को राजनीतिक फायदे और चुनावी कैंपेन की अप्रत्यक्ष शुरुआत से जोड़कर देखा जा रहा है। 

मीडिया को प्रवेश नहीं
शहर का हर वो हिस्सा जहां वाअज रिले की जाएगी वहां सैफी एम्बुलेंस खड़ी की गई थी। पीएम मोदी के दौरे के चलते इंदौर में सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किये गए थे। पुलिस के 3500 जवान सुरक्षा व्यवस्था में तैनात रहे। शहर के 500 डॉक्टर्स मेडिकल इमरजेंसी के लिए उपलब्ध रहे। साथ ही इस कार्यक्रम की सुरक्षा के लिए सैयदना साहब के 15 हजार सुरक्षा कर्मी भी तैनात किए गए थे। शहर में स्वच्छता बनी रहे, इसके लिए नजाफत कमेटी बनाई गई, जिसमें 800 लोग हैं। ये चप्पे-चप्पे पर खड़े हैं, ताकि वाअज़ के दौरान देश के सबसे स्वच्छ शहर में एक भी जगह कचरा न दिखाई दे। 
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इंदौर एयरपोर्ट पर आने के बाद सड़क मार्ग के जरिये सैफी मस्जिद पहुंचे। उनका काफिला एयरपोर्ट से कालानी नगर, रामचंद्र नगर चौराहा, बड़ा गणपति, राज मोहल्ला चौराहा, गंगवाल बस स्टैंड, महू नाका, कलेक्ट्रेट, फल्सीकर, मणिकबाज ब्रिज होते हुए ट्रांसपोर्ट नगर तिराहा से होते हुए सैफी नगर मस्जिद पहुंचा।


 

समाचार पर अपनी प्रतिक्रिया यहाँ दें l

ई-पेपर